लाइव टीवी

दिल्ली में दूसरी बार चुनाव जीता भोपाल का बेटा, पिता आज भी बनाते हैं पंचर
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 12, 2020, 5:10 PM IST
दिल्ली में दूसरी बार चुनाव जीता भोपाल का बेटा, पिता आज भी बनाते हैं पंचर
भोपाल के रहने वाले AAP नेता प्रवीण कुमार ने दिल्ली की जंगपुरा सीट से दूसरी बार चुनाव जीता है.

दिल्ली की जंगपुरा विधानसभा सीट (Jangpura constituency) से दूसरी बार जीत दर्ज करने वाले में AAP नेता प्रवीण कुमार देशमुख (Praveen Kumar Deshmukh) भोपाल के रहने वाले हैं. भोपाल में पढ़ाई पूरी करने वाले प्रवीण एक सामान्य परिवार से आते हैं, जिसका राजनीति से कोई जुड़ाव नहीं रहा है.

  • Share this:
भोपाल. दिल्ली की जंगपुरा विधानसभा सीट (Delhi Election Result) से दूसरी बार विधायक बने आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता प्रवीण कुमार देशमुख (Praveen Kumar Deshmukh) का भोपाल से पुराना कनेक्शन है. प्रवीण ने जंगपुरा विधानसभा सीट (Jangpura constituency) से 16 हजार 63 वोट से जीत दर्ज की है. विधानसभा चुनाव में दूसरी बार मिली जीत के इस मौके पर अपने बेटे के साथ जश्न मनाने के लिए प्रवीण का पूरा परिवार दिल्ली में ही मौजूद था. भोपाल में पढ़ाई पूरी करने वाले प्रवीण एक सामान्य परिवार से आते हैं, जिसका राजनीति से कोई जुड़ाव नहीं रहा है. प्रवीण के पिता आज भी भोपाल में पंचर की दुकान चलाते हैं. जानकारी के मुताबिक प्रवीण की इस चुनावी जीत में उसके दोस्तों ने भी अहम भूमिका निभाई. चुनाव अभियान के दौरान वे दिल्ली में रहकर प्रवीण कुमार के प्रचार का काम देखते रहे.

प्रवीण का सियासी सफर
प्रवीण ने सियासी सफर की शुरुआत 2011 में अन्ना आंदोलन से की. इसके बाद वह आम आदमी पार्टी से जुड़ गए. प्रवीण ने भोपाल से 2008 में MBA किया. नौकरी करने के लिए वह 2009 में दिल्ली पहुंचे. प्रवीण के घर वालों ने यह कभी नहीं सोचा था कि उनका बेटा नौकरी की जगह राजनीति में उतर कर विधायक बनेगा. लेकिन अन्ना आंदोलन के बाद प्रवीण ने अरविंद केजरीवाल के साथ AAP ज्वाइन की और विधायक बने. प्रवीण ने 2015 में पहली बार जंगपुरा विधानसभा से चुनाव लड़ा और करीब 20 हजार वोटों के अंतर से जीत हासिल की. 2020 में AAP ने प्रवीण पर फिर विश्वास जताया और जंगपुरा विधानसभा से दूसरी बार मैदान में उतारा. प्रवीण इस बार भी अपने नेता अरविंद केजरीवाल की उम्मीदों पर खरे उतरे और दूसरी बार जीत हासिल की.

भोपाल में है पंचर की दुकान

प्रवीण कुमार के परिवार की कोई सियासी पृष्ठभूमि नहीं है. उनके पिता पीएन देशमुख की भोपाल में जिंसी चौराहा, बोगदापुल के पास ज्योति टायर वर्क्स के नाम से टायर सुधारने और पंचर बनाने की दुकान है. प्रवीण पहली बार विधायक बने थे, उसके बाद भी पिता ने पंचर बनाने का काम नहीं छोड़ा था. बेटे के विधायक बनने की खबर के बाद पीएन देशमुख की दुकान पर मीडिया का जमावड़ा लग गया था. उस समय मीडिया के साथ बातचीत में पीएन देशमुख ने कहा था कि वह अपना काम करते रहेंगे. हालांकि प्रवीण ने कई बार पिता से यह काम छोड़ने के लिए भी कहा, लेकिन पीएन देशमुख को अपने काम से लगाव है. वे कहते भी हैं कि मैं इस काम से बहुत खुश हूं.

delhi-election-result-aap-candidate-praveen-kumar-wins-from-jangpura-constituency-mpmr-nodrj | दिल्ली में दूसरी बार चुनाव जीता भोपाल का बेटा, पिता आज भी बनाते हैं पंचर
दिल्ली चुनाव के लिए मतदान के दिन प्रवीण कुमार ने शेयर किया था ये ट्वीट.


दोस्तों ने उठाया प्रचार का खर्चAAP नेता प्रवीण कुमार के कई दोस्त भोपाल में रहते हैं. लेकिन चुनाव में दोस्त की मदद करने के लिए वे लोग दिल्ली आकर अपने काम में जुट जाते हैं. इस बार के चुनाव में भी प्रवीण के कई दोस्त दिल्ली आए और उनका हाथ बंटाया. इन दोस्तों ने न सिर्फ प्रवीण के चुनाव अभियान में शारीरिक श्रम किया, बल्कि दोस्त के चुनाव खर्च का भी इंतजाम किया. प्रवीण के कई दोस्तों ने चुनाव के लिए उनकी दिल खोलकर मदद की. चुनाव प्रचार के दौरान ये दोस्त पूरे समय दिल्ली में ही बने रहे. विधानसभा क्षेत्र में जगह-जगह घूमकर प्रचार भी किया. अपने दोस्त की दोबारा जीत से भोपाल में उनके दोस्तों, रिश्तेदारों और करीबियों में खुशी का माहौल है.

ये भी पढ़ें -

संविदा कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज : कृषि विभाग में मानदेय बढ़ेगा, पंचायत में फिर मिलेगी नौकरी

राजगढ़ कलेक्टर थप्पड़ कांड की जांच के लिए हाईपावर कमेटी बनी, IAS और IPS अफसर शामिल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 2:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर