• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • दिग्विजय पर हुई FIR तो कांग्रसियों ने जलाया शिवराज का पुतला

दिग्विजय पर हुई FIR तो कांग्रसियों ने जलाया शिवराज का पुतला

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ निजी कॉलेज को लाभ पहुंचाने से जुड़े जुड़े एक मामले में एफआईआर दर्ज होने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला जलाया.

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ निजी कॉलेज को लाभ पहुंचाने से जुड़े जुड़े एक मामले में एफआईआर दर्ज होने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला जलाया.

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ निजी कॉलेज को लाभ पहुंचाने से जुड़े जुड़े एक मामले में एफआईआर दर्ज होने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला जलाया.

  • Share this:
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ निजी कॉलेज को लाभ पहुंचाने से जुड़े जुड़े एक मामले में एफआईआर दर्ज होने के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का पुतला जलाया.

आरकेडीएफ कॉलेज गड़बड़ी मामले में दिग्विजय सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के एक दिन बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सड़क पर उतरकर अपना विरोध जताया.

बोर्ड ऑफिस चौराहे पर इकट्ठा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और मुख्यमंत्री का पुतला जलाया.

प्रदर्शन कर रहे प्रदेश कांग्रेस महामंत्री पी.सी.शर्मा का कहना है कि सरकार के दबाव में आरकेडीएफ कॉलेज को लाभ पहुंचाने के मामले में ईओडब्ल्यू ने दिग्विजय सिंह पर झूठा मुकदमा दर्ज किया है.

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के खिलाफ FIR

आर्थिक अपराध अन्वेषण ब्यूरो (ईओडब्ल्यू) ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्वियज सिंह के खिलाफ आरकेडीएफ कॉलेज को अनुचति लाभ पहुंचाने के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. ईओडब्ल्यू ने दिग्विजय के अलावा पूर्व मंत्री राजा पटेरिया और आरकेडीएफ कॉलेज के मालिक सुनील कपूर को भी आरोपी बनाया है.

ईओडब्ल्यू ने आईपीसी की धारा 420, 467, 468, 471 और भ्रष्टाचार कानून के तहत मामला दर्ज किया है.

केस हो चुका है वापस

दिग्विजय सिंह के खिलाफ चल रहे इस मामले में 29 अक्टूबर को फरियादी ने कोर्ट से अपना केस वापस लेने का आवेदन पेश कर दिया था. जिसके बाद ये माना जा रहा था कि अब इस मामले में ईओडब्ल्यू अपनी जांच रोक देगी.

क्या है मामला

दरअसल, तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के शासनकाल के दौरान आरकेडीएफ कॉलेज पर गलत तरीके से एडमिशन के आरोप लगे थे. आरोप सही पाने के बाद कॉलेज पर 20 लाख का जुर्माना लगाया गया था. लेकिन इस जुर्माने को दिग्विजय और पूर्व मंत्री राजा पटेरिया ने माफ कर दिया था.

सरकार के फैसले के खिलाफ शिकायतकर्ता कोर्ट चले गए थे. जिस पर कोर्ट ने ईओडब्ल्यू से रिपोर्ट मांगी थी. इसी प्रकिया में ईओडब्ल्यू ने दिग्विजय और पटेरिया से 15 सितंबर तक जवाब मांगा था. तय समय सीमा में दोनों की ही तरफ से कोई जवाब पेश नहीं किया गया. इसी के बाद अब ईओडब्ल्यू ने कार्रवाई की प्रक्रिया तेज कर दी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज