BJP और कांग्रेस में अच्छे कामों का श्रेय लेने की मची होड़, सिलावट ने इस अभियान को बताया अपनी सोंच

शुद्ध के लिए युद्ध अभियान का श्रेय लेने की कोशिश में नेता हैं. (फाइल फोटो)
शुद्ध के लिए युद्ध अभियान का श्रेय लेने की कोशिश में नेता हैं. (फाइल फोटो)

मंत्री सिलावट के शुद्ध के लिए युद्ध चलाए गए अभियान का श्रेय लेने पर पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह (Dr. Govind Singh) ने निशाना साधा है. कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह के मुताबिक शुद्ध के लिए युद्ध अभियान की शुरुआत उनके गृह जिले से हुई थी

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सियासत में इन दिनों अच्छे कामों का श्रेय लेने की होड़ बीजेपी और कांग्रेस (BJP And Congres) में मच गई है. पिछली कांग्रेस सरकार में शुद्ध के लिए युद्ध अभियान को लेकर अब बीजेपी और कांग्रेस में श्रेय लेने की होड़ मच गई है. कांग्रेस सरकार में स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी संभालने वाले और मौजूदा बीजेपी सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर तुलसीराम सिलावट (Tulsiram Silavat) का बड़ा बयान सामने आया है. मंत्री सिलावट ने कहा है कि मिलावटखोरों के खिलाफ चलाए गए शुद्ध के लिए युद्ध अभियान उनकी खुद की सोंच का नतीजा था.

मंत्री सिलावट के मुताबिक, उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री रहते हुए मिलावटखोरों के खिलाफ अभियान चलाने की सोंच को अमल में लाने का काम किया था. और यही कारण है कि पिछली सरकार में बड़े स्तर पर शुद्ध के लिए युद्ध अभियान चलाया गया था, जिसमें अमानक खाद्य पदार्थों की बिक्री करने वालों के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई हुई थी. मंत्री सिलावट ने शुद्ध के लिए चले युद्ध अभियान का श्रेय लेते हुए किसान कर्ज माफी नहीं होने और विकास कार्य अवरुद्ध होने के पीछे पिछली कमलनाथ सरकार को जमकर कोसा भी है. सिलावट ने कहा कि पिछली सरकार में विकास अवरुद्ध हो गया था, लेकिन अब तेजी के साथ हो रहा है.

डॉक्टर गोविंद सिंह ने निशाना साधा है
मंत्री सिलावट के शुद्ध के लिए युद्ध चलाए गए अभियान का श्रेय लेने पर पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह ने निशाना साधा है. कांग्रेस विधायक गोविंद सिंह के मुताबिक शुद्ध के लिए युद्ध अभियान की शुरुआत उनके गृह जिले से हुई थी. मिलावटखोरों और अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई को लेकर उन्होंने सरकार को सुझाव दिया था. उसके बाद ताबड़तोड़ कार्रवाई हुई थी और बीजेपी सरकार में पनपे माफिया राज के खिलाफ अभियान चलाया गया था. गोविंद सिंह ने दावा किया है माफिया राज के खिलाफ कार्रवाई उनकी पहल का नतीजा था. कांग्रेस विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह ने मंत्री सिलावट से सवाल पूछा है कि यदि पिछली सरकार में मिलावटखोरों के खिलाफ चला अभियान उनकी देन थी तो मौजूदा सरकार में वह अभियान बंद क्यों हो गया.




 श्रेय लेने की होड़ सियासी दलों में भी तेज हुई है
बता दें कि प्रदेश में 28 विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव की वजह से अच्छे कामों का श्रेय लेने की होड़ सियासी दलों के भी तेज हुई है. और यही कारण है कि पिछली सरकार के उपचुनाव से पहले लेने का दावा लेने की कोशिश राजनेता कर रहे हैं. इससे पहले किसानों के खाते में फसल बीमा योजना की राशि डालने को लेकर भी पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ और मौजूदा सीएम शिवराज अपने-अपने दावे थे. लेकिन अब पिछली सरकार में सबसे ज्यादा सुर्खियों में रहे शुद्ध के लिए युद्ध अभियान का श्रेय लेने की कोशिश में नेता हैं, ताकि चुनाव से पहले जनता के बीच अपनी छवि को विकसित किया जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज