भोपाल: जान जोखिम में डालकर आयुष डॉक्टर कर रहे देश की सेवा, फिर भी नहीं मिल रहा मेहनताना
Bhopal News in Hindi

भोपाल: जान जोखिम में डालकर आयुष डॉक्टर कर रहे देश की सेवा, फिर भी नहीं मिल रहा मेहनताना
भोपाल में आयुष डॉक्टरों को नहीं मिल रहा मेहनताना (फाइल फोटो)

आयुष विभाग (Ayush Department) के इंटर्न डॉक्टरों ने स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात कर उनको ज्ञापन सौंपा है. आयुष डॉक्टरों की मांग है कि दूसरे डॉक्टरों की तरह उनको भी वेतन का भुगतान कराया जाए.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
भोपाल. कोरोना महामारी (Coronavirus) में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ आयुष डॉक्टरों (Ayush Doctors) ने भी फील्ड पर मोर्चा संभाला है. लेकिन प्राइवेट संस्थानों के ये आयुष डॉक्टर बिना मेहनताने के कामकाज कर रहे हैं. आयुष डॉक्टरों ने सरकार से गुहार लगाई है कि इस संकट काल में काम के दौरान उनको भी मेहनताना दिया जाए. बता दें, स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख सचिव ने आयुष विभाग के डॉक्टरों के साथ इंटर्न डॉक्टरों को भी मैदान में उतारने के लिये आयुष विभाग के चेयरमैन को पत्र जारी किया था, जिसके बाद इंटर्न करने वाले प्राइवेट संस्थानों के आयुष डॉक्टर भी फील्ड में हैं. आयुष डॉक्टर कंटेनमेंट एरिया में लोगों का सर्वे करने के साथ स्क्रीनिंग भी कर रहे हैं. इंटर्न आयुष डॉक्टरों की परेशानी यह है कि संकटकाल में जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा भी कर रहे हैं और उन्हें इसका मेहनताना भी नहीं मिल रहा.

बिना बीमा कवर के काम कर रहे आयुष डॉक्टर
प्रदेश भर में सरकारी कॉलेजों के 400 आयुष डॉक्टर कोरोना महामारी में लोगों की सेवा कर रहे हैं. तो वहीं भोपाल में प्राइवेट कॉलेजों के 70आयुष डॉक्टर भी कोरोना महामारी में मोर्चा संभाले हुए हैं. आयुष डॉक्टर बिना किसी बीमा कवर लॉकडाउन के पहले चरण से ही काम कर रहे हैं. अब तक डॉक्टरों को बीमा कवर का लाभ नहीं दिया गया है. वहीं इंटर चिकित्सकों की समस्या यह है कि उनको ना तो स्टायपेंड दिया जा रहा है और ना ही ड्यूटी करने का वेतन दिया जा रहा है. कोरोना में फील्ड पर इंटर्न करने के लिए डॉक्टरों ने अपने संस्थान को 10 हजार की कॉशन मनी भी जमा कराई है.

आयुष डॉक्टरों का अब तक नहीं मिली प्रोत्साहन राशि



आयुष डॉ. शशांक का कहना है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा था कि आयुष डॉक्टरों को मेहनताने के अलावा प्रोत्साहन राशि भी दी जाएगी. दूसरे डॉक्टरों और डेंटल डॉक्टर्स को सैंपल कलेक्ट करने पर पर प्रति सैंपल 100 रुपये की राशि दी जा रही है. आयुष डॉक्टरों को ना तो सैंपल कलेक्ट करने पर अतिरिक्त राशि दी गई है और ना ही अभी तक एक भी महीने भी प्रोत्साहन राशि (10 हजार) का भुगतान किया गया है.



इंटर चिकित्सकों ने स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा को सौंपा ज्ञापन
आयुष विभाग के इंटर्न डॉक्टरों ने स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात कर उनको ज्ञापन सौंपा है. आयुष डॉक्टरों की मांग है कि दूसरे डॉक्टरों की तरह उनको भी वेतन का भुगतान कराया जाए. संकटकाल में बिना पैसे के काम करना बहुत मुश्किल हो रहा है. वहीं संकटकाल में जान जोखिम पर डालकर काम करने पर 50 हजार का बीमा कवर और बाकी स्वास्थ्य कर्मियों और दूसरे विभागों के कर्मचारियों की तरह दिया जाए.

इम्युनिटी बढ़ाने लोगों को घर घर बांट रहे काढ़ा
कोरोना महामारी के दौरान लोगों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष विभाग के डॉक्टर ना सिर्फ काढ़ा तैयार कर रहे हैं बल्कि काढ़ा के पैकेट तैयार कर भोपाल में घर-घर में बांट रहे हैं. साथ ही स्क्रीनिंग,सैंपल कलेक्शन और सर्वे में भी फील्ड पर तैनात हैं.

ये भी पढ़ें: Covid-19 टेस्टिंग के लिए भोपाल में खुली एक और लैब, शहर में ये है आठवीं लैब
First published: May 22, 2020, 10:18 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading