भोपाल : COVID-19 के शिकार हुए पुलिस अधिकारी की बेटी को मिली उप निरीक्षक पद पर नियुक्ति

फाल्गुनी पाल को अनुकंपा के आधार पर नौकरी मिली. (प्रतीकात्मक फोटो)
फाल्गुनी पाल को अनुकंपा के आधार पर नौकरी मिली. (प्रतीकात्मक फोटो)

जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि प्रदेश के गृह तथा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने उज्जैन की फाल्गुनी पाल से वीडियो कॉलिंग द्वारा बात कर सब इंस्पेक्टर बनने पर शुभकामनाएं दीं.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश सरकार ने एक पुलिस अधिकारी की 23 वर्षीय बेटी को पुलिस में उप निरीक्षक के पद पर नियुक्त किया है. इस पुलिस अधिकारी की पिछले माह कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से मौत हो गई थी.

ड्यूटी के दौरान हुई थी मौत

उज्जैन (Ujjain) के नीलगंगा पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक यशवंत पाल (59) कोरोना वायरस प्रभावित इलाकों में ड्यूटी के दौरान कोविड-19 से संक्रमित हो गए और बाद में इन्दौर (Indore) के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान पिछले माह उनका निधन हो गया.



जनसंपर्क विभाग के अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि प्रदेश के गृह तथा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने उज्जैन की फाल्गुनी पाल से वीडियो कॉलिंग द्वारा बात कर सब इंस्पेक्टर बनने पर शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) के निर्देशानुसार गृह विभाग द्वारा उन्हें सब इंस्पेक्टर के पद पर अनुकंपा नियुक्ति दी गई है. अगले सप्ताह वह अपने कर्तव्य पर उपस्थित होकर अपने परिवार की जिम्मेदारी के साथ समाज, प्रदेश वासियों की सेवा और विभागीय दायित्वों के साथ जिम्मेदारियों का निर्वाहन प्रारंभ कर सकती हैं.
मिश्रा ने बताया कि कोविड-19 के संकट काल में उज्जैन के नीलगंगा थाने में पदस्थ रहे थाना प्रभारी यशवंत पाल अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए शहीद हो गए. मुख्यमंत्री चौहान के निर्देशानुसार उनकी पुत्री फाल्गुनी पाल को अनुकंपा नियुक्ति दी गई है.

बढ़ाए जा रहे हैं क्वारंटाइन सेंटर

इस बीच भोपाल (Bhopal) में कोरोना पॉजिटिव मरीजों (Corona Positive Patients) की संख्या लगातार बढ़ रही है. भोपाल में तीन हॉटस्पॉट (Hotspot) वाले इलाके जहांगीराबाद, मंगलवारा और इस्लामपुरा से लगातार कोरोना के नए केस सामने आ रहे हैं. हर रोज नए पॉजिटिव मरीजों के सामने आने से कलेक्टर ने भोपाल में क्वारंटाइन सेंटर को बढ़ाने के निर्देश दिए हैं. कलेक्टर तरुण पिथोड़े का कहना है कि भोपाल में 10 क्वारंटाइन सेंटर हैं और सभी में लोग इस समय रह रहे हैं. उन्होंने बताया कि जहांगीराबाद इलाके से हर रोज नए पॉजिटिव के सामने आ रहे हैं. पॉजिटिव मरीजों के सामने आते ही परिजनों और आस-पड़ोस के लोगों को भी क्वारंटाइन (Quarantine) किया जाएगा. ऐसे में शहर में और अधिक क्वारंटाइन सेंटर तैयार करवाए जा रहे हैं जिससे लोगों को यहां रखा जा सके. अभी तक लोग एडवांस मेडिकल कॉलेज, सनसिटी मैरिज गार्डन, गुलशन मैरिज गार्डन, सूर्या होटल और कोलार रोड स्थित क्वारंटाइन सेंटर्स में रह रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज