लाइव टीवी

दिल्ली की हार के बाद उपचुनावों के लिए नए सिरे से रणनीति बना रहे हैं कांग्रेस बीजेपी
Bhopal News in Hindi

Anurag Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 12, 2020, 10:06 PM IST
दिल्ली की हार के बाद उपचुनावों के लिए नए सिरे से रणनीति बना रहे हैं कांग्रेस बीजेपी
कांग्रेस बीजेपी दोनों ही अभी से इन उपचुनावों में जीत के दावे कर रहे हैं

दिल्ली चुनाव में आम आदमी पार्टी (Aap) की बंपर जीत ने बीजेपी और कांग्रेस की नींदें उड़ा दी हैं. दिल्ली के बाद प्रदेश की 2 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनावों को लेकर दोनों दलों ने उपचुनावों में जीत के लिए नये सिरे से स्ट्रेटजी बनाने की कवायद शुरु कर दी है.

  • Share this:
भोपाल. दिल्ली के चुनाव में पूरा दम खम झोंकने के बाद मिली करारी शिकस्त बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) के लिए बड़े सदमे से कम नहीं है. दिल्ली के सियासी संग्राम में चुनावी रणनीति फेल होने के बाद अब प्रदेश में दो विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर सियासी दलों ने अभी से कमर कसनी शुरु कर दी है. बीजेपी ने भिंड के जौरा (Jaura) और आगर-मालवा (Agar Malwa) सीट पर जीत की रणनीति बनाने को लेकर काम तेज कर दिया है. बीजेपी को उम्मीद है कि इस नई रणनीति से उसे इन दोनों उपचुनावों में जीत हासिल हो सकती है.

नई रणनीति पर काम कर रहे दल
दिल्ली के चुनाव में लगातार दूसरी बार अपना खाता नहीं खोल पाने वाली कांग्रेस भी अब इन उपचुनावों को लेकर नई रणनीति पर काम कर रही है. जौरा और आगर-मालवा सीट के लिए सीएम कमलनाथ ने मंत्री और नेताओं की टीम बनाई है, जो कि स्थानीय मुद्दों के साथ ही सही प्रत्याशियों के नाम का पैनल भी अगले एक हफ्ते में पार्टी को सौंपेगी. हालांकि कांग्रेस को उम्मीद है कि दिल्ली के उलट प्रदेश में कमलनाथ सरकार के एक साल के काम और फैसले, दोनों सीटों पर पार्टी को जीत दिलाने का काम करेंगे.

कांग्रेस-बीजेपी के अपने अपने दावे

पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि प्रदेश में कांग्रेस सरकार ने ऐसे हालात बना दिए हैं कि अब कहीं भी चुनाव हो वहां बीजेपी ही जीतेगी, वहीं कांग्रेस मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा है कि प्रदेश में होने वाले उपचुनावों पर दिल्ली के नतीजे असरदार नही होंगे. कमलनाथ सरकार के कामकाज से जनता खुश है और यहीं कारण उपचुनावों में कांग्रेस को जीत दिलाएंगे.

दोनों पार्टियों के लिए ज़रूरी  है जीत
दरअसल भिंड के जौरा से कांग्रेस विधायक बनवारी लाल शर्मा और आगर मालवा से बीजेपी विधायक मनोहर उंटवाल के निधन के कारण इन दोनों सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं.  कांग्रेस की कोशिश है कि दोनों सीटों पर जीत हासिल कर सरकार के लिए जरुरी संख्या बल 116 को पूरा कर लिया जाए तो बीजेपी झाबुआ उपचुनाव और दिल्ली में मिली हार के बाद दोनों सीटों पर जीत के साथ वापसी करना चाहती है.ये भी पढ़ें -
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद गुजरात दंगों के सात दोषी जबलपुर पहुंचे, करेंगे सामुदायिक सेवा
MP के वित्त मंत्री तरूण भानोत का बयान- चुनौतियों से भरा होगा इस बार का बजट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 10:04 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर