दमोह उप चुनाव: कोरोना गाइडलाइन के बीच होगी वोटिंग, जानिए चुनाव आयोग ने क्या की है व्यवस्था

चुनाव आयोग ने दमोह उप चुनाव को लेकर गाइडलाइ जारी कर दी हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

चुनाव आयोग ने दमोह उप चुनाव को लेकर गाइडलाइ जारी कर दी हैं. (सांकेतिक तस्वीर)

दमोह उप चुनाव: चुनाव आयोग ने वोटिंग के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है. मतदाताओं के लिए बूथ पर सभी तरह की व्यवस्थाएं होंगी. कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सभी तरह की सुविधाओं का ध्यान रखा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 2:01 PM IST
  • Share this:
भोपाल. दमोह उप चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने गाइडलाइन जारी कर दी है. लगातार फैलते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर चुनाव के दौरान बूथ पर मास्क, फेस शील्ड और ग्लब्स का इस्तेमाल किया जाएगा. किसी तरह का कोई संक्रमण नहीं फैले इसके लिए सभी मतदाताओं के तापमान की जांच की जाएगी. बूथ पर ही सैनेटाइजर, साबुन और पानी की  व्यवस्था भी होगी.

चुनाव आयोग ने मतदान केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा लंबी-लंबी लाइनों से बचने के लिए टोकन प्रणाली अपनाने के निर्देश दिए गए हैं. मतदान केंद्र को सैनेटाइज किया जाएगा. 80 साल से ज्यादा उम्र के मतदाता डाक मतपत्र का इस्तेमाल कर सकेंगे. मतदान का समय भी 1 घंटे बढ़ा दिया गया है. मतदान सुबह 7:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक हो सकेगा. गौरतलब है कि उप चुनाव 17 अप्रैल को होने हैं.

सीएम नहीं छोड़ रहे कोई कसर

इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस उप चुनाव में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते. दो दिन पहले ही वे दमोह के दौरे पर रहे. वो यहां बूथ कार्यकर्ताओं के सम्मेलन में शामिल हुए. उन्होंने पार्टी प्रत्याशियों को भारी मतों के साथ ऐतिहासिक जीत दिलाने का संकल्प दिलाया. बूथ कार्यकर्ता की पार्टी को जिताने में क्या भूमिका रहती है, इस बारे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब प्रधानमंत्री बने थे तो उन्होंने सबसे पहले कार्यकर्ताओं को प्रणाम किया था. पीएम मोदी ने कहा था अगर मैं इतने प्रचंड बहुमत से जीता हूं वह बीजेपी कार्यकर्ता की वजह से हुआ है.
कार्यकर्ता ही जनार्दन

सीएम शिवराज ने कहा जनसंघ के जमाने से लड़ रहे थे कि कश्मीर से धारा 370 हटाई जाए. एक देश में दो निशान दो विधान दो प्रधान नहीं होने चाहिए. लोग कहते थे ना तो 370 धारा हट सकती है और ना ही राम मंदिर बन सकता है. कांग्रेस हमेशा ही भाजपा पर तंज कसती रहती थी. रामलला आएंगे मंदिर वहीं बनाएंगे तारीख नहीं बताएंगे. लेकिन मोदी जी ने धारा 370 हटा दी और मंदिर का शिलान्यास भी कर दिया. अगर यह सब केवल पार्टी कार्यकर्ताओं की वजह से संभव हो सका. तीन तलाक का कानून बना तो वह आपकी वजह से बना. मध्यप्रदेश में हमने प्रगति और विकास की लकीर खींची तो कार्यकर्ता भाई बहनों आप की वजह से खींच सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज