Bhopal : नाइट कर्फ्यू के बावजूद क्लब कबीना में देर रात चल रही थी पार्टी, पुलिस ने मारा छापा

क्लब कबीना देर रात तक गुलजार था. पुलिस ने छापामारी कर भारी मात्रा में शराब जब्त की.

क्लब कबीना देर रात तक गुलजार था. पुलिस ने छापामारी कर भारी मात्रा में शराब जब्त की.

आबकारी की टीम ने जब रेस्टोरेंट क्लब कबीना में जाकर दबिश दी तो कई अमीरजादे मुंह छुपाते नजर आए. वहीं, पुलिस ने कई लोगों पर कार्रवाई की ओर बड़ी मात्रा में शराब जब्त भी की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2020, 10:44 PM IST
  • Share this:
भोपाल. भोपाल (Bhopal) में इन दिनों नाइट कर्फ्यू (night curfew) लागू है. लेकिन इस नाइट कर्फ्यू का असर नाइट क्लबों पर जरा भी नहीं. कहा जा सकता है रसूखदारों के बिजनेस और उनके मनोरंजन पर किसी तरह का कोई अंकुश नहीं. यह नाइट कर्फ्यू तो उन आमलोगों के लिए है जिनकी पहुंच ऊंची नहीं. भोपाल में कई जगहों पर लेट नाइट पार्टियां चल रही हैं. आपको बता दूं कि ये पार्टियां चोरी-छुपे नहीं चल रहीं. इन पार्टियों की जानकारी पुलिसवालों को भी रहती है लेकिन वह इन रसूखदारों पर हाथ डालने से कतराती है.

भोपाल में नियम कानून सिर्फ छोटे दुकानदारों के लिए ही नजर आ रहे हैं, क्योंकि बड़े व्यवसायी तो अपनी मर्जी से देर रात तक क्लब डांस बार खोल रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान भी भोपाल पुलिस ने दर्जन भर से ज्यादा नाइट क्लबों पर छापा मारा था. वहीं अब नाईट कर्फ्यू के दौरान भी शहर में बड़े पैमाने पर लेट नाइट पार्टियां चल रही हैं. ऐसा लगता है कि इन रसूखदारों पर किसी दबाव के कारण कोई कार्रवाई नहीं हो रही है.

वैसे, पुलिस ने कल देर रात एक रेस्टोरेंट पर छापामारी कर भारी मात्रा में शराब जब्त की है और कार्रवाई की है. यह छापेमारी भोपाल के बैरागढ़ इलाके में क्लब कबीना नाम से चलने वाले रेस्टोरेंट पर की गई. यहां देर रात तक महफिल सजी हुई थी. लोग शराब के नशे में धुत्त होकर पार्टी में झूम रहे थे. आबकारी की टीम ने मौके पर जाकर दबिश दी तो कई अमीरजादे मुंह छुपाते नजर आए. वहीं, पुलिस ने कई लोगों पर कार्रवाई की ओर बड़ी मात्रा में शराब जब्त भी की. बैरागढ़ इलाके में ही दर्जनों गार्डन में पार्टियां चल रही थीं, जहाँ पहुंचकर पुलिस ने उन्हें बन्द कराया. मगर एक बात साफ है कि कानून का डर सिर्फ छोटे दुकानदारों को रहता है, बड़े रसूखदार तो कानून से खेलवाड़ करते नजर आते हैं. उन्हें प्रशासन का कोई डर नहीं रहता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज