कांग्रेस के 'दिग्विजयी दांव' से बीजेपी में मंथन तेज, चल सकती है ये दांव

दिग्‍विजय सिंह (File Photo)
दिग्‍विजय सिंह (File Photo)

बीजेपी ने इसका तोड़ तलाशना तेज कर दिया है. उधर कांग्रेस भी दिग्विजय के हार-जीत के सियासी गुणा-भाग में जुट गई है

  • Share this:
भोपाल लोकसभा सीट पर राजनीतिक घमासान चरम पर है. लोकसभा चुनाव के लिए भोपाल सीट से कांग्रेस के 'दिग्विजयी दांव' के बाद बीजेपी में मंथन तेज हो गया है. बीजेपी ने इसका तोड़ तलाशना तेज कर दिया है. उधर कांग्रेस भी दिग्विजय के हार-जीत के सियासी गुणा-भाग में जुट गई है.

दरअसल, दिग्विजय सिंह भोपाल लोकसभा सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशी घोषित हो गए हैं. कांग्रेस ने तीन दशक से बीजेपी के अभेद गढ़ को भेदने के लिए दिग्विजय पर दांव चला है. आलम ये है कि दिग्विजय के नाम के एलान के साथ भोपाल सीट पर सियासी सरगर्मी तेज हो गई है.

कैलाश विजयवर्गीय ने दिग्विजय सिंह को दी खुली चुनौती, कहा- भोपाल से चुनाव लड़ने को तैयार



इसके बाद बीजेपी जहां दिग्विजय के खिलाफ एक मजबूत उम्मीदवार पार मंथन तेज कर दिया है तो वहीं दूसरी ओर बीजेपी ने 2003 के दिग्विजय सिंह के खिलाफ बने माहौल को पंद्रह साल बाद फिर हवा देकर कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाने में जुट गई है. बीजेपी के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि 'मिस्टर बंटाधार' के राज में सड़क, बिजली, पानी और कर्मचारियों की नाराजगी के साथ ही तुष्टिकरण की सियासत को हवा दी जाएगी.
उधर इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दिग्विजय पर हमला बोला है. शिवराज ने तंज कसते हुए दिग्विजय सिंह को बंटाधार रिटर्न्स बताया है. शिवराज ने कहा कि बीजेपी के सामने कोई चुनौती नहीं है और मैं किसी व्यक्ति को इतना महत्व नही देता हूं. भोपाल से लड़कर दिग्विजय सिंह से बदला लेने की बात पर शिवराज ने कहा कि बदला लेने की प्रवत्ति नहीं है, मिशन के लिए काम करता हूं. भोपाल से सोच समझकर प्रत्याशी उतारेंगे.

बता दें कि भोपाल के स्थानीय बीजेपी नेताओं ने आपस में बैठक कर यह निषकर्ष निकाला था कि इस सीट पर किसी स्थानीय उम्मीदवार को ही टिकट मिलना चाहिए. इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और दिग्गज बीजेपी नेता बाबूलाल गौर ने बयान भी दिया था कि भोपाल से बीजेपी ही जीतेगी लेकिन पार्टी को सोच-समझकर उम्मीदवार उतारना चाहिए.

भोपाल लोकसभा सीट के जातीय समीकरणों पर नजर डालें तो.
- 21 लाख 2 हजार मतदाता है
- 19 लाख भोपाल जिले और 1 लाख 94 हजार सीहोर से आते है
- 2014 के चुनाव में बीजेपी के आलोक संजर ने कांग्रेस के पीसी शर्मा को 3 लाख 70 हजार वोटों से शिकस्त दी थी
- इस सीट पर कायस्थ, ब्राम्हण और मुस्लिम मतदाता निर्णायक स्थिति में हैं

यह पढ़ें- शिवराज सिंह चौहान का दिग्विजय पर तंज, कहा- बंटाधार रिटर्न्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज