जून में हो सकता है कोरोना विस्फोट, ट्रूू-नॉट मशीनें एक दिन में करेंगी 15 हजार सैंपल्स की जांच

एमपी में ट्रू-नॉट मशीन से होगी कोरोना सैंपल की जांच
एमपी में ट्रू-नॉट मशीन से होगी कोरोना सैंपल की जांच

स्वास्थ्य विभाग (health department) को ये आशंका है कि जून के महिने में प्रदेश में कोरोना (corona) के केस बढ़ सकते हैं.इसलिए शासन ने अपने स्तर पर इस संकट से लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है.

  • Share this:
भोपाल.कोरोना टेस्ट (corona test) के मामले में अब मध्यप्रदेश (madhya pradesg) आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ रहा है. कोरोना टेस्ट की पेंडेंसी और डिपेंडेंसी को खत्म करने के लिए राज्य सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. प्रदेश में  ट्रू-नॉट मशीनों से सैंपल जांच शुरू होने जा रही है.इससे एक दिन में 15 हजार सैंपल तक टेस्ट किए जा सकेंगे.स्वास्थ्य विभाग (health department) को ये आशंका है कि जून के महिने में प्रदेश में कोरोना के केस बढ़ सकते हैं.इसलिए शासन ने अपने स्तर पर इस संकट से लड़ने की तैयारी शुरू कर दी है. जिला अस्पतालों में ट्रूनॉट मशीन लगाई जा रहीं हैं. इसकी पहली खेप आज रवाना कर दी गयी.

ट्रूनॉट मशीन रोज़ाना करेगी 15 हजार सैंपल टेस्ट
कोरोना टेस्टिंग के मामले में राज्य किसी तरह की कोई कसर छोड़ना नहीं चाहता है.यही कारण है कि कोरोना के इलाज के साथ ही सारे योद्धाओं को भी टारगेट दे दिए गए हैं. ताकि संक्रमण अपने पैर बड़े स्तर पर ना फैला सके. हर जिले में कोरोना के सैंपल टेस्ट करने के लिए जिला अस्पतालों में ट्रूनॉट मशीन लगाई जा रहीं है.जिला अस्पतालों की पैथालॉजी लैब में एक आइसोलेटेड वार्ड तैयार किया गया है.CMR ने ट्रूनॉट मशीन से कोरोना के सैंपल टेस्ट करने की मंजूरी दे दी है. विभाग का दावा है इस फैसले से कोरोना की जांच के लिए सैम्पल टैस्टिंग में हो रही देरी और दिक्कतों छुटकारा मिल जाएगा.शनिवार को दस मशीनें स्वास्थ्य विभाग ने विभिन्न जिलों को भेजी हैं.


खत्म होगी पेंडेंसी और डिपेंडेंसी


अभी तक जो व्यवस्था है उसमें रिपोर्ट के लिए प्रदेश के जिले बड़े शहरों पर आश्रित रहते थे और बड़े शहर प्रदेश के लैब पर.सैंपल्स की संख्या बढ़ी तो जांच में देर होने लगी. रिपोर्ट मिलने में कई सप्ताह लगते हैं. इसलिए सैंपल्स दिल्ली सहित बाहरी राज्यों में जांच लिए भेजे गए. अब जून में कोरोना केस बढ़ने की आशंका को देखते हुए शासन ने अभी से कमर कस ली है.इसके लिए सेंट्रल गवर्नमेंट ने मध्यप्रदेश को 69 ट्रूनाट टेस्टिंग मशीन दी हैं.ये मशीनें प्रदेश के हर जिलों में पहुंचाई जाएंगी. इससे हर ज़िले में कोरोना टेस्ट होने लगेगा.

रेड ज़ोन में तीन मशीनें
विभाग की मानें तो ट्रूनॉट मशीन से एक दिन में लगभग 10 से 15 हजार तक सैम्पल टेस्ट किए जा सकते हैं. अगर इनके अच्छे रिजल्ट आते हैं तो अब कोरोना टेस्ट के लिए किसी भी मेडिकल कॉलेज या चुनिंदा लैब का मुंह नहीं देखना पड़ेगा. सबसे ज्यादा तीन-तीन मशीनें प्रदेश के रेड ज़ोन यानी इंदौर,भोपाल,जबलपुर,ग्वालियर और उज्जैन जिले को भेजी जाएंगी.

सरकार की टीबी अभियान कोरोना को देगा मात
सरकार ने पूरे देश को साल 2025 तक टीबी मुक्त करने का टारगेट दिया है.इसके लिए कई अभियान भी चलाए जा रहे थे.इसमें टीबी मरीजों की जांच के लिए नई टेक्नालॉजी की हाईटेक मशीने इस्तेमाल में लाई जाएंगी.ट्रू-नॉट मशीन ऐसी हाईटेक मशीन है जो टीबी की जांच में इस्तेमाल में लाई जाती हैं.इस मशीन की खासियत यह है कि इससे टीबी के साथ ये कोरोना की भी टेस्टिंग कर सकती हैं.ये एक मशीन 200 से 250 सैम्पल एक दिन में जांच सकती है.इस लिहाज से 69 ट्रूनॉट मशीने 24 घंटे में सूबे में 10 से 15 हजार कोरोना सैम्पल की जांच कर पाएंगी.

विशेष चिप से स्क्रीनिंग
इस मशीन से स्क्रीनिंग टेस्ट को ही मंजूरी मिली थी जबकि कर्न्फमेंट्री टेस्ट के लिए सैंपल मेडिकल कॉलेज भेजे जाना थे.अब स्क्रीनिंग और कन्फर्मेंट्री टेस्ट इसी मशीन से हो सकेंगे.एक्सपर्टस के मुताबिक ये मशीन टीबी जांच में इस्तेमाल की जाती हैं.कोरोना की जांच के लिए इसमें ट्रूनाट चिप लगानी पड़ेगी.उसके बाद इससे कोरोना इंफेक्शन की आसानी से जांच हो सकेगी.मशीनों को इन्सटॉल करने की जिम्मेदारी जिला सीएमएचओ को सौपी गई है.

मशीनों का जिलेवार बंटवारा
कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए बड़वानी, छतरपुर, देवास, धार, होशंगाबाद, खरगोन, रीवा, सागरइन जिलों को एक मशीन मिलेंगी. जबकि-सतना, विदिशा, उमरिया, टीकमगढ़, सिंगरौली, सीधी, शिवपुरी, श्योपुर, शाजापुर, शहडोल, सिवनी, सिहोर, रतलाम, राजगढ़, रायसेन, पन्ना, नीमच, नरसिंहपुर, मुरैना, मंदसौर, मंडला, खंडवा, कटनी, हरदा, गुना, डिंडोरी, दतिया, दमोह, छिंदवाडा़, बुरहानपुर, भिण्ड, बैतूल, बालाघाट, अशोकनगर, अनूपपुर, अलीराजपुर और आगरमालवा में दो मशीनें इंस्टॉल की जा रही हैं.

ये भी पढ़ें-

MP: ज़्यादा बिल की शिकायत पर बिजली विभाग का जवाब-छूट पाना है तो BJP को हटाओ

न्यायिक मजिस्ट्रेट के घर खिड़की तोड़कर घुसे चोर, किचन से चुराईं 5 रोटियां


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज