व्यापम घोटाला: सीबीआई ने की बंगले की मांग, बताया खास कारण

Vyapam Scam: सूत्रों के मुताबिक व्यापम मामले में लगातार बढ़ रहे केस और जांच के बढ़ते दायरे को लेकर सीबीआई ने अपने हेडक्वाटर से गुहार लगाई है कि उन्हें स्थाई बंगले आवंटित किए जाएं.

Makarand Kale | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 4, 2018, 2:44 PM IST
व्यापम घोटाला: सीबीआई ने की बंगले की मांग, बताया खास कारण
व्यापम
Makarand Kale | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 4, 2018, 2:44 PM IST
मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापम घोटाले की जांच कर रही सीबीआई अब बंगलों पर स्थाई कब्ज़े की तैयारी में है. सूत्रों के मुताबिक व्यापम मामले में लगातार बढ़ रहे केस और जांच के बढ़ते दायरे को लेकर सीबीआई ने अपने हेडक्वाटर से गुहार लगाई है कि उन्हें स्थाई बंगले आवंटित किए जाएं.

दरअसल, सीबीआई को प्रोफेसर कॉलोनी में बी-10 समेत 2 बंगले आवंटित हैं, जहां सीबीआई के अफसर 170 केस, 3 हजार आरोपियों की जांच कर सकती हैं. सीबीआई के अफसरों का अनुमान है कि केस का ट्रायल करीब 10 साल चल सकता है. ऐसे में बंगले खाली करने का नोटिस अगर मिला तो मुश्किलें काफी बढ़ सकती है.

बता दें कि व्यापम घोटाले की जांच पहले एसटीएफ कर रही थी उसके बाद जांच सीबीआई को सौंप दी गई. सीबीआई ने बढ़े स्टाफ की वजह से स्थाई बंगले की मांग की है. दरअसल, व्यापमं महाघोटाले की जांच बीच में अधर में फंस गई है. कोर्ट में व्यापम के मामलों की सुनवाई करने वाले मजिस्ट्रेट ही नहीं थे. सीबीआई ने मजिस्ट्रेट नियुक्त करने के लिए हाईकोर्ट से गुहार लगाई है. मजिस्ट्रेट नहीं होने की वजह से सीबीआई कई मामलों की चार्जशीट पेश नहीं कर पा रही है.

व्यापमं मामलों की जांच अब अंतिम चरण में थी, हालांकि अब मामला आगे बढ़ सकता है. सीबीआई ने सितंबर 2018 तक बचे हुए सभी मामलों में जांच पूरी कर चार्जशीट पेश करने का टारगेट रखा था, लेकिन मजिस्ट्रेट नहीं होने की वजह से सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट पेश नहीं कर पा रही है.

यह भी पढ़ें- कैबिनेट बैठक पर राजनीति गरमाई, सरकार ने कहा- नहीं लेंगे चुनाव आयोग की अनुमति

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 4, 2018, 2:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...