सीएम कमलनाथ ने पीएम मोदी से की गुज़ारिश, एशियाटिक लॉयन लाने में मदद करें

Ashraf Kazmi | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 25, 2019, 6:27 PM IST
सीएम कमलनाथ ने पीएम मोदी से की गुज़ारिश, एशियाटिक लॉयन लाने में मदद करें
फाइल फोटो

.केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने चिंता जताते हुए कहा था कि गिर लॉयन लुप्त होने के कगार पर हैं. इसलिए उनका दूसरा घर बनाना ज़रूरी है.

  • Share this:
सीएम कमलनाथ ने गुजरात के गिर फॉरेस्ट के बब्बर शेर मध्य प्रदेश लाने के लिए फिर कोशिश शुरू की है. उन्होंने एशियाटिक लॉयन (बब्बर शेर) को गिर राष्ट्रीय उद्यान गुजरात से एमपी के कुनो पालमपुर राष्ट्रीय उद्यान शिफ्ट करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है. सीएम ने पीएम मोदी से गुजारिश की है कि वो केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय और गुजरात सरकार को इस संबंध में ज़रूरी निर्देश दें.

सीएम कमलनाथ ने बताया कि एशियाटिक लॉयन (बब्बर शेर) को कुनो राष्ट्रीय उद्यान लाने के लिए भारतीय वन जीव संस्थान और विशेषज्ञों की समिति की सिफारिश के आधार पर मध्यप्रदेश सरकार 24 गांव का पुनर्वास कर चुकी है. इन गांव में 1543 परिवार हैं. साथ ही शेरों के शिकार के लिए भी माकूल माहौल बनाया जा चुका है. इस सारे काम में काफी पैसा खर्च किया जा चुका है. और अब कुनो राष्ट्रीय उद्यान एशियाटिक लॉयन के स्वागत के लिए तैयार है.

ये भी पढ़ें - सतना हत्याकांड : सीएम कमलनाथ बोले- बच्चों की मौत से मन बहुत परेशान है

सीएम कमलनाथ ने बताया कि समिति की सिफारिश के मुताबिक, कुनो उद्यान में 404 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र का जोड़ा जा चुका है.केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय ने चिंता जताते हुए कहा था कि गिर लॉयन लुप्त होने के कगार पर हैं. इसलिए उनका दूसरा घर बनाना ज़रूरी है. अगर एशियाटिक लॉयन को एक ही जगह बांध कर रखा गया तो ये प्रजाति विलुप्त हो जाएगी.

ये भी पढ़ें - PHOTOS : 'महाराज' ने रन बरसाए तो 'महारानी' ने फौरन कैमरा क्लिक किया

समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि यहां ये कहना मुनासिब होगा कि मध्यप्रदेश का कुनो पालनपुर राष्ट्रीय उद्यान एशियाटिक लॉयन के लिए सबसे उपयुक्त स्थान होगा. सुप्रीम कोर्ट के 15 अप्रैल 2013 के आदेश के मुताबिक 6 महिने के अंदर एशियाटिक लॉयन को गुजरात से कुनो अभ्यारण्य में शिफ्ट किया जाना था, लेकिन ये काम अब तक नहीं हो पाया है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 25, 2019, 6:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...