CM शिवराज का दावा: MP का कोरोना ग्रोथ रेट देश में सबसे कम, रिकवरी दर 76.3 %
Bhopal News in Hindi

CM शिवराज का दावा: MP का कोरोना ग्रोथ रेट देश में सबसे कम, रिकवरी दर 76.3 %
कोरोना संक्रमण को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने बड़ी जानकारी दी है. (Demo)

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं कि कोरोना के इलाज में किसी तरह की लापरवाही न बरती जाए.

  • Share this:
भोपाल. कोरोना आपदा (Coronavirus) के बीच मध्य प्रदेश से एक बार फिर अच्छी खबर सामने आई है. देश भर में कोरोना पेशेंट्स की ग्रोथ रेट (Corona Growth Rate) के मामले में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) सबसे बेहतर स्थिति में पहुंच गया है. एमपी में कोरोना की ग्रोथ रेट सबसे कम हो गई है. ये बड़ी जानकारी एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह (Shivraj Singh Chauhan) चौहान ने समीक्षा बैठक में दी. सीएम चौहान ने बताया कि एमपी में कोरोना ग्रोथ रेट घटकर 1.43 प्रतिशत हो गई है, जबकि अन्य राज्य जैसे गुजरात की ग्रोथ रेट 2.10 प्रतिशत, राजस्थान की 2.31 प्रतिशत, महाराष्ट्र की 2.96 प्रतिशत, पश्चिम बंगाल की 3.23 प्रतिशत, उत्तर प्रदेश की 3.82 प्रतिशत और तमिलनाडु की 4.21 प्रतिशत है. देश में कोरोना ग्रोथ रेट 3.63 प्रतिशत है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं कि कोरोना के इलाज में किसी तरह की लापरवाही न बरती जाए. मुख्यमंत्री ने बताया कि मध्य प्रदेश की रिकवरी रेट 76.3 प्रतिशत हो गई है, जबकि देश की 55.8 प्रतिशत है.

दतिया हुआ संक्रमण मुक्त

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को एक बार फिर कोरोना की समीक्षा बैठक ली. दतिया जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां कोरोना के 20 मरीज स्वस्थ होकर घर जा चुके हैं. दतिया जिला अब पूरी तरह संक्रमण मुक्त हो गया है. दतिया के साथ ही अलीराजपुर और उमरिया जिले भी संक्रमण मुक्त हो चुके हैं. हालांकि, छिंदवाड़ा जिले की समीक्षा में ये बात सामने आई कि वहां कोरोना के 11 नए पॉजिटिव केस आए हैं.



धौलपुर में संक्रमण का खतरा
मुरैना जिले की समीक्षा में पाया गया कि वहां 23 नए कोरोना केस आए हैं. मुरैना में सीमा पार के राजस्थान के जिले धौलपुर में संक्रमण अधिक है तथा वहां आने-जाने से मुरैना में संक्रमण का खतरा है. सीएम शिवराज ने निर्देश दिए कि इस संबंध में जनता को जागरूक किया जा.  क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक कर संक्रमण रोकने के संबंध में सभी कदम उठाए जाएं.

स्कूलों को लेकर हो सकता है बड़ा फैसला

मध्य प्रदेश के स्कूलों में ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू हो सकता है. स्कूल शिक्षा विभाग इस पर गंभीरता से विचार कर रहा है. फिलहाल, पेरेंट्स से सुझाव लिए जा रहे हैं. उसके बाद फैसला होगा कि स्कूल कब खुलेंगे और कोरोना से बचाव के लिए उसमें क्या व्यवस्था होगी. बता दें कि स्कूल शिक्षा विभाग अभिभावकों से फीडबैक ले रहा है. वो पेरेंट्स से सुझाव मांग रहा है कि कोरोना के इस दौर में स्कूल खोले जाएं या नहीं. स्कूल जब खुलें तो बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए क्या उपाय किए जाएं. वहीं, एजुकेशन डिपार्टमेंट की इस पहल का अच्छा रिस्पांस भी मिल रहा है.

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज