Home /News /madhya-pradesh /

क्या आप सायबर क्राइम के शिकार हैं? परेशान न हों आपके जिले में जल्द खुलने वाला है एक लैब

क्या आप सायबर क्राइम के शिकार हैं? परेशान न हों आपके जिले में जल्द खुलने वाला है एक लैब

फिलहाल एमपी के 13 जिलों में सायबर लैब खोले जा रहे हैं.

फिलहाल एमपी के 13 जिलों में सायबर लैब खोले जा रहे हैं.

MP के 13 जिलों में सायबर लैब (Cyber Lab) शुरू किये जा रहे हैं. जिन जिलों में ज्यादा सायबर क्राइम होते हैं फिलहाल वहां ये लैब को खोले जा रहे हैं. इस लैब में दो आरक्षक और एक सब इंस्पेक्टर तैनात होंगे. पुलिस को सभी संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे. साथ ही तकनीकी मदद मिलेगी.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. मध्यप्रदेश (MP) में बढ़ते सायबर क्राइम (Cyber Crime) कंट्रोल करने के लिए अब हर जिले में हाईटेक सायबर लैब खोले जा रहे हैं. इससे अब सायबर क्राइम की जांच समय पर हो सकेगी और समय रहते आरोपियों को सलाखों के पीछे भेजा जा सकेगा. सरकार का मकसद है कि साइबर क्रिमिनल के पीछे चल रही मध्य प्रदेश पुलिस उससे आगे निकल जाए.

मध्य प्रदेश में एक साल में सायबर अपराधों की करीब 16 हजार शिकायत पुलिस के पास आती हैं. ट्रेंड स्टाफ और संसाधनों की कमी की वजह से इन शिकायतों के आगे पूरी व्यवस्था बोनी साबित होती है. जिलों पुलिस अभी अपने सायबर केस की जांच के लिए भोपाल स्थित राज्य सायबर सेल पर ही निर्भर रहती है. बढ़ते सायबर अपराध और मौजूदा स्थिति के बीच सरकार ने बड़ा फैसला लिया है. प्रदेश में पहले चरण में 13 जिलों में सायबर लैब खोल रही है. यह लैब अगले महीने से काम करना शुरू कर देंगे.

ऐसा होगा ढांचा
इस सायबर लैब में एक सब इंस्पेक्टर और दो कांस्टेबल तैनात किए जाएंगे. राज्य सायबर सेल ने इन सभी को काम करने के लिए ट्रेनिंग भी दे दी है. लैब के लिए केंद्र और राज्य सरकार की मदद से करीब साढ़े तीन करोड़ रुपए के उपकरण खरीदे गए हैं.

ये भी पढ़ें- आश्रम 3 के बाद अब उज्जैन में अक्षय कुमार की फिल्म OMG 2 की शूटिंग पर विवाद

हर जिले में लैब खोलने का टारगेट…
स्टेट सायबर हेड क्वार्टर के एसपी रियाज इकबाल ने कहा सायबर अपराधों की संख्या बढ़ती जा रही है. हमारा अनुमान है कि यह संख्या आगे औऱ ज्यादा बढ़ जाएगी. हम 13 जिलों में सायबर लैब शुरू कर रहे हैं. जिन जिलों में ज्यादा सायबर क्राइम होते हैं फिलहाल वहां ये लैब को खोले जा रहे हैं. इस लैब में दो आरक्षक और एक सब इंस्पेक्टर तैनात होंगे. पुलिस को सभी संसाधन उपलब्ध कराए जाएंगे. साथ ही तकनीकी मदद मिलेगी. आगे के चरणों में 13 जिलों के बाद पूरे मध्यप्रदेश में सायबर लैब खोले जाएंगे. इसका कंट्रोल जिले के एसपी के पास रहेगा. यह लैब राज्य सायबर मुख्यालय के अधीन काम करेंगी.

नए फार्मूले से कंट्रोल की कोशिश…
पहले जिले के कोतवाली थाने को सायबर नोडल थाना बनाया गया था. लेकिन तकनीक और ट्रेनिंग के कारण वहां पर FIR दर्ज नहीं हो पा रही थी. दूसरी तरफ थानों में आने वाली शिकायतों को भी डिस्ट्रिक्ट और स्टेट सायबर सेल भेजा जा रहा था. ऐसे में अब बढ़ते सायबर क्राइम की संख्या को देखते हुए हर जिले में एक सायबर लैब खोलने का फैसला लिया है. कोतवाली थाने को नोडल थाना बनाने के मॉडल में ज्यादा सफलता नहीं मिली.  सभी जिलों में सायबर थाना खोलना संभव नहीं है. इसलिए फिलहाल 13 जिलों में ही ये प्रयोग किया जा रहा है.

Tags: Cyber Fraud, Cyber police, Cyber ​​Security

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर