MP की सियासत में नया संग्राम : राम मंदिर के बाद अब रामराज पर दावा 
Bhopal News in Hindi

MP की सियासत में नया संग्राम :  राम मंदिर के बाद अब रामराज पर दावा 
मुद्दा प्रदेश की 27 विधानसभा सीट (assembly seats) पर होने वाले उपचुनाव (by election) का है. उससे पहले रामराज के ख्वाब के सहारे वोटरों को साधने की कोशिश की जा रही है.

मुद्दा प्रदेश की 27 विधानसभा सीट (assembly seats) पर होने वाले उपचुनाव (by election) का है. उससे पहले रामराज के ख्वाब के सहारे वोटरों को साधने की कोशिश की जा रही है.

  • Share this:
भोपाल. अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर (ram mandir) भूमि पूजन (bhumi pujan) के बाद अब प्रदेश में नया सियासी संग्राम छिड़ गया है. राम मंदिर निर्माण के साथ रामराज की स्थापना को लेकर बीजेपी और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं. पीएम मोदी (pm modi) ने कहा-सबके राम और सबमें राम. इसलिए दोनों दलों के नेता दावा कर रहे हैं कि राम राज वो ही ला सकते हैं.

एमपी बीजेपी ने दावा किया है कि राम मंदिर निर्माण के साथ ही अब रामराज की स्थापना होगी. सीएम शिवराज ने पीएम मोदी के नेतृत्व में राम राज की स्थापना की बात कही है.  बीजेपी के मुताबिक अयोध्या में मंदिर निर्माण के साथ ही देश में राम राज्य की स्थापना की परिकल्पना पूरी होगी. पीएम मोदी के 6 साल के कार्यकाल में देश की एकता अखंडता भाईचारे सांप्रदायिक सौहार्द्र को लेकर जो फैसले हुए, उससे हर वर्ग को फायदा पहुंचा है. केंद्र सरकार की नीतियों के मुताबिक प्रदेश में भी जनकल्याण के लिए आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोड मेप तैयार हो रहा है. जो रामराज की स्थापना में कारगर साबित होगा.

बीजेपी का कहना है सिर्फ सामाजिक सांस्कृतिक और राजनीतिक मूल्यों ही बात नहीं बल्कि गुड गवर्नेंस के जरिए राजनीतिक राम राज्य की स्थापना होगी.बीजेपी प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने कहा राम मंदिर निर्माण के साथ ही रामराज की स्थापना को बल मिलेगा



कांग्रेस ही ला सकती है रामराज
बीजेपी के रामराज के दावों पर कांग्रेस ने जवाबी हमला बोला है. कांग्रेस प्रवक्ता अभय दुबे ने कहा है बीजेपी सरकार के कार्यकाल में हुए आपराधिक मामले, बिगड़ी अर्थव्यवस्था और सांप्रदायिक सौहार्द्र पर लगे दाग बताते हैं की रामराज की स्थापना सिर्फ कांग्रेस ला सकती है.  कांग्रेस के प्रदेश की सत्ता में वापसी पर रामराज की स्थापना होगी. कमलनाथ के सत्ता में आने पर प्रदेश में राम राज कायम हो सकेगा.

किसके राम
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण भूमि पूजन को लेकर पूरा देश राम मय दिखाई दिया. प्रदेश में भी अक्सर एक दूसरे को राजनीतिक मुद्दों पर घेरने वाले बीजेपी और कांग्रेस के नेता राम भक्ति में डूबे नजर आए.मंदिर निर्माण शुरू हो गया तो बात राम राज की होने लगी. दरअसल मुद्दा प्रदेश की 27 विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव का है. उससे पहले रामराज के ख्वाब के सहारे वोटरों को साधने की कोशिश की जा रही है. ताकि राम की कृपा के साथ ही वोटरों की कृपा भी हासिल की जा सके. यही कारण है कि अब राम मंदिर निर्माण के साथ रामराज की स्थापना को लेकर प्रदेश में सियासी घमासान उठ खड़ा हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज