Doctor's Day 2020: पीपीई किट में घुट रहा है डॉक्‍टर और नर्सों का दम, भोपाल में इलाज करते-करते आ गए चक्‍कर

भोपाल के हमीदिया अस्पताल में पीपीई ड्रेस की वजह से  कोरोना वॉरियर्स की तबियत बिगड़ी
भोपाल के हमीदिया अस्पताल में पीपीई ड्रेस की वजह से कोरोना वॉरियर्स की तबियत बिगड़ी

Doctor's Day 2020: कुछ देर आराम करने के बाद ये कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) दोबारा अपने काम में जुट गए.

  • Share this:
भोपाल. जो PPE ड्रेस (PPE DRESS) कोरोना वॉरियर्स (corona ) को इसके संक्रमण से बचाने के लिए है वही मुसीबत बन गयी. भोपाल के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हमीदिया में ये ड्रेस पहने कुछ वॉरियर्स की इसी की वजह से तबियत बिगड़ गयी. उन्हें गर्मी लगी, घबराहट हुई और मितली चढ़ने लगी. नौ-तपा की गर्मी के कारण ऐसा हो रहा था.आधा दर्जन से ज्यादा स्टाफ को ग्लूकोज चढ़ाने की नौबत आ गई. हालांकि कुछ देर आराम करने के बाद ये कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) दोबारा अपने काम में जुट गए.

तपती गर्मी में पीपीई ट्रेस पहन कर काम करने से कई योद्धाओं की तबियत अब बिगड़ने लगी है.सोमवार से नौतपे ने दस्तक दे दी है.शहर का तापमान 40 डिग्री पार है.सामान्य स्थिति में रहन सहन में भी इंसान असहज महसूस कर रहा है.ऐसे में पीपीई ड्रेस पहन कर काम करने वाले कोरोना वॉरियर्स को कितनी असुविधा महसूस हो रही होगी.इसी दौर में सोमवार को हमीदिया अस्पताल में पीपीई ड्रेस पहन कर कोरोना जांच और स्क्रिनिंग कर रहे योद्धाओं की तबियत बिगड़ गई.अस्पताल में सैंपल ले रहे महिला और पुरूष स्टाफ,नर्स और डाक्टरों की तबियत अचानक बिगड़ने से अस्पताल में हंगामा मच गया.

गश खाकर गिरे वॉरियर
इतनी गर्मी में पीपीई ड्रेस पहनकर काम करने से स्वास्थ्य कर्मियों को घबराहट होने लगी. उन्हें बीच में ही सैंपलिंग और कोरोना टेस्ट छोड़ने पड़े.डॉक्टरों के मुताबिक इस बार सप्लाई की गई पीपीई ड्रेस में चढ़ाई गई पन्नी की वजह से ये असहूलियत हो रही है.गर्मी के कारण ड्रेस पहने वॉरियर्स को चक्कर आने लगे.डॉक्टरों की मानें तो पीपीई ड्रेस का मैटेरियल विभाग के एक्सपर्टस को जांचना चाहिए ताकि ड्रेस पहन कर काम करने में कोरोना फाइटर्स को कोई परेशानी ना आ आए.
ये होती है समस्या


इंफेक्शन के खतरे से बचने के लिए कोरोना वार्ड में एंट्री लेने के पहले हॉस्पिटल स्टाफ को पीपीई ड्रेस पहनना अनिवार्य होता है. लंबे वक्त तक ये ड्रेस पहनने से कई लोगों को हाईपरटेंशन,बीपी,डिहाईड्रेशन,चक्कर आना,जी मिचलाना और सास लेने में दिक्कत की समस्या आती है.काम के बीच में ये ड्रेस उतार नहीं सकते इसलिए ये किट स्वास्थ्य कर्मियों के लिए कमफर्ट ज़ोन के बाहर का मामला है.इसे पहनकर ना तो कुछ खा सकते हैं ना ही कुछ पी सकते हैं.इन परिस्थितियों में कई धारकों की तबियत बिगड़ जाती है. गश खाकर गिरे आधा दर्जन से ज्यादा स्टाफ को ग्लीकोज चढ़ाने की नौबत आ गई.

कोरोना वॉरियर्स को सलाम
आज नई सप्लाई की गई किट को पहनने के बाद जिन योद्धाओं की तबीयत बिगड़ी थी, वो सभी कुछ समय रेस्ट करने के बाद फिर से काम में लग गए हैं. सभी जूनियर और सीनियर डॉक्टर्स समेत नर्सों, वार्डबॉय और गार्डों के इस जज्बे को देख मौके पर मौजूद लोगों ने कोरोना योद्धाओं को सलामी दी.

ये भी पढ़ें-

तपती दोपहर में सड़क पर किसके सामने नतमस्तक हुए SP साहब, Photo वायरल

देखें धर्मनगरी में स्ट्रीट डॉग से कैसी हुई हैवानियत,फिर FB पर पोस्ट किया Video
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज