Home /News /madhya-pradesh /

राजनीति के दिग्गज अब कम्प्यूटर एक्सपर्ट भी बनेंगे

राजनीति के दिग्गज अब कम्प्यूटर एक्सपर्ट भी बनेंगे

मध्य प्रदेश के अब सभी विधायक कम्प्यूटर एक्सपर्ट होंगे। प्रदेश के विधायकों को कम्प्यूटर में दक्ष बनाने के लिए एक खास ट्रेनिंग कैंप का आयोजन जल्दी किया जाएगा। प्रदेश की विधानसभा को पेपरलेस बनाने की कड़ी में ही विधायकों को यह ट्रेनिंग दी जा रही है।

मध्य प्रदेश के अब सभी विधायक कम्प्यूटर एक्सपर्ट होंगे। प्रदेश के विधायकों को कम्प्यूटर में दक्ष बनाने के लिए एक खास ट्रेनिंग कैंप का आयोजन जल्दी किया जाएगा। प्रदेश की विधानसभा को पेपरलेस बनाने की कड़ी में ही विधायकों को यह ट्रेनिंग दी जा रही है।

मध्य प्रदेश के अब सभी विधायक कम्प्यूटर एक्सपर्ट होंगे। प्रदेश के विधायकों को कम्प्यूटर में दक्ष बनाने के लिए एक खास ट्रेनिंग कैंप का आयोजन जल्दी किया जाएगा। प्रदेश की विधानसभा को पेपरलेस बनाने की कड़ी में ही विधायकों को यह ट्रेनिंग दी जा रही है।

अधिक पढ़ें ...
मध्य प्रदेश के अब सभी विधायक कम्प्यूटर एक्सपर्ट होंगे। प्रदेश के विधायकों को कम्प्यूटर में दक्ष बनाने के लिए एक खास ट्रेनिंग कैंप का आयोजन जल्दी किया जाएगा। प्रदेश की विधानसभा को पेपरलेस बनाने की कड़ी में ही विधायकों को यह ट्रेनिंग दी जा रही है।

प्रदेश की विधानसभा में हर साल पेपर और प्रिटिंग पर 50 लाख रूपए से ज्यादा का खर्चा होता है। इस खर्च में कटौती और पर्यावरण सरंक्षण के लिए ही विधानसभा को पेपरलेस करने की तैयारी है। विधायकों को पहले से ही लैपटॉप दिए जा चुके है। अब कोशिश हो रही है कि सभी विधायक जल्द से जल्द इन लैपटॉप का सही तरीके से इस्तेमाल करना सीख जाए।

विधानसभा के सदस्यों को की-बोर्ड और माउस की मास्टरी सिखाने के लिए खास ट्रेनिंग कैंप लगाए जाएंगे। विधानसभा सचिवालय की कोशिश पूरी तरह से ऑनलाईन व्यवस्था को अपनाने की है। विधानसभा सचिवालय के मुताबिक विधायकों की ट्रेनिंग के बाद साल 2016 के सत्र में विधायकों के सवाल और उसके जवाब से लेकर अन्य कामकाज भी पूरी तरह ऑनलाइन होगा।

हालांकि, विधायकों में इसे लेकर अभी एकराय नहीं बन सकी है। कुछ विधायक विधानसभा की कार्रवाई को ऑनलाइन करने का समर्थन कर रहे है। वहीं विधायकों का एक तबका ऐसा भी है जो अभी पुरानी व्यवस्था को ही जारी रखने की पैरवी कर रहा है।

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर