बेसहारा बच्‍चों का 'पिता' बन भविष्य संवारेंगे CM कमलनाथ, BJP ने सरकार पर कसा तंज

गरीब तबके के बारे में सोचने वाली सरकार-जीतू पटवारी

भिक्षावृत्ति (Beggarship) और अनाथ (Orphans) बच्चों के लिए मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) अब सहारा बनने जा रहे हैं. जी हां, अब प्रदेश में खुशहाल नौनिहाल योजना (Khushal Nahanihal Scheme) के तहत अनाथ और बेसहारा बच्चों का भविष्य संवारा जाएगा.

  • Share this:
भोपाल. मध्‍य प्रदेश के भिक्षावृत्ति (Beggarship) और अनाथ (Orphans) बच्चों के लिए मुख्‍यमंत्री कमलनाथ (Chief Minister Kamal Nath) अब सहारा बनने जा रहे हैं. जी हां, प्रदेश में सीएम की पहल पर खुशहाल नौनिहाल योजना (Khushal Nahanihal Scheme) के तहत अनाथ और बेसहारा बच्चों का भविष्य संवारा जाएगा. यकीनन सीएम अब अनाथ और बेसहारा बच्चों के 'पिता' बनेंगे यानी ट्रैफिक सिग्नल व सड़कों पर भीख मांगने वाले बच्चे और बाल मजदूरी करने वाले बच्चों को मुख्यमंत्री कमलनाथ गोद लेंगे. इस योजना के तहत बच्‍चों का ना सिर्फ भविष्य संवारा जाएगा, बल्कि पढ़ाई-लिखाई से लेकर खाने पीने का इंतजाम भी किया जाएगा.

बड़ी संख्या में बच्‍चों को किया जा रहा है रेस्क्यू
भोपाल संभागायुक्त की पहल पर राजधानी भोपाल में खुशहाल नौनिहाल योजना के तहत बच्चों को लगातार रेस्क्यू किया जा रहा है. जबकि अब ऐसे बच्चों को सीएम कमलनाथ गोद लेने जा रहे हैं, जो कि उनके भविष्य को संवारेंगे.

गरीब तबके के बारे में सोचने वाली सरकार
सीएम कमनलाथ की खुशहाल नौनिहाल योजना के जरिए अब भिक्षावृत्ति, ट्रैफिक सिग्नल पर भीख मांगने वाले बच्चों, अनाथ और बेसहारा बच्चों के भविष्य को संवारा जाएगा. इस पर उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी का कहना है कि मुख्‍यमंत्री कमलनाथ की काम करने की जो शैली है, वो अपने आप में शानदार हैं. यह गरीब तबके के बारे में सोचने वाली सरकार है. यकीनन गरीब तबके पर ध्यान देने की जरूरत है. वो बच्चा, जिसका इस संसार में कोई नहीं है, उसकी सरकार है. भाजपा चाहे कुछ भी कहे, लेकिन जनता ने उनको हटाया है और कमलनाथ सरकार को बुलाया है.

योजनाएं हजार और अमल एक पर भी नहीं
खुशहाल नौनिहाल योजना के तहत बच्चों को गोद लेने पर भाजपा के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि ये तो भाजपा के समय में ही योजना चलती थी. रेलवे स्टेशन और दूसरी जगह से बच्चों को लेकर छात्रावास में रख कर पढ़ाई-लिखाई कराते थे. ये योजनाएं तो सब बना रहे हैं, लेकिन एक साल में एक पर भी अमल नहीं हो पा रहा है. एक साल में विधान परिषद की बात कही, गौशाला की भी बात कही, लेकिन क्‍या हुआ. इनके नेता राहुल गांधी एक अखबार बेचने वाले बच्चे को गोद लेकर गए थे, वो बेचारा मारा-मारा फिर रहा है. ऐसा ना करें, जो करें वो अच्छा करें. हमारी शुभकामनाएं हैं.

ये भी पढ़ें-
हाथियों के आतंक से दहशत में ग्रामीण, ट्रेन की रफ्तार भी हुई धीमी

मवेशियों की सेवा मुफ्त नहीं करेगी कमलनाथ सरकार, पशु पालन मंत्री ने दी सफाई

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.