निजी अस्पतालों को सीएम शिवराज की चेतावनी, कोविड मरीजों के मुफ्त इलाज से इनकार बर्दाश्त नहीं

कोरोना मरीजों का मुफ्त इलाज न करने वाले निजी अस्पतालों को सीएम शिवराज ने दी चेतावनी.

कोरोना मरीजों का मुफ्त इलाज न करने वाले निजी अस्पतालों को सीएम शिवराज ने दी चेतावनी.

मुख्यमंत्री ने कहा कि ब्लैक फंगस रोग के इलाज की भी नि:शुल्क व्यवस्था सरकार कर रही है. प्रदेश में इसके इलाज के लिए 2 हजार एम्फोटेरेसिन इंजेक्शन गुजरात से हवाई जहाज से मंगाए जा रहे हैं.

  • Share this:

भोपाल. गरीबों का मुफ्त इलाज से सरकार से संबद्ध निजी अस्पतालों के इनकार पर सीएम शिवराज सिंह चौहान सख्त हो गए हैं. रविवार को हुई कोरोना की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने साफ शब्दों में कहा कि मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के तहत सम्बद्ध किया गया कोई भी निजी अस्पताल, उनके यहां बेड खाली होने पर, योजना के पात्र किसी कोविड मरीज का निःशुल्क उपचार करने से इनकार करे तो यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. आपको बता दें कि रविवार को सरकार से संबद्ध एक निजी अस्पताल के डॉक्टर का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह मरीज के परिजन से यह कहता हुआ दिखाई दे रहा था कि मुफ्त इलाज के लिए पात्र आयुष्मान कार्ड पर उनके अस्पताल में इलाज नहीं किया जाता. डॉक्टर के इस वीडियो को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे थे.

24,807 कोविड मरीजों का मुफ्त इलाज

प्रदेश में 24,807 कोविड मरीजों को शासकीय और निजी अस्पतालों में नि:शुल्क इलाज दिया जा रहा है. इसमें 17,377 का सरकारी अस्पतालों में निःशुल्क इलाज चल रहा है जबकि 2584 मरीजों का अनुबंधित अस्पतालों में और 4856 मरीजों का मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना से जुड़े निजी अस्पतालों में. प्रदेश में 441 निजी अस्पताल योजना के अंतर्गत संबद्ध किए गए हैं.

ब्लैक फंगस का भी मुफ्त इलाज होगा
मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान कहा कि कोविड के बाद होने वाले ब्लैक फंगस रोग के इलाज की भी नि:शुल्क व्यवस्था सरकार द्वारा की जा रही है. प्रदेश में इसके इलाज के लिए 2 हजार एम्फोटेरेसिन इंजेक्शन गुजरात से हवाई जहाज से मंगाए जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज