लाइव टीवी

बड़ा खुलासा: क्रिप्टो करेंसी का झांसा देकर अंतर्राष्ट्रीय गिरोह ने ठगे करोड़ों, 2 गिरफ्तार

Jitender Sharma | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 25, 2019, 8:32 PM IST
बड़ा खुलासा: क्रिप्टो करेंसी का झांसा देकर अंतर्राष्ट्रीय गिरोह ने ठगे करोड़ों, 2 गिरफ्तार
सांकेतिक तस्वीर

मध्य प्रदेश के भोपाल में एसटीएफ ने क्रिप्टो करेंसी व्यापार की आड़ में करोड़ों की धोखाधड़ी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस गिरोह के मास्टरमाइंड बृजेश रायकवार और उसकी पत्नी को गिरफ्तार किया है

  • Share this:
मध्य प्रदेश के भोपाल में एसटीएफ ने क्रिप्टो करेंसी व्यापार की आड़ में करोड़ों की धोखाधड़ी करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने इस गिरोह के मास्टरमाइंड बृजेश रायकवार और उसकी पत्नी को गिरफ्तार किया है. एसटीएफ को शुरुआती जांच में अब तक 10 करोड़ से भी ज्यादा की ठगी का पता चला है. एसटीएफ को आशंका है कि जांच में यह आंकड़ा 50 से 100 करोड़ तक पहुंचने की संभावना है. फिलहाल एसटीएफ की टीम दोनों आरोपियों को पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है.

फर्जी शेयर मार्केट पीजीयूसी तैयार कर लोगों से कराता था निवेश

दरअसल जबलपुर का रहने वाला बृजेश रायकवार हांगकांग के शेयर बाजार (जीयूसी) में लोगों को निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करने का काम करता था. लेकिन कुछ दिनों बाद इस शेयर बाजार में काफी उतार आ गया और निवेश करने वाले लोग बृजेश रायकवार को रुपयों के लिए परेशान करने लगे. साथ ही नवंबर 2018 में जीयूसी को इंडिया में प्रतिबंधित भी कर दिया गया था.

इसके बाद बृजेश रायकवार ने अपने साथी रूपेश दुबे के साथ मिलकर एक फर्जी शेयर मार्केट पीजीयूसी तैयार की और इसमें लोगों से निवेश कराने लगा. इतना ही नहीं जालसाज निवेशकों को इस वेबसाइट के जरिए यह भी दिखाते थे कि उनके शेयर काफी ऊंचाई पर है और जिसके चलते निवेशक इसमें और ज्यादा पैसा लगाने लगे. साथ ही इस मार्केट में आरोपियों ने यह शर्त भी रखी कि निवेशक 1 साल से पहले अपना पैसा नहीं निकाल सकते हैं.

निवेशकों को रिझाने के जीता था लग्जरी लाइफ

पता चला कि इस फर्जी शेयर मार्केट में पैसा लगाने के लिए बृजेश रायकवार हांगकांग, दुबई मलेशिया स्थित फाइव स्टार होटल्स में मीटिंग करता था. साथ ही निवेशकों को रिझाने के लिए लग्जरी लाइफ जीता था. इतना ही नहीं इस फर्जी शेयर मार्केट से कमाए हुए रुपयों से बृजेश ने जबलपुर और भोपाल में कई प्रॉपर्टी भी खरीदी और गोवा में कसीनो में इन्वेस्ट किया. वही MP3 मोशंस पिक्चर प्रोडक्शन के लिए भी एक फिल्म ‘महफिल ए उमराव जान’ में भी निवेश किया.

फर्जी शेयर मार्केट में दो विदेशी नागरिक भी जुड़ेअब तक इस पूरे मामले में एसटीएफ की टीम ने बृजेश और उसकी पत्नी को गिरफ्तार किया है, जबकि गिरोह का सदस्य रूपेश दुबे फिलहाल फरार है. बता दें कि इस फर्जी शेयर मार्केट में दो विदेशी नागरिक भी जुड़े हुए हैं, जिनमें हांगकांग का रहने वाला कैविन और मलेशिया का रहने वाला डेनियल फ्रांसिस भी शामिल है. इसके अलावा एसटीएफ के अधिकारियों का कहना है कि इस गोरखधंधे में करीब 100 लोग शामिल हो सकते हैं, जिसकी इन्वेस्टिगेशन के लिए अब एक एसआईटी गठित कर दी गई है. फिलहाल पुलिस अधिकारियों को आशंका है कि आरोपियों ने अब तक करीब 50 से 100 करोड़ की ठगी है.

(भोपाल  से जितेंद्र की रिपोर्ट)

यह भी पढ़ें- क्रिप्टो करंसी के नाम पर 100 करोड़ ठगे, लोगों फंसाने के लिए सेमिनार आयोजित करता था गैंग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 25, 2019, 6:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर