लाइव टीवी

CM कमलनाथ के जन्मदिन पर PCC ने छपवाया विज्ञापन, ये तारीफ़ है या...!

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 18, 2019, 3:00 PM IST
CM कमलनाथ के जन्मदिन पर PCC ने छपवाया विज्ञापन, ये तारीफ़ है या...!
CM कमलनाथ के जन्मदिन पर PCC के विज्ञापन पर पार्टी में मचा हड़कंप. (फाइल फोटो)

सीएम कमलनाथ (cm kamalnath) के जन्मदिन पर छपे इस विज्ञापन में उनके चुनाव में हारने, तिहाड़ जेल जाने और लंबे समय तक सीएम न बनने के कारणों का जिक्र किया गया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) के जन्मदिन (birthday) पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (pcc) ने बधाई और शुभकामना संदेश देता एक विज्ञापन (advertisement) अखबारों में छपवाया है. पढ़ने में यह खबर काफी सामान्य लगे लेकिन इस विज्ञापन को लेकर अब कांग्रेस में हड़कंप मचा हुआ है. इस विज्ञापन को लेकर अब चर्चा है कि यह बधाई संदेश कम और आलाेचना ज्यादा लग रही है. इस विज्ञापन में मुख्यमंत्री की उपलब्धियां कम और कुछ ऐसी बातें ज्‍यादा लिखी हैं जो कई सवाल खड़े कर रही हैं.

चुनाव की हार से लेकर तिहाड़ तक का जिक्र
मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से जारी विज्ञापन में सीएम कमलनाथ को खास बनाने वाली 9 बातों का उल्लेख किया गया है. इनमें जिन बातों को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं उनमें पहली है छिंदवाड़ा सीट से कमलनाथ की हार. इसमें बताया गया है कि छिंदवाड़ा से कमलनाथ को 1996 में हार का सामना करना पड़ा था. उस समय उन्हें सुंदरलाल पटवा ने चुनाव मैदान में पटखनी दी थी. इसके बाद एक और बात जिस को लेकर चर्चा हो रही है वह आपातकाल के दौरान की है. इसमें बताया गया है कि आपातकाल के बाद 1979 में जनता पार्टी की सरकार के दौरान संजय गांधी को एक मामले में कोर्ट ने तिहाड़ जेल भेज दिया था. तब संजय की मां इंदिरा गांधी उनकी सुरक्षा को लेकर चिंतित थीं. कहा जाता है कि तब कमलनाथ जान-बूझकर एक जज से लड़ पड़े और जज ने उन्हें सात दिन के लिए तिहाड़ भेज दिया. वहां वो संजय गांधी के साथ ही रहे.

मुख्यमंत्री कमलनाथ के जन्मदिन के अवसर पर पीसीसी की तरफ से दिया समाचार पत्रों में दिया गया विज्ञापन.


सीएम बनने में क्यों हुई देर
विज्ञापन में आगे जिक्र है कि कमलनाथ मध्य प्रदेश में कांग्रेस का एक लोकप्रिय चेहरा हैं. उन्होंने ज्योतिरादित्य और दिग्विजय के साथ मिलकर शिवराज सिंह के लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री बनने का सपना तोड़ दिया. 1993 में भी कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने की चर्चा थी. बताया जाता है कि तब अर्जुन सिंह ने दिग्विजय सिंह का नाम आगे कर दिया था. इस तरह कमलनाथ उस समय सीएम बनने से चूक गए थे. अब 25 साल बाद दिग्विजय सिंह के समर्थन से उन्हें मुख्यमंत्री बनने का मौका मिला.

विज्ञापन पर मचा हड़कंपये विज्ञापन छपते ही कांग्रेस में हड़कंप मच गया है. जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा एजेंसी के जरिए ये विज्ञापन छपवाया गया है. लिहाजा इसकी जांच की जाएगी कि किस स्तर पर ये चूक हुई. पूर्व जनसंपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा की मानें तो ये कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाज़ का नतीजा है. प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पारासर ने कहा है कि विज्ञापन में इंदिरा, संजय गांधी जैसे कांग्रेस नेताओं के नाम भी ऐसी भाषा में लिखे गए हैं मानो कि वो साधारण लोग हों.

ये भी पढ़ें-CM कमलनाथ का जन्मदिन आज, अपील के मुताबिक सादगी से मनेगी सालगिरह

सेहत का संदेश देने निकले कमलनाथ के मंत्री ने जब गार्डन में लगाए पुशअप्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 18, 2019, 2:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर