EXCLUSIVE: आखिर अपने ही मंत्रियों-विधायकों की जासूसी करवाने के लिए क्‍यों मजबूर हुई कमलनाथ सरकार?

लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद बीजेपी कमलनाथ सरकार पर हमलावर हो गई है. बीजेपी के दिग्गज नेताओं की तरफ से बार-बार सरकार गिराने के संकेत दिए जा रहे हैं.

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 3, 2019, 10:27 AM IST
EXCLUSIVE: आखिर अपने ही मंत्रियों-विधायकों की जासूसी करवाने के लिए क्‍यों मजबूर हुई कमलनाथ सरकार?
सीएम कमलनाथ
Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 3, 2019, 10:27 AM IST
भले ही मध्‍य प्रदेश की कमलनाथ सरकार किसी वक्त और कहीं पर भी बहुमत साबित करने का दावा कर रही हो, लेकिन सरकार को हॉर्स ट्रेडिंग (विधायकों की खरीद-फरोख्‍त) का डर जरूर सता रहा है. अब मंत्री हों या फिर विधायक, सभी की निगरानी की जा रही है. उनकी हर एक गतिविधि पर नज़र रखने के साथ ही पल-पल का इनपुट लिया जा रहा है. सूत्रों की मानें तो कमलनाथ सरकार ने अपने माननीयों की जासूसी के लिए इंटेलिजेंस का सहारा लिया है.

डर रही है सरकार

ये डर है सरकार जाने का. ये डर है हॉर्स ट्रेडिंग का जिसके चलते ऐतिहातन कमलनाथ सरकार माननीयों पर नजर रखे हुए है. लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद बीजेपी कमलनाथ सरकार पर हमलावर हो गई थी. बीजेपी के दिग्गज नेताओं की तरफ से बार-बार सरकार गिराने के संकेत दिये जा रहे थे. कांग्रेस ने इस पर पलटवार भी किया, लेकिन फिर भी कमलनाथ सरकार को डर सता रहा है.

सूत्रों ने बताया है कि सरकार अपने कमजोर विधायकों पर नज़र बनाए है. उनकी मॉनीटरिंग भी की जा रही है. पल-पल का इनपुट भी लिया जा रहा है. वो किससे मिल रहे हैं, कहां जा रहे हैं, किसके संपर्क में हैं, किससे लंबी और बार-बार बातचीत हो रही है, इन सब बातों की जानकारी ली जा रही है. यहां तक की विधायकों के मूवमेंट और वे ि‍किनसे संपर्क कर रहे हैं, इन सबकी भी जानकारी हासिल की जा रही है.

इंटेलिजेंस का सहारा

इस काम के लिए मध्‍य प्रदेश की कमलनाथ सरकार चौंकाने वाला कदम उठाया है. सूत्रों की मानें तो इन सभी बातों के लिए इंटेलिजेंस का सहारा लिया जा रहा है. मंत्री हों या फिर विधायक, सभी पर सरकार नजर बनाए हुए है. कमलनाथ सरकार के मंत्री जीतू पटवारी ने कहा कि 121 विधायक कमलनाथ जी के साथ हैं.
बीजेपी का कहना है कि कांग्रेस खेमों में बंट गई है और उनके विधायक खुद ही बिकने को तैयार हैं.
Loading...

दावा तो यह भी किया जा रहा है कि कमलनाथ सरकार ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगी. कमलनाथ सरकार को पूरा भरोसा है कि अगले पांच साल तक उसके साथ 121 विधायक रहेंगे, लेकिन बीजेपी की तरफ से हो रही बयानबाजी ने जरूर सरकार की टेंशन को बढ़ा दिया है.

ये भी पढ़ें-

आधी रात में कमलनाथ सरकार ने भोपाल कलेक्टर को हटाया

लोकसभा चुनाव में हार पर बौखलाए प्रह्लाद टिपानिया, कहा- कांग्रेस में गुटबाजी हार का बड़ा कारण

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 3, 2019, 8:56 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...