MP में कोरोना संक्रमण की दर हुई दोगुनी, मृत्यु दर में तेजी से गिरावट

मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर 11 फीसदी हो गई है. (सांकेतिक तस्वीर)

स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक प्रदेश में अनलॉक-1 की शुरुआत के साथ ही कोरोना वायरस (Corona) तेजी के साथ फैला है. सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक मेल मिलापों के कारण कोरोना संक्रमण (Infection) का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश में जुलाई के महीने में तेजी से कोरोना संक्रमण (Corona Infection) फैला है. स्वास्थ्य विभाग (Health Department) के अपर मुख्य सचिव मोहम्मद सुलेमान ने सूबे के कोरोना हालात के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिविटी रेट बढ़ रहा है. जून में यह 5 फ़ीसदी पर आ गई थी, लेकिन अब यह 11 फीसदी हो गई है.

भोपाल में इस समय सबसे ज्यादा 13 फीसदी की दर से संक्रमण बढ़ रहा है. वही बड़वानी में 10.2, इंदौर में 8.3 और जबलपुर में पॉजिटिविटी रेट 7.7 फीसदी है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक प्रदेश में अब  सामान्य बेड, ऑक्सीजन बेड और आईसीयू बेड की क्षमता को बढ़ाया गया है. प्रदेश में जनरल बेड की कुल संख्या में से 22 फ़ीसदी बेड ही भरे हुए हैं. जिन 15 जिलों के अस्पतालों में अभी तक आईसीयू नहीं थे उनमें आईसीयू बनाए जा रहे हैं.

67 फीसदी मरीजों को सरकारी अस्पतालों में इलाज 

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक कोरोना पीड़ित 67 फीसदी मरीज सरकारी अस्पतालों में भर्ती हुए हैं. जबकि 32.9 फीसदी प्राइवेट अस्पतालों में एडमिट हुए हैं. विभाग का दावा है कि डेथ रेट कंट्रोल करने में सरकार के निर्देश सफल साबित हुए हैं. पहले प्रदेश में कोरोना डेथ रेट 10 फीसदी था, लेकिन अप्रैल में डेट ऑडिट के बाद अपनाए गए उपायों से मृत्यु दर अब 2.3 फीसदी पर आ गई है. हालांकि हाल ही में मौत का आंकड़ा भी बढ़ा है.

अपर मुख्य सचिव के मुताबिक प्रदेश में टेस्टिंग क्षमता बढ़ाई जा रही है. जून में कोरोना संक्रमण के मामले में प्रदेश के हालात नियंत्रित थे, लेकिन जुलाई में तेजी के साथ इन आंकड़ों में इजाफा हुआ है. जुलाई में यह आंकड़ा बढ़कर डबल हो गया है. यह संख्या लगातार बढ़ रही है. हर सप्ताह मरीज तेजी के साथ बढ़ रहे हैं. जुलाई में ग्रोथ रेट 3 फीसदी तक जा पहुंची है.

इन कारणों से बढ़ा संक्रमण

स्वास्थ्य सचिव के मुताबिक प्रदेश में अनलॉक-1 की शुरुआत के साथ ही कोरोनावायरस तेजी के साथ फैला है. सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक मेल मिलापों के कारण कोरोना संक्रमण का आंकड़ा तेजी से बढ़ा है.

भोपाल एम्स के डायरेक्टर प्रोफेसर सरवन सिंग ने कोरोना की वैक्सीन तैयार होने को लेकर कहा कि रूस और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में वैक्सीन ट्रायल चौथे फेज में है. उम्मीद है कि जल्दी वैक्सीन मिल जाएगी. आम लोगों के लिए वैक्सीन इस साल के आखिरी तक मिल पाने की संभावना है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.