Assembly Banner 2021

देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड : BSP विधायक रामबाई ने फरार पति से की सरेंडर करने की अपील...

राम बाई पथरिया विधानसभा सीट से बीएसपी विधायक हैं.

राम बाई पथरिया विधानसभा सीट से बीएसपी विधायक हैं.

Bhopal. बीएसपी विधायक (BSP MLA) रामबाई का पति गोविंद सिंह पुलिस रिकॉर्ड में फरार चल रहा है.उसकी 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के बाद से तलाश है.

  • Share this:
भोपाल. दमोह (Damoh) की पथरिया सीट से बीएसपी विधायक (BSP MLA) राम बाई ने अपने फरार पति से सरेंडर करने की अपील की है. रामबाई के पति गोविंद सिंह परिहार कांग्रेस नेता देवेन्द्र चौरसिया हत्याकांड में आरोपी है और दो साल के फरार है.

रामबाई ने मीडिया के जरिए कहा कोर्ट में जमानत के लिए हमने याचिका लगाई है. अगर उनके पति गोविंद सिंह सरेंडर नहीं करते हैं तो याचिका खारिज हो सकती है. रामबाई ने अपने पति से अपील की है कि वो जहां भी हैं, न्यायालय या पुलिस के सामने आकर सरेंडर कर दें. उन्होंने यह भी कहा- मैं किसी के दबाव में ये बातें नहीं कर रही हूं.

ये है पूरा मामला...
बीएसपी की चर्चित विधायक रामबाई का पति गोविंद सिंह पुलिस रिकॉर्ड में फरार चल रहा है.उसकी 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस नेता देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के बाद से तलाश है.गोविंद सिंह परिहार देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड का मुख्य आरोपी है.उसकी तलाश में एसटीएफ एडीजी विपिन माहेश्वरी ने पिछले दिनों 2 दिन दमोह में डेरा डाला था.आरोपी कमलनाथ सरकार के दौरान विधानसभा में भी नजर आया था,लेकिन पुलिस ने उस समय उसे क्लीन चिट दे दी थी.इस पूरे मामले में राजनेता और पुलिस अधिकारियों का बड़ा गठजोड़ सामने आया था.कई सवाल पुलिस पर खड़े हो रहे थे.
मुख्य आरोपी


कांग्रेस नेता देवेंद्र की हत्या के मामले में पुलिस ने विधायक रामबाई के पति गोविंद सिंह सहित उनके परिवार के सदस्यों को आरोपी बनाया था. सबसे पहले निचली अदालत ने गोविंद सिंह के खिलाफ वारंट जारी किया. लेकिन आदेश देने वाले जज ने परेशान करने के आरोप लगाए थे. वारंट जारी करने वाले जज ने डिस्ट्रिक्ट जज को चिट्ठी लिखकर सूचित किया था कि पुलिस उन्हें धमकी दे रही है.



मिल गयी थी राहत
उस दौरान प्रदेश में कमलनाथ सरकार थी. मामले की जांच के लिए बनाई गई एसआईटी ने रामबाई के पति गोविंद सिंह को मामले से बाहर कर दिया था. ऐसा कहा जाता है कि तत्कालीन सीएम कमलनाथ से अच्छे संबंध होने के कारण विधायक पति को उस समय राहत मिल गयी थी.

फिर से गिरफ्तारी वारंट हुआ था जारी
इस साल जनवरी में दमोह जिले के हटा एडीजे कोर्ट ने गोविंद सिंह को फिर से आरोपी बनाते हुए सात दिन के अंदर सरेंडर करने का आदेश दिया था. कमलनाथ सरकार जाने के बाद विधायक राम भाई ने बीजेपी का दामन थाम लिया था और यही कारण था कि कई मंत्रियों और बीजेपी के बड़े नेताओं से नज़दीकियां होने की वजह से फिर से उनके पति गोविंद सिंह के खिलाफ गिरफ्तारी की कार्रवाई अब तक नहीं हो सकी. वारंट जारी होने के बाद भी अब तक गोविंद सिंह को गिरफ्तार नहीं किया गया है.

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई सरकार को फटकार
ये मामला सुप्रीम कोर्ट में था. हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश के डीजीपी को विधायक के पति गोविंद सिंह को तत्काल गिरफ्तार करने का आदेश दिया. साथ ही टिप्पणी की थी कि प्रदेश में जंगलराज जैसे हालत हैं. कांग्रेस नेता देवेंद्र सिंह चौरसिया की हत्या के मामले में गोविंद सिंह के खिलाफ वारंट जारी है, लेकिन दो साल से उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है. जस्टिस डी वाय चंद्रचूड़ और जस्टिस एम आर शाह की बैंच ने मामले पर आश्चर्य जताते हुए टिप्पणी की थी कि राज्य सरकार को मान लेना चाहिए कि वह संविधान के अनुसार काम नहीं कर सकती. दोनों जजों ने दमोह के एसपी को भी पद से हटाने का निर्देश दिया, लेकिन फैसले में इसकी चर्चा नहीं की. सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद एमपी पुलिस सक्रिय हुई और एसटीएफ एडीजी विपिन माहेश्वरी ने गोविंद सिंह की तलाश में दमोह पिछले हफ्ते डेरा डाला था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज