महाराष्ट्र से हुई मुश्किल तो मोदी सरकार ने की MP की मदद, रोज 50 टन ऑक्सीजन की सप्लाई का वादा
Bhopal News in Hindi

महाराष्ट्र से हुई मुश्किल तो मोदी सरकार ने की MP की मदद, रोज 50 टन ऑक्सीजन की सप्लाई का वादा
केन्द्र की मोदी सरकार ने एमपी की मदद की है. फाइल फोटो.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना (Corona) संकट के बीच ऑक्सीजन सप्लाई पर संकट के बादल छट गए हैं. महाराष्ट्र (Maharashtra) से ऑक्सीजन सप्लाई में कमी आने के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने शिवराज सरकार की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में कोरोना (Corona) संकट के बीच ऑक्सीजन सप्लाई पर संकट के बादल छट गए हैं. महाराष्ट्र (Maharashtra) से ऑक्सीजन सप्लाई में कमी आने के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने शिवराज सरकार की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है. केंद्र ने तय किया है कि वह मध्यप्रदेश को हर दिन 50 टन ऑक्सीजन की सप्लाई करेगा. ऑक्सीजन की यह सप्लाई स्टील अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया लिमिटेड यानी सेल की ओर से की जाएगी. सेल से होने वाली ऑक्सीजन की सप्लाई के बाद मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की उपलब्धता 180 टन प्रतिदिन हो जाएगी, जो प्रतिदिन होने वाली खपत 110 टन से ज्यादा रहेगी.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केंद्र के इस फैसले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का धन्यवाद दिया है. बताया जा रहा है केंद्र से मध्य प्रदेश को ऑक्सीजन दिलवाने के फैसले में पीयूष गोयल की अहम भूमिका रही है.

क्या था संकट?
दरअसल मध्यप्रदेश में रोजाना ऑक्सीजन की 110 टन की जरूरत फिलहाल पड़ रही है, जिसमें उपलब्धता 130 टन के आसपास है एमपी को गुजरात, महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ से ऑक्सीजन की सप्लाई होती है, लेकिन कोरोना संकट की वजह से महाराष्ट्र से ऑक्सीजन की सप्लाई में कमी आई थी, जिसके बाद मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन को लेकर यह सवाल खड़ा हो रहा था कि बढ़ते मरीजों की संख्या के बीच अगर ऑक्सीजन की सप्लाई पर्याप्त नहीं हुई तो फिर मरीजों के लिए मुश्किल हो सकती है.
सीएम ने की बैठक


ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर सीएम शिवराज ने एक अहम बैठक सीएम हाउस में की थी. बैठक में लिए गए फैसले के मुताबिक सरकार अब महाराष्ट्र के अलावा गुजरात और उत्तर प्रदेश से भी ऑक्सीजन लेने की तैयारी करेगी एमपी के ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता बढ़ायी जाएगी प्लांट100% क्षमता से चलाए जाएंगे प्लांट मुहासा में ऑक्सीजन का नया प्लांट लगाया जाएगा. ऑक्सीजन का दुरुपयोग न हो इसके लिए निर्देश जारी किए गए थे. सरकार ने हर जिले में Covid-19 कमांड कंट्रोल रूम सेंटर बनाये जाने का भी फैसला किया है.

कोरोना के बढ़ते मरीज चिंता
दरअसल पूरे देश के साथ ही मध्य प्रदेश में भी कोरोना के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. ऐसे में अस्पतालों में पर्याप्त बेड की उपलब्धता के साथ-साथ ऑक्सीजन की उपलब्धता बनाए रखना भी चुनौती साबित हो रहा है. कोरोना के गंभीर मरीजों को जरूरत पड़ने पर ऑक्सीजन लगानी पड़ती है. महाराष्ट्र में मरीजों की संख्या ज्यादा बढ़ने की वजह से वहां से ऑक्सीजन की सप्लाई पर असर पड़ा है यही वजह है कि एमपी सरकार को इस मामले पर गंभीर होना पड़ा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading