अपना शहर चुनें

States

7 घंटे के दिल्ली दौरे में 5 मंत्रियों से मिलकर लौटे CM शिवराज, जानिए क्या है माजरा

CM शिवराज ने राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की.
CM शिवराज ने राजनाथ सिंह से भी मुलाकात की.

शिवराज सिंह (CM Shivraj) सोमवार दोपहर तीन दिन में दूसरी बार दिल्ली आए थे.दौरे के सबसे अंत में वो गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) से मिले.

  • Share this:
दिल्ली.मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) दिल्ली का तूफानी दौरा करके भोपाल लौट गए. पिछले एक हफ्ते में उनका ये दूसरा दिल्ली दौरा था. उन्होंने अपने 7 घंटे के दौरे में पांच केन्द्रीय मंत्रियों से मुलाकात की.शिवराज ने गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) से नक्सली समस्या पर बात की और बाकी केंद्रीय मंत्रियों से विकास योजनाओं के लिए रजामंदी ली.

शिवराज सिंह सोमवार दोपहर तीन दिन में दूसरी बार दिल्ली आए थे. अपने दौरे के सबसे अंत में वो गृहमंत्री अमित शाह से मिले. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने राजनीतिक चर्चा के अलावा राज्य में बालाघाट, मंडला से बढ़कर नक्सल गतिविधिया अमरकंटक तक फैलने पर चिंता व्यक्त की.उन्होंने नक्सलियों पर लगाम लगाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय से उच्च स्तरीय बैठक बुलाने की भी मांग उठाई. मुख्यमंत्री ने अमित शाह से बाढ़ से फसलों को हुए नुकसान की भरपाई के लिए 1906 करोड़ रुपये राष्ट्रीय आपदा कोष की मांग भी रखी.

सैनिक स्कूल का प्रस्ताव
इससे पहले शिवराज सिंह चौहान ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर ग्वालियर चंबल क्षेत्र में शुरू होने वाले सैनिक स्कूल पर चर्चा की. मुख्यमंत्री ने राजनाथ सिंह से इजाजत मांगी कि जब तक स्कूल की अपनी बिल्डिंग न बने तब तक किसी निजी बिल्डिंग में स्कूल शुरू किया जाए. साथ ही ग्वालियर में DRDO को रिहायशी इलाकों से बाहर 50 हेक्टेयर भूमि राज्य सरकार द्वारा देने की बात भी बताई.
अटल एक्सप्रेस वे


मुख्यमंत्री शिवराज सिंह उसके बाद केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से मिले. उन्होंने चंबल एक्सप्रेस वे का नाम बदलकर अटल एक्सप्रेस वे रखने का सुझाव दिया. शिवराज सिंह ने गडकरी को बताया कि राज्य सरकार एक्सप्रेस वे के लिए 1500 हेक्टेयर भूमि दे रही है. जरूरत पड़ी तो निजी भूमि भी एक्सप्रेस वे के लिए मुहैया कराने का आश्वासन मुख्यमंत्री ने दिया.उन्होंने एक्सप्रेस वे का DPR बनाकर एलाइनमेंट सुनिश्चित करने की बात नितिन गडकरी से की है. मुख्यमंत्री ने बताया कि एक्सप्रेस वे बनने से नए रोजगार के अवसर भी मिलेंगे.

मिठाई-नमकीन क्लस्टर
नितिन गडकरी को 19 MSME के क्लस्टर बनाने का प्रस्ताव भी मुख्यमंत्री शिवराज ने दिया.इसमें जबलपुर का मिष्ठान और नमकीन के क्लस्टर को स्वीकृति मिल गई है. वहीं, भोपाल, गुना और रतलाम के क्लस्टर को सैद्धांतिक स्वीकृति देने पर सहमति बनी है. 15 क्लस्टर पर अभी सैद्धांतिक सहमति होना बाकी है. मध्य प्रदेश के संसदीय क्षेत्रों से सी आर एफ के तहत 26 प्रस्ताव केन्द्र को मंजूरी के लिए भेजे जा चुके हैं. शिवराज सिंह ने नितिन गडकरी से यह सभी प्रस्ताव केन्द्रीय सड़क निधि योजना में स्वीकृत करने की मांग उठाई. इस पर नितिन गड़करी ने भी स्वीकृति जल्द दिलवाने का आश्वासन दिया.

बुंदेलखंड की फिक्र
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को शिवराज सिंह ने बुन्देलखण्ड क्षेत्र में स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से बारे में विस्तार से बताया.उन्होंने एम्स की तर्ज पर छतरपुर और दमोह में मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग की. साथ ही महाकौशल में सिवनी में भी मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग रखी. सिंह ने हर्षवर्धन को सुझाव दिया कि भोपाल गैस पीड़ितों के लिए बनाए गए अस्पताल को आई सी एम आर को सौंपने की बजाए भोपाल एम्स को दें, इससे चिकित्सा सुविधाओं में वृद्धि तो होगी.

जावड़ेकर से मांगी हीरा खदान
सीएम शिवराज केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से भी मिले.उन्होंने पन्ना में कोयला खदान की लीज बढ़ाने की मांग की है.इससे लोगो को रोजगार मिला है. उन्होंने बताया टाइगर रिजर्व में 140 टाइगर हो गए हैं. यह भी पर्यटन के जरिए रोजगार बढ़ाने में मददगार साबित होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज