Home /News /madhya-pradesh /

मंत्रियों और बड़े नेताओं के इलाकों में निकले सबसे ज़्यादा बोगस वोटर्स

मंत्रियों और बड़े नेताओं के इलाकों में निकले सबसे ज़्यादा बोगस वोटर्स

म.प्र. के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी

म.प्र. के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी

कांग्रेस लगातार शिकायत कर रही है कि प्रदेश की मतदाता सूची में बड़ी संख्या में फर्ज़ी नाम शामिल हैं. उसकी शिकायत सही निकली, जब मतदाता सूची में से 24 लाख ऐसे नाम हटाए गए.

मध्य प्रदेश में अभी तक 24 लाख बोगस वोटर्स हटाए दिए गए हैं. सबसे ज्यादा बोगस वोटर्स के नाम भोपाल की हुजूर विधान सभा सीट में पकड़ में आए. भोपाल के बाद दूसरे नबंर पर इंदौर रहा. ख़ास बात ये है कि मंत्रियों और बड़े नेताओं के इलाके में ज़्यादा फर्ज़ी वोटर पाए गए.

कांग्रेस लगातार शिकायत कर रही है कि प्रदेश की मतदाता सूची में बड़ी संख्या में फर्ज़ी नाम शामिल हैं. उसकी शिकायत सही निकली, जब मतदाता सूची में से 24 लाख ऐसे नाम हटाए गए. चौंकाने वाली बात ये है कि सबसे ज़्यादा फर्ज़ी मतदाता भोपाल में ही निकले. भोपाल के हुजूर विधानसभा क्षेत्र में सबसे ज़्यादा 36 हज़ार 205 वोटर्स बोगस पाए गए. इनका नाम वोटर लिस्ट से हटा दिया गया. बीजेपी के रामेश्वर शर्मा यहां से विधायक हैं.

दूसरे नंबर पर इंदौर 5 क्षेत्र रहा. यहां से महेंद्र हार्डिया बीजेपी विधायक हैं. इस क्षेत्र में 31 बज़ार 789 वोटर्स के नाम लिस्ट से काटे गए. खास बात ये है कि 5 मंत्रियों के क्षेत्र भी ऐसे निकले जहां 20- हजार से ज्यादा बोगस वोटर्स के नाम हटाए जा चुके हैं. इनमें विश्वास सारंग की नरेला (भोपाल) से 28606 वोटर्स, रुस्तम सिंह की मुरैना से 27281 वोटर्स, उमाशंकर गुप्ता की दक्षिण पश्चिम विधानसभा से 25820, सुरेद्र पटवा की भोजपुर सीट से 22851 औऱ शिवपुरी में 21928 वोटर्स बोगस होने पर वोटर लिस्ट से हटा दिए गए हैं.

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की चुरहट सीट में 9861 बोगस वोटर्स मिले तो बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर के गोविंदपुरा इलाके में ऐसे 21837 वोटर्स थे.
भोपाल उत्तर में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आरिफ अकील के इलाके में 18167, भोपाल मध्य में 22591, राऊ से कांग्रेस नेता जीतू पटवारी विधायक हैं. उनके इलाके में 26 हज़ार 359 बोगस वोटर्स निकले.

कांग्रेस लगातार आरोप लगा रही है कि फर्ज़ी वोटर्स बीजेपी को जिताने में काम आ रहे हैं. उसके आरोप में दम भी है, क्योंकि ये फर्ज़ीवाड़ा उन इलाकों में ज़्यादा है, जहां से बीजेपी और विपक्ष के बड़े नेता विधायक हैं. कई ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं, जहां हार-जीत का अंतर इन बोगस वोटर्स की संख्या से कम रहा है.

ये भी पढ़ें - राहुल गांधी अगले महीने से शुरू करेंगे मध्य प्रदेश का दौरा, हर संभाग में 2-3 दिन रहेंगे

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी, 'सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश में हो रहे हैं रेप'

Tags: Assembly Elections 2018

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर