लाइव टीवी

राष्ट्रीय जल सम्मेलन में CM कमलनाथ ने खोला अपने राजनीति में आने का राज़

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 11, 2020, 1:10 PM IST
राष्ट्रीय जल सम्मेलन में CM कमलनाथ ने खोला अपने राजनीति में आने का राज़
राष्ट्रीय जल सम्मेलन में CM कमलनाथ ने खोला अपने राजनीति में आने का राज़

सीएम कमलनाथ ने आज इस सम्मेलन में राज़ खोला कि वो पानी की खातिर ही राजनीति में आए हैं.

  • Share this:
भोपाल में आज से राष्ट्रीय जल सम्मेलन (National Water Conference) शुरू हुआ. सीएम कमलनाथ (cm kamalnath) ने इसका शुभारंभ किया. सम्मेलन में पानी बाबा मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित राजेन्द्र सिंह सहित 30 राज्यों के जल विशेषज्ञ और पर्यावरणविद शामिल हो रहे हैं. राजेन्द्र सिंह ने right to water के लिए सीएम कमलनाथ को बधाई दी कि उन्होंने पानी के बारे में सोचा, जबकि दूसरे राज्यों ने इस बारे में विचार तक नहीं किया. सीएम कमलनाथ ने आज इस सम्मेलन में राज़ खोला कि वो पानी की खातिर ही राजनीति में आए हैं.

भोपाल में शुरू हुए राष्ट्रीय जल सम्मेलन का सीएम कमलनाथ ने उद्धाटन करने के बाद एक रोचक किस्सा सुनाया. उन्होंने कहा मैं पानी के कारण ही राजनीति में आया हूं. मेरा राजनीतिक जीवन भी पानी से जुड़ा है. उन्होंने किस्सा सुनाया कि मेरा राजनीति में आने का ना तो कोई विचार था. ना ही कोई सोच थी. एक दिन मैं रात में सौंसर से पांढुर्ना जा रहा था. हमने देखा कि लोग रात में 10 बजे  पीपे लेकर लंबी कतारों में लगे हैं. इनमें महिला-पुरुष और बच्चे सब शामिल थे. वो लोग मीलों दूर से चलकर यहां आए थे और 3 घंटे से पानी के लिए लाइन में लगे थे. जब हमने उनसे पूछा तो लोगों ने बताया कि गांव में पानी नहीं है. पानी की कमी के कारण उनके बेटों की शादी नहीं हो पा रही है. दूसरे गांवों के लोग अपनी बेटियां हमारे बेटों को नहीं देते. बस उसी दिन मैंने सोच लिया कि मैं चुनाव के मैदान में उतरूंगा.1979 में राजनीति के मैदान में आने का विचार किया. मैं सिर्फ और सिर्फ पानी के कारण ही राजनीति में आया.

कानून के लिए सीएम ने मांगे सुझाव 
सीएम कमलनाथ ने कहा-कानून तो बन जाएगा कैसा कानून बनाये ये विचार आपको करना होगा. 65 बांध सूखने की कगार पर हैं.नदियां भी सूख रही हैं.नई टेक्नोलॉजी से पानी पर लाने विचार करना होगा.जो 20साल पहले संभव नही था वो आज संभव है. सीएम ने कहा अगर हमने अब भी जल संरक्षण पर विचार नहीं किया तो आने वाली पीढ़ियां हमें कभी भी माफ नहीं करेंगी. उन्होंने राजेन्द्र सिंह से मुखातिब होते हुए कहा-आप सामाजिक कर्तव्य के प्रति आप हमारी भावनाओं से जुड़ें. आप तो देश भर में चक्कर काटते हैं. लेकिन अब देश के कम मध्यप्रदेश के ज्यादा चक्कर लगाइए,ताकि हम कह सकें कि एमपी में पानी की कोई कमी नहीं है.

जल पुरुष राजेन्द्र कुमार ने कहा
जल पुरुष राजेन्द्र कुमार ने Mp की जनता,सरकार और मुख्यमंत्री को बधाई दी. उन्होंने कहा पर्यावरण को बचाने वाले असली नेता आप ही हैं.इस प्रदेश और सीएम ने पानी के बारे में सोचा जबकि दूसरे राज्यों ने इस बारे में अभी विचार तक नहीं किया है.कमलनाथ जी आपने अपने समाज पर विश्वास किया है.आप राइट टू वॉटर लागू कर पानी के झगड़ों को खत्म करके मालिकाना हक देंगे.जल कानून पूरे देश के लिए बनना चाहिए. राजेन्द्र सिंह ने कहा,नदियों को पुनर्जीवित करने का काम एमपी में शुरू हुआ. अब हमें पंचायतों और ग्राम सभाओं से जुड़कर काम करना होगा.जल कानून जल सरंक्षण और अनुशासन को लाता है. अभी ये कानून सिर्फ महाराष्ट्र में है ये कानून सारे देश मे लागू होना चाहिए. दूसरे राज्यों को एमपी से सीखना चाहिए. उन्होंने कमलनाथ के केंद्रीय पर्यावरण मंत्री रहते कामों की तारीफ भी की.
मिंटो हॉल में कॉफ्रेंस
भोपाल के मिंटो हॉल में हो रही राइट टू वॉटर कांफ्रेस में देश भर के करीब 30 राज्यों के जल विशेषज्ञ और पर्यावरणविद शामिल हो रहे हैं.इसमें पानी बचाने और सहेजने को लेकर मंथन हो रहा है.राष्ट्रीय जल सम्मेलन में विशेषज्ञों के विचार के बाद  अगले तीन महीनों में एक ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा. उसमें पानी पर हर व्यक्ति का अधिकार तय किया जाएगा.हर व्यक्ति को 55 लीटर प्रतिदिन पानी और एक करो़ड़ लोगों के घर तक नल से पानी पहुंचाने का लक्ष्य है. 5हजार करोड़ के कामों के टेंडर इसी महीने जारी होंगे.जिसमें 45-45प्रतिशत राशि केंद्र औऱ राज्य सरकार वहन करेंगे. बाकी की राशि जनसहयोग से जुटाई जाएगी.इस एक दिवसीय कांंफ्रेस में देश भर के विशेषज्ञ दो सत्रों में पानी को बचाने पर अपने प्रजेंटेशन देंगे.

ये भी पढ़ें-शादी में राजस्थान गया था मंदसौर का शर्मा परिवार, घर लौटेंगी 9 लाशें

मोबाइल कंपनियों के टावर से कैंसर! इंदौर की 1 कॉलोनी के हर तीसरे घर में मरीज़

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 12:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर