अपना शहर चुनें

States

मध्य प्रदेश में 16 से लगेगा कोरोना का टीका, सीएम ने कहा- टीके को लेकर भ्रम न फैलाएं लोग

प्रदेश में कोरोना का टीका 16 जनवरी से लगना शुरू होगा.
प्रदेश में कोरोना का टीका 16 जनवरी से लगना शुरू होगा.

वैक्सीनेशन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नेशनल हेल्थ मिशन के अफसरों के साथ गुरुवार को बैठक की. उन्होंने वैक्सीनेशन को लेकर कलेक्टरों को भी निर्देश दिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 14, 2021, 3:30 PM IST
  • Share this:
भोपाल. प्रदेश में कोरोना का टीका 16 जनवरी से सुबह 9 बजे से लगना शुरू होगा. सबसे पहले ये टीका फ्रंट लाइन वर्कर्स, सफाईकर्मियों, पुलिसकर्मियों और राजस्व अमले को लगाया जाएगा. इसे लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. वैक्सीनेशन को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नेशनल हेल्थ मिशन के अफसरों के साथ गुरुवार को बैठक की. उन्होंने वैक्सीनेशन को लेकर कलेक्टरों को भी निर्देश दिए. उन्होंने इस दौरान यहां तक कह डाला कि लोगों को टीका सरकार द्वारा तय चरण के हिसाब से ही लगेगा. शिवराज की सिफारिश भी इस मामले में काम नहीं आएगी.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समाजसेवियों, जनप्रतिनिधियों और मीडिया कर्मियों से वैक्सीनेशन अभियान को सफल बनाने की अपील की. उन्होंने कहा कि सरकार ने वैक्सीनेशन के लिए प्राथमिकताएं तय की हैं. लोगों को वैक्सीनेशन सरकार द्वारा तय चरणों के हिसाब से ही लगाई जाएगी. मुख्यमंत्री ने लोगों से वैक्सीनेशन को लेकर भ्रम न फैलाने की अपील भी की. सीएम शिवराज ने धर्मगुरु और सामाजिक संस्थाओं से भी सहयोग की अपील की.





प्रधानमंत्री की तारीफ की
सीएम ने पीएम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई देते हुए कहा कि वे दूरदर्शी हैं. इसलिए कोरोना के संकट की पहचान कर मार्च से ही देश में व्यवस्थाएं संभाल ली गईं. लॉक डाउन से व्यवस्थाएं करने का समय मिल गया था. प्रधानमंत्री के आह्वान पर पूरा देश एकजुट हुआ. यही वजह है कि कोरोना मप्र में आउट ऑफ कंट्रोल नहीं हुआ और समय रहते सभी प्रबन्ध कर लिए गए. मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीन संजीवनी बूटी है. लेकिन. फिलहाल सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है.

100 फीसदी लक्ष्य हासिल करने पर नजर

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के नई बिल्डिंग का शुभारंभ किया. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर बनाना सरकार की पहली प्राथमिकता है. उन्होंने कहा कि टीकाकरण के अभियान में 100 फीसदी लक्ष्य को हासिल करना है. लक्ष्य पूरे होंगे तभी बच्चों को हम बेहतर भविष्य दे पाएंगे. उन्होंने कहा कि हर शहर में एक शासकीय हास्पिटल आइडियल होना चाहिए। जिला अस्पतालों में निजी अस्पतालों की तरह सुविधाएं मिले, इसके प्रयास किए जाएं. हमारे पास संसाधनों की कोई कमी नहीं है।आयुषमान भारत से रजिस्टर्ड अस्पताल भी बेहतर होना जाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज