भोपाल में कहर बना Corona : कोरोना पॉजिटिव पति ने किया पत्नी का अंतिम संस्कार
Bhopal News in Hindi

भोपाल में कहर बना Corona : कोरोना पॉजिटिव पति ने किया पत्नी का अंतिम संस्कार
भवत: देश में ये पहला मौका है जब कोरोना पीड़ित मरीज ने अपने परिजन का अंतिम संस्कार किया हो.(फाइल फोटो)

बंसल अस्पताल में भर्ती एक महिला ने बुधवार को कोरोन (corona) से दम तोड़ दिया.महिला के पति भी कोरोना पीडि़त हैं और आईसीयू में एडमिट हैं. अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना पीडि़त पति को पीपीई सूट (PPE SUIT) पहनाकर अंतिम संस्कार करने की अनुमति दी

  • Share this:
भोपाल. राजधानी भोपाल में अब कोरोना (corona) कहर बनता जा रहा है. यहां एक ही दिन में 11 लोगों की मौत हो गयी है. इन मौतों के बीच एक बेहद संवेदनशील मामला सामने आया जब कोरोना पीड़ित पत्नी की मौत के बाद कोरोना पॉजिटिव पति ने पीपीई (PPE) सूट पहनकर उसका अंतिम संस्कार किया. जिन 11 लोगों की बुधवार को मौत हुई उनमें से 6 शहर के सबसे बड़े सरकारी हमीदिया अस्पताल में भर्ती थे.

भोपाल में कोरोना के संक्रमित मरीज़ों की संख्या बढ़ने के साथ ही मौत के मामले भी लगातार में बढ़ते जा रहे हैं.बुधवार को पहली बार भोपाल में एक दिन में कोरोना संक्रमित 11 मरीजों ने दम तोड़ दिया.ये आंकड़ा चिंताजनक है. इनमें से 6 मरीज हमीदिया अस्पताल में भर्ती थे. जबकि 2 मरीज एम्स, 1 बंसल अस्पताल और 2 की चिरायु अस्पताल में मौत हुई है. इन्हें मिलाकर अब भोपाल में कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा 207 पर पहुंच गया है.

कोरोना पॉजिटिव पति ने किया पत्नी का अंतिम संस्कार
कोरोना के बीच एक भावनात्मक मामला भी सामने आया. कोरोना पीड़ित पति ने अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार किया. बंसल अस्पताल में भर्ती एक महिला ने बुधवार को कोरोन से दम तोड़ दिया.महिला के पति भी कोरोना पीडि़त हैं और आईसीयू में एडमिट हैं.पत्नी की मौत के बाद पति ने प्रबंधन से पत्नी के अंतिम संस्कार की गुहार लगाई. इस पर बंसल अस्पताल प्रबंधन ने पति की भावनाओं का ख्याल रखते हुए एसडीएम से विशेष अनुमति ली.इसके बाद अस्पताल प्रबंधन ने कोरोना पीडि़त पति को पीपीई सूट पहनाकर अंतिम संस्कार करने की अनुमति दी. संभवत: देश में ये पहला मौका है जब कोरोना पीड़ित मरीज ने अपने परिजन का अंतिम संस्कार किया हो.
नहीं रहे एएसआई अंसार अहमद


इन मृतकों में चिरायु अस्पताल में भर्ती शाहजहांनाबाद थाने में पदस्थ एएसआई अंसार अहमद भी शामिल हैं. कोरोना के कारण उनकी मौत हो गई. 15 दिन पहले रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उन्हें चिरायु अस्पताल में भर्ती कराया गया था. सात दिन पहले हालत बिगडऩे के बाद उन्हें वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था. डीजीपी विवेक जौहरी ने शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट में लिखा-पुलिस विभाग में अंसार अहमद की 25 वर्ष की उत्कृष्ट सेवा रही है.अंसार अहमद को नमन.मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी डीएसपी अंसार की मौत के बाद ट्वीट कर शोक व्यक्त किया. इधर बैरागढ़ के 25 वर्षीय बर्तन व्यवसायी की चिरायु अस्पताल में ही मौत हो गई.एम्स में जिन दो मरीजों की मौतें हुई उनमें भोपाल के 75 वर्षीय बुजुर्ग और रायसेन निवासी 50 वर्षीय महिला शामिल हैं.

 बिगड़े केस पहुंच रहे हैं हमीदिया
अफसर डेथ ऑडिट की बात कह रहे हैं. हमीदिया के डॉक्टरों का कहना है मरीज दूसरे अस्पतालों के बीच भटकने के बाद जब तक यहां आता है तब तक उसकी हालत बिगड़ चुकी होती है. कोविड के लिए चिन्हित दूसरे प्रायवेट अस्पताल गंभीर मरीजों को भर्ती करने के बजाय उन्हें यहां भेज देते हैं.यही वजह है कि हमीदिया में मौत का आंकडा बढ़ रहा है. यदि केस बिगड़ने के पहले समय से मरीज सीधा हमीदिया में भर्ती हो जाए तो समय पर इलाज कर उसे बचाया जा सकता है.

अस्पताल वार मौत का आंकड़ा
हमीदिया - 139
चिरायु - 72
एम्स - 52​
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज