मध्यप्रदेश में आ गई है डकैतों की सरकार और शुरू हो गया है तबादला उद्योग: शिवराज सिंह चौहान

शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

लोकसभा चुनाव 2019 के मध्यनजर एक जनसभा को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि एमपी में फिर से डकैतों की सरकार आ गई है और लेन-देन से चलने वाला तबादला उद्योग शुरू हो गया है.

  • Share this:
मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने शिवपुरी जिले की पोहरी विधानसभा के बैराड़ में बड़ा बयान दिया है. अपने बयान में शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार को डकैतों की सरकार बताया है. शिवराज के साथ बैराड़ की इस सभा में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव मौजूद रहे.

बैराड़ में विजय संकल्प यात्रा के दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में डकैतों की सरकार वापस आ गई है. प्रदेश में रोज लूट, डकैती की घटनाएं हो रही है और हालत यह है कि प्रदेश में प्रतिदिन 6 हत्याएं हो रही है. पुर्व सीएम शिवराज ने कहा कि जब उनकी सरकार प्रदेश में थी, तो ग्वालियर-चंबल संभाग को डकैत मुक्त कर दिया था. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का संकल्प था कि या तो प्रदेश में डकैत रहेंगे या शिवराज और उन्होंने इस संकल्प को पूरा करके भी दिखाया.

यह भी पढ़ें- BJP 16 मार्च को जारी करेगी प्रत्याशियों की पहली लिस्ट, 25% सांसदों का कट सकता है टिकट

मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा पिछले दिनों बड़ी संख्या में अधिकारियों-कर्मचारियों के ट्रांसफरों पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अब तबादला उद्योग भी खुल गया है और लेन-देन कर अधिकारी और कर्मचारियों के स्थानांतरण किए जा रहे हैं. मीडिया से बात करते हुए शिवराज सिंह ने कहा कि एक बार फिर नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने और प्रदेश की सभी 29 लोकसभा सीटे भाजपा जीते इसके लिए वे निकले हैं. उन्होंने सिंधिया के मुकाबले प्रत्याशी बनाए जाने के मामले में कहा कि, वे पार्टी के कार्यकर्ता है और जो पार्टी तय करेगी, वे वही काम करेंगे.

यह भी पढ़ें-  भाजपा ने माना- छिंदवाड़ा में सीएम कमलनाथ के मुकाबले नहीं है कोई चेहरा

यह भी पढ़ें-  दिल्ली से फोन आ रहा है....बताओ, किसे दें लोकसभा का टिकट!

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स