भोपाल में कोरोना का कोहराम, एक दिन में 112 संक्रमित शवों की कोविड प्रोटोकॉल से अंत्येष्टि

विश्राम घाट और कब्रिस्तान के आंकड़ों के मुताबिक पिछले छह दिन में 378 की मौत हो चुकी है.

विश्राम घाट और कब्रिस्तान के आंकड़ों के मुताबिक पिछले छह दिन में 378 की मौत हो चुकी है.

भोपाल में गुरुवार को कोरोना के सारे रिकॉर्ड टूट गए. कोरोना से मरने वालों की संख्या 100 के पार हो गई. गुरुवार को एक दिन में 112 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार किया गया है. ये राजधानी भोपाल में अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है.

  • Last Updated: April 16, 2021, 12:08 AM IST
  • Share this:
भोपाल. राजधानी में कोरोना संक्रमण का कहर जारी है. कोरोना महामारी (Corona Pandemic) के दौरान मौत के मामले में अब तक के सारे रिकॉर्ड टूट गए. एक दिन में 112 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल (Corona Protocal) के तहत अंतिम संस्कार किया गया. यह अभी तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. इसने पिछले साल और कोरोना की दूसरी लहर (second wave) में मौत के सभी रिकॉर्ड को पीछे छोड़ दिया है. इस मौत के आंकड़े से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना संक्रमण कितनी तेजी से फेल रहा है. हालांकि सरकारी आंकड़ों में सिर्फ चार लोगों की मौत का जिक्र है.

शहर में कोरोना प्रोटोकॉल से हो रहे अंतिम संस्कारों के आंकड़ों में बड़ी तेजी से इजाफा हुआ है. 14 अप्रैल को 88 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल के तहत अंतिम संस्कार हुआ था, लेकिन 15 अप्रैल को मौत के आंकड़ों ने सभी रिकॉर्ड को तोड़ दिया. 14 अप्रैल को भदभदा विश्राम घाट में 54, सुभाष नगर में 29 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल से अंतिम संस्कार किए गए थे. 5 शवों को कब्रिस्तान में दफनाया गया. जबकि शहर में 37 लोगों की सामान्य मौत हुई है. जबकि 13 अप्रैल को यह आंकड़ा 84 था.

सबसे ज्यादा भदभदा में अंतिम संस्कार

एक अप्रैल से अभी तक मौत का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है. सबसे ज्यादा शहर के भदभदा विश्राम घाट में अंतिम संस्कार किए जा रहे हैं. हर दिन मौत का आंकड़ा बढ़ रहा है. 15 अप्रैल को भदभदा विश्रामघाट में 72, सुभाष नगर में 30 शवों का कोरोना प्रोटोकॉल से अंतिम संस्कार किया गया. जबकि 10 लोगों को कब्रिस्तान में दफनाया गया. शहर में 43 लोगों की सामान्य मौत हुई है.
मौत के आंकड़े के पीछे मंत्री का तर्क

कोरोना से होने वाली मौत के आंकड़ों को लेकर चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि सरकार किसी भी तरीके के आंकड़ों को छुपाने का काम नहीं कर रही है. जिन लोगों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है उन्हें संदिग्ध मरीज माना गया है. वहीं प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता अजय सिंह यादव ने कहा कि सरकार मौत के आंकड़ों में हेराफेरी कर रही है. वह कोरोना को लेकर गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार अब कोरोना से नहीं बल्कि मौत के आंकड़ों से लड़ाई लड़ रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज