लाइव टीवी

MP: जनता को सेहत की 'संजीवनी' देगी सरकार, CM कमलनाथ करेंगे उद्घाटन

Puja Mathur | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 6, 2019, 6:14 PM IST
MP: जनता को सेहत की 'संजीवनी' देगी सरकार, CM कमलनाथ करेंगे उद्घाटन
सरकार का राज्य में 268 संजीवनी क्लीनिक खोलने का टारगेट है.

मध्‍य प्रदेश सरकार दिल्‍ली की मोहल्‍ला क्‍लीनिक की तर्ज पर 'संजीवनी क्लीनिक' (Sanjeevani Clinic) शुरू करने जा रही है. शनिवार (7 दिसंबर) को इंदौर में मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) और राजधानी भोपाल में विधानसभा अध्‍यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति (Narmada Prasad Prajapati) इसकी शुरुआत करेंगे.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश की कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) भी दिल्ली की तर्ज पर मोहल्ला क्लीनिक की शुरुआत करने जा रही है. जबकि प्रदेश में इसे 'संजीवनी क्लीनिक' (Sanjeevani Clinic) का नाम दिया गया है. इसकी शुरुआत शनिवार (7 दिसंबर) को इंदौर में मुख्यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) और राजधानी में मध्य प्रदेश विधानसभा अध्‍यक्ष नर्मदा प्रसाद प्रजापति (Narmada Prasad Prajapati) व जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा (PC Sharma) करेंगे. संजीवनी क्लीनिक में डॉक्टर और स्टॉफ की तैनाती के लिए NRHM की भर्ती की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. अभी संजीविनी क्लीनिक सिर्फ महानगरों में खोली जानी हैं. इसके लिए डॉक्टर्स को 60 हजार रुपए वेतन के साथ प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी. संजीवनी क्लीनिक के लिए डॉक्टर्स की भर्ती संविदा से की गई है. बता दें कि राजधानी के 85 वार्डों में ये क्लीनिक खोलने का सरकार का टारगेट है.

 क्‍लीनिक में मिलेंगी ये सुविधाएं
क्लीनिक खोलने के लिए एनएचएम ने प्रस्ताव तैयार किया है. इसके पहले डॉक्टर, लैब टेक्नीशियन, फार्मासिस्टों की नियुक्ति और जगह का चयन किया जाना है. महानगरों में बस्तियों में ये क्लीनिक खोले जाएंगे, क्योंकि इन इलाकों में संक्रामक बीमारियां ज्यादा होती हैं. क्लीनिक का समय सुबह 10 से शाम 6 बजे तक होगा. इसके साथ ही मरीजों को ओपीडी की सुविधा भी मिल सकेगी. डॉक्टर की ओर से लिखी दवाएं मरीजों को क्लीनिक से ही नि:शुल्क दी जाएंगी. हीमोग्लोबिन, मलेरिया, टायफाइड, प्रेग्नेंसी समेत आठ जांचें भी क्लीनिक में ही रैपिड किट से हो जाएंगी. बाकी जांचें संबंधित जिला अस्पतालों में कराई जाएंगी. यहां बुखार, सर्दी खांसी समेत अन्य बीमारियों का इलाज भी मिलेगा. ये प्रदेश की पहली संजीवनी क्लीनिक होगी जिसकी शुरुआत भोपाल और इंदौर से होगी. क्लीनिक के लिए जगह उपलब्ध कराने का जिम्मा नगरीय आवास विभाग को सौंपा गया है.

मंत्री ने कही ये बात

स्वास्थ्य विभाग के पास डॉक्टरों की कमी पहले से है ऐसे में संजीवनी क्लीनिक के लिए डॉक्टरों की सुविधा पर भी सरकार का ध्यान है. सरकार ने निर्णय लिया है कि डॉक्टरों को 60 हजार रुपए वेतन के साथ प्रोत्साहन राशि भी दी जाए. संजीवनी क्लीनिक के लिए डॉक्टरों की भर्ती संविदा से की जाएगी. स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट का कहना है कि हर किसी को राइट टू हेल्थ देना सरकार की प्राथमिकता है और इसके लिए सरकार अपने वचन को निभाते हुए विकास की ओर कदम बढ़ा रही है.

बहरहाल, सरकार का स्वास्थ्य अधिकार देने के लिए संजीवनी क्लीनिक का शुरू करना जनता के लिए वरदान से कम नहीं होगा. सरकार ने इस प्रोजेक्ट को शुरू करने के लिए दो विभागों की मदद ली है. जबकि सरकार का राज्य में 268 संजीवनी क्लीनिक खोलने का टारगेट है.

ये भी पढ़ें-MP में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, पुतलादहन पर WhatsApp ग्रुप में 'GOOD' लिखने वाले कलेक्टर का विभाग बदला

वांटेड जीतू सोनी की प्रेस की लीज रद्द, गिरफ्तारी पर 1 लाख के इनाम की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 6, 2019, 5:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर