Home /News /madhya-pradesh /

cold war between kamal nath arun yadav ends yadav supporter district president reinstated in khandwa burhanpur msg

खंडवा-बुरहानपुर में अरुण यादव समर्थक रिटर्न्स, कांग्रेस ने बहाल किए पुराने जिलाध्यक्ष

MPCC Latest News. बदले सियासी माहौल में कमलनाथ पुराने साथियों को एकजुट कर रहे हैं.

MPCC Latest News. बदले सियासी माहौल में कमलनाथ पुराने साथियों को एकजुट कर रहे हैं.

MPCC NEWS. एमपीसीसी ने आज आदेश जारी कर खंडवा और बुरहानपुर में अरुण यादव समर्थकों को जिले की कमान सौंप दी है.अजय रघुवंशी को बुरहानपुर जिला कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया है. ग्रामीण की जिम्मेदारी किशोर महाजन को सौंप दी गयी है. इसी तरह खंडवा शहर जिलाध्यक्ष इंदल सिंह पवार बनाए गए हैं. ग्रामीण की कमान ओंकार पटेल को दी गई है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. एमपी कांग्रेस में अब ऑल इज वेल की कोशिश तेज हो गई है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और कांग्रेस नेता अरुण यादव के बीच चल रहा मनमुटाव खत्म होने के बाद अब इसका असर संगठन पर भी दिखाई देने लगा है. कांग्रेस पार्टी ने 5 महीने पहले खंडवा और बुरहानपुर जिला अध्यक्ष की कमान संभाल रहे अरुण यादव समर्थकों को दोबारा कमान सौंप दी है.

एमपीसीसी ने आज आदेश जारी कर खंडवा और बुरहानपुर में अरुण यादव समर्थकों को जिले की कमान सौंप दी है.अजय रघुवंशी को बुरहानपुर जिला कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया है. ग्रामीण की जिम्मेदारी किशोर महाजन को सौंप दी गयी है. इसी तरह खंडवा शहर जिलाध्यक्ष इंदल सिंह पवार बनाए गए हैं. ग्रामीण की कमान ओंकार पटेल को दी गई है.

2023 के लिए एकजुटता जरूरी
खंडवा लोकसभा सीट उपचुनाव में कांग्रेस को मिली हार के बाद कमलनाथ ने लंबे समय से खंडवा और बुरहानपुर में जिला अध्यक्ष पद की कमान संभाल रहे अरुण यादव समर्थकों को हटा दिया था. यह माना जा रहा था कि इन दोनों जिलों में अब कमलनाथ समर्थकों को कमान सौंपी जाएगी. लेकिन कमलनाथ ने अरुण यादव पर ही भरोसा जताया. 2023 के चुनाव के लिए कांग्रेस की एकजुटता पार्टी को मजबूती दे सकती है. कमलनाथ से दूरियां बढ़ने के बाद अरुण यादव ने पूरे मामले की शिकायत पार्टी हाईकमान से की थी. बीजेपी ने भी उनसे सहानुभूति दिखाई थी.

ये भी पढ़ें-  पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह की बढ़ सकती हैं मुश्किल, ये है वजह… 

सोनिया गांधी से शिकायत
खंडवा लोकसभा सीट उप चुनाव के लिए अरुण यादव स्वाभाविक दावेदार माने जा रहे थे. लेकिन ऐन वक्त पर उन्होंने अपनी दावेदारी वापिस ले ली थी. उसके कांग्रेस वहां चुनाव हार गयी थी. पार्टी ने इसे भितरघात मानते हुए अरुण यादव समर्थक खंडवा और बुरहानपुर जिलाध्यक्षों को पद से हटा दिया था. उसके बाद अरुण यादव दिल्ली में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिले थे. बीजेपी ने भी खंडवा और बुरहानपुर में लंबे समय तक तैनात रहे अरुण यादव समर्थकों को हटाने पर सहानुभूति जारी जताई थी. अब बदले सियासी माहौल में कमलनाथ पुराने साथियों को एकजुट कर रहे हैं.

Tags: Madhya Pradesh Congress, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर