लाइव टीवी

मध्य प्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग की बड़ी कार्रवाई, 16 शिक्षकों को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 30, 2019, 8:15 PM IST
मध्य प्रदेश में स्कूल शिक्षा विभाग की बड़ी कार्रवाई, 16 शिक्षकों को दी अनिवार्य सेवानिवृत्ति
परीक्षा में फेल होने वाले शिक्षकों के खिलाफ शिक्षा विभाग की बड़ी कार्रवाई (फाइल फोटो)

स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) ने शिक्षकों को शिक्षा का स्तर सुधारने का मौका देने के बाद अब बड़ी कार्रवाई की है. विभाग ने फेल होने वाले शिक्षकों को बाहर का रास्ता दिखाया है. यानी परीक्षा में 33 फीसदी अंक हासिल ना करने वाले शिक्षकों को विभाग ने आखिरकार अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा विभाग ने खराब रिजल्ट लाने वाले स्कूलों को चिन्हित किया था, जिसके बाद प्रदेश भर में ऐसे खराब रिजल्ट देने वाले स्कूलों के शिक्षकों की परीक्षा ली गई थी. पहली बार परीक्षा में शिक्षकों को किताबें रखने की अनुमति भी दी गई थी. परीक्षा में फेल होने पर शिक्षकों को दूसरा मौका दिया गया था, जिसमें शिक्षकों को ट्रेनिंग के बाद परीक्षा में बैठाया गया था. लेकिन ट्रेनिंग और किताबें रखकर परीक्षा देने के बाद भी शिक्षक फेल हो गए थे. परीक्षा में अनुपस्थित रहे शिक्षकों को भी तीसरा यानी आखिरी मौका देकर उनकी परीक्षा ली गई थी. इस परीक्षा में 16 शिक्षक 33 फीसदी अंक भी नहीं ला पाए थे. ऐसे शिक्षकों पर विभाग कड़ी कार्रवाई की बात कर रहा था, लेकिन अब स्कूल शिक्षा विभाग ने फेल होने वाले 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिृवत्ति (Compulsory retirement) दे दी है. परीक्षा में करीब 3500 शिक्षक बैठे थे.

शिक्षा मंत्री ने दी थी चेतावनी
स्कूल शिक्षा मंत्री डा प्रभुराम चौधरी ने 27 नवंबर को मीडिया कार्यशाला में कहा था कि शिक्षकों को कई मौके दिए गए हैं लेकिन अगर फिर भी शिक्षक अपने पढ़ाई के स्तर में सुधार नहीं कर पा रहे हैं तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी, क्योंकि अगर शिक्षक खुद पास नहीं हो पा रहे हैं तो बच्चों को कैसे पढ़ाएंगे. कैसे बच्चों का भविष्य संवारेंगे.

लक्ष्य है शिक्षा का स्तर सुधारना

स्कूल शिक्षा मंत्री के आदेश के बाद 16 शिक्षकों की विभाग से विदाई हो गई है. इसके पीछे विभाग का यही मकसद है कि शिक्षकों के मन में बच्चों का भविष्य संवारने का सेवाभाव जागे और शिक्षक पूरी ईमानदारी से बच्चों को पढ़ाने का कार्य करें ताकि शिक्षा के स्तर में सुधार का जो लक्ष्य शिक्षा विभाग ने 5 सालों के लिए तय किया है, उस स्तर पर मध्य प्रदेश की शिक्षा पहुंच सकें.

ये भी पढ़ें -
ALERT: कहीं आप भी तो नहीं हुए इस शातिर साइबर अपराधी के शिकार
Loading...

कांग्रेस MLA की धमकी के जवाब में बोलीं प्रज्ञा ठाकुर- आ रही हूं, जला देना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 8:15 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...