उमंग सिंघार की कड़वी चाय के न्योते पर दिग्विजय सिंह का जवाब- मैं डायबिटिक नहीं

Sharad Shrivastava
Updated: September 6, 2019, 6:15 PM IST
उमंग सिंघार की कड़वी चाय के न्योते पर दिग्विजय सिंह का जवाब- मैं डायबिटिक नहीं
दिग्विजय सिंह और उमंग सिंघार. (फाइल फोटो)

एमपी कांग्रेस (MP Congress) में जारी विवाद के बीच सुर्खियों में आया दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) का बयान.

  • Last Updated: September 6, 2019, 6:15 PM IST
  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (CM Kamalnath) के 'ऑल इज वेल' वाले बयान के बाद प्रदेश कांग्रेस (MP Congress) में मची उथल-पुथल ऊपरी तौर पर भले शांत होती नजर आ रही हो, लेकिन भीतर ही भीतर आग अब भी सुलग रही है. पूरे मामले पर आलाकमान की तरफ से बयान आने के बाद कमलनाथ दिल्ली को रिपोर्ट करने वाले हैं. लेकिन शुक्रवार को दिनभर प्रदेश की राजधानी भोपाल में उमंग सिंघार (Umang Singhar) की 'कड़वी चाय' के बयान पर दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) का 'मीठी चाय' वाला जवाब सुर्खियों में रहा. दरअसल, उमंग सिंघार के तीखे आरोपों को झेलने के पांच दिन बाद दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें उन्होंने सिंघार के कड़वी चाय पिलाने के न्योते के जवाब में कहा कि वे डायबिटिक नहीं हैं और मीठी चाय पीते हैं. प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री के इस जवाब का सियासी गलियारों में यही मतलब निकाला गया कि वे उमंग सिंघार से मिलने नहीं जाएंगे.

सिंघार ने लगाए थे गंभीर आरोप
दरअसल, कमलनाथ सरकार में मंत्री उमंग सिंघार ने दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के ऊपर ब्लैकमेलिंग, ट्रांसफर-पोस्टिंग करवाने और रेत खनन जैसे गंभीर आरोप लगाए थे. इसके जवाब में जब दिग्विजय ने मंत्री से मिलने की बात कही थी, तो सिंघार ने कहा था कि दिग्विजय सिंह मिलने आएंगे तो वह उन्हें कड़वी चाय पिलाएंगे. शुक्रवार को जब दिग्विजय की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हुई तो मीडिया को उम्मीद थी कि वे सिंघार से मिलने के सवाल का जवाब देंगे. लेकिन उमंग सिंघार (Umang Singhar) से मुलाकात के मुद्दे पर दिग्विजय सिंह ने इशारों-इशारों में इनकार करते हुए कहा, 'मैं डाइबिटिक नहीं हूं और मीठी चाय पीता हूं.' सिंघार के आरोप लगाने के बाद से ही शुरू हुआ यह विवाद दिग्विजय के इस जवाब के बाद और भी उलझ गया. हालांकि इसी बीच कांग्रेस आलाकमान ने प्रदेश के सभी वरिष्ठ नेताओं को इस मामले पर चुप रहने की सलाह दे दी, जिससे विवाद की आंच थोड़ी मंद पड़ गई.

पार्टी अनुशासन का सवाल

दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने मध्यप्रदेश में जारी सियासी घटनाक्रम को लेकर कहा कि उनकी लड़ाई बीजेपी से है. वे उस विचारधारा से समझौता नहीं कर सकते. कांग्रेस में जारी उठा-पटक को लेकर उन्होंने इस मामले को आलाकमान के ऊपर छोड़ दिया. उन्होंने कहा, 'पिछले 4-5 दिन से जो चल रहा है, वह पूरे तरीके से सीएम कमलनाथ (CM Kamalnath) और सोनिया जी (Sonia Gandhi) को देखना है.' अपने इस बयान के साथ ही दिग्विजय सिंह ने पार्टी में अनुशासनहीनता का मुद्दा भी उठाया. उन्होंने कहा कि मेरी अपील है कि हर पार्टी में अनुशासन होना चाहिए, कोई कितना भी बड़ा व्यक्ति हो उस पर कार्रवाई होना चाहिए. लेकिन लोग अनुशासन का पालन करें. कोई ऐसा काम न करें जिससे कि भाजपा को मौका मिले.

भाजपा के ऊपर आरोप
भाजपा के ऊपर आरोप लगाते हुए दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने कहा कि मेरे ऊपर आरोप तब लगना शुरू हुए जब मैंने आईएसआई के साथ बीजेपी नेताओं के कनेक्शन को लेकर आवाज़ उठाई. उसके बाद से ये घटनाक्रम चालू हुआ. साल 2017 में बजरंग दल और भाजपा के सदस्यों को एसटीएफ द्वारा पकड़े जाने और तत्कालीन राज्य सरकार द्वारा कोई कार्रवाई न करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टी इन्हीं कारणों से उन्हें निशाना बना रही है. अपने ऊपर लगे आरोपों को लेकर दिग्विजय ने कहा, 'मुझे 50 साल हो गए राजनीति में, मैं कभी आरोपों से विचलित हुआ. प्रदेश की जनता जानती है दिग्विजय सिंह क्या है.'
Loading...

यह भी पढ़ें -

OPINION: बेहाल कांग्रेस में नई जान फूंकने के लिए सोनिया गांधी को चाहिए जादू की छड़ी

कांग्रेस में अनुशासनहीनता पर दिग्विजय ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस

बड़बोले नेताओं पर सोनिया गांधी सख्त, कहा- PCC अध्यक्ष को लेकर न दें बयान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 6, 2019, 6:12 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...