Corona मरीज की जिंदगी से खिलवाड़ का यह रहा अहम सबूत, Video फुटेज में सामने आई शर्मनाक हरकत
Bhopal News in Hindi

Corona मरीज की जिंदगी से खिलवाड़ का यह रहा अहम सबूत, Video फुटेज में सामने आई शर्मनाक हरकत
भोपाल के चिरायु अस्पताल में इलाज में लापरवाही से कोरोना मरीज की जान चली गई.

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना वायरस (COVID-19) संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए नोडल सेंटर बनाए गए चिरायु अस्पताल (Chirayu Hospital) की शर्मनाक करतूत से कई सवाल उठ खड़े हुए हैं. सीएम शिवराज ने घटना की जांच के दिए आदेश.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी में COVID-19 मरीजों के लिए नोडल सेंटर बनाए गए चिरायु अस्पताल (Chirayu Hospital) की शर्मनाक करतूत से कई सवाल उठ खड़े हुए हैं. न्यूज 18 के पास कोरोना पॉजिटिव मरीज को सड़क पर फेंकने से लेकर उसे इलाज के लिए ले जाने तक के करीब 2 घंटे की सीसीटीव फुटेज है, जिसमें चिरायु अस्पताल प्रबंधन और उसके कर्मचारियों की लापरवाही साफ सामने आ रही है. मामले के सामने आने के बाद जब बवाल मचा तब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने पूरी घटना की मजिस्ट्रियल जांच का आदेश दिया है.

यह है पूरा मामला

भोपाल के पीपुल्स अस्पताल में भर्ती मरीज को सांस लेने में तकलीफ थी. जांच के दौरान उनमें कोरोना की भी पुष्टि हुई, तो परिजनों को बताया गया कि उनका इलाज कोविड नोडल सेंटर चिरायु अस्पातल में किया जाएगा. बीती 6 जुलाई की शाम साढ़े 5 बजे मालवीय नगर स्थित पीपुल्स अस्पताल से कोरोना पॉजिटिव मरीज को चिरायु अस्पताल कोविड सेंटर की एंबुलेंस अपने साथ ले गई.



न्यूज 18 के पास मौजूद सीसीटीवी वीडियो फुटेज में इस एंबुलेंस में PPE किट पहने एक ड्राइवर और एक अटेंडेंट नजर आ रहा है. ठीक 2 घंटे बाद 7:30 बजे चिरायु अस्पताल से एंबुलेंस वापस पीपुल्स अस्पताल पहुंचती है और इसमें से कोरोना पॉजिटिव मरीज को स्ट्रेचर से उठाकर अस्पताल के सामने सड़क पर पटक दिया जाता है. इसके बाद एक वीडियो पीपुल्स अस्पताल के अंदर का है, जिसमें डॉक्टरों की टीम कोरोना मरीज वाजिद का चेकअप कर रही है, लेकिन जब तक मरीज की जान जा चुकी थी.
इलाज के बजाये मरीज को वापस भेजने पर सवाल

भोपाल में चिरायु अस्पताल को COVID-19 मरीजों के इलाज के लिए कोविड सेंटर बनाया गया है. लेकिन यहां से कोरोना पॉजिटिव मरीज को बगैर इलाज लौटा देने पर सवाल उठ रहे हैं. पीपुल्स अस्पताल से ले जाने के बाद चिरायु अस्पताल में उसका इलाज न करने और मरीज को उठाकर सड़क पर फेंक देने के मामले ने अब तूल पकड़ लिया है. जानकारी मिल रही है कि चिरायु अस्पताल की एंबुलेंस में ऑक्सीजन भी नहीं था, जिसकी वजह से मरीज की हालत और बिगड़ गई. इसके बाद शर्मनाक ये कि उसे सड़क पर फेंक दिया गया.



मौत का आंकड़ा ना बढ़े इसलिए घिनौनी हरकत

पीपुल्स अस्पताल ने चिरायु हॉस्पिटल की लापरवाही को लेकर थाने और शासन स्तर पर शिकायत की है. यहां के चीफ मैनेजर उदय दीक्षित ने बताया कि कोरोना मरीज की मौत का आंकड़ा न बढ़े, इसलिए कोरोना पॉजिटिव मरीज को भर्ती ना कर उसे वापस हमारे अस्पताल में भेज दिया गया था. कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद हमने अस्पताल में भर्ती मरीजों को आइसोलेट कर दिया था, ऐसे में तत्काल दूसरी व्यवस्था करना संभव नहीं था. चूंकि पीपुल्स अस्पताल कोविड सेंटर नहीं है, फिर भी जब मरीज को वापस लाया गया तो हमने उसकी जांच की, लेकिन जब तक उनकी मौत हो चुकी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज