दिग्विजय सिंह का अनिल विज पर तंज, कहा- हरियाणा के गृह मंत्री ने शोहरत पाने के लिए वैक्सीन ली

दिग्विजय सिंह ने अनिल विज के वैक्सीन लेने की नीयत पर सवाल उठाया. (फाइल फोटो)

दिग्विजय सिंह ने अनिल विज के वैक्सीन लेने की नीयत पर सवाल उठाया. (फाइल फोटो)

दिग्विजय सिंह ने कहा कि महामारी के समय में प्रोटोकॉल्स के साथ कोम्प्रोमाइज किया जा सकता है, लेकिन इसमें जो होड़ लग गई है ग्लोबल लीडर्स में, फार्मास्युटिकल्स कंपनी में कि कौन सा वैक्सीन का यूज किया जाए - इससे बचना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 8, 2020, 3:47 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का वैक्सीन का ट्रायल करने वाले हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज (Anil Vij) के कोरोना संक्रमित हो जाने पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने इस परीक्षण और उनके वॉलेंटियर बनने पर सवाल उठाया है. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, दिग्विजय सिंह ने कहा कि हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने शोहरत पाने के लिए वैक्सीन लिया. उन्होंने परीक्षण के प्रोसेस पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि ये नया रोग है... इनसानों से पहले जानवरों पर ट्रायल होता है, यहां सीधा इनसानों पर हो रहा है. दिग्विजय सिंह ने कहा कि हमें सावधानी बरतने की जरूरत है, क्योंकि किसी वैक्सीन के लिए भारत प्रयोगशाला नहीं.

गौरतलब है कि अनिल विज ने खुद ट्वीट कर अपने कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी साझा की है. आपको याद दिला दूं कि बीते 20 नवंबर को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) के तीसरे चरण का पहला टीका गृह मंत्री अनिल विज को लगाया गया था. उन्हें अंबाला कैंट के नागरिक अस्पताल में यह टीका लगाया गया था. पीजीआई रोहतक की टीम की निगरानी में मंत्री विज ने वैक्सीन का टीका लगवाया था. इसके बाद आधे घंटे तक उन्हें निगरानी में रखा गया था.


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि महामारी के समय में प्रोटोकॉल्स के साथ कोम्प्रोमाइज किया जा सकता है, लेकिन इसमें जो होड़ लग गई है ग्लोबल लीडर्स में, फार्मास्युटिकल्स कंपनी में कि कौन सा वैक्सीन का यूज किया जाए - इससे बचना चाहिए. भारत के लोगों को 'गीनी पिग' नहीं बनाना चाहिए.

Youtube Video

विज के संक्रमित होने पर एम्स की राय

इस बारे में ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) के पूर्व निदेशक एमसी मिश्र का कहना है कि अनिल विज के कोरोना संक्रमित होने के पीछे दो वजहें हो सकती हैं. पहली ये कि किसी भी वैक्सीन के ट्रायल के दौरान कुछ लोगों को प्लासीबो (दवा के भ्रम में कोई सामान्य पदार्थ) दिया जाता है और कुछ को वैक्सीन की डोज दी जाती है. यह बताया नहीं जाता. सिर्फ डेटा में लिखा जाता है. एमसी मिश्र कहते हैं कि ये हो सकता है कि अनिल विज को प्लासीबो दिया गया हो न कि वास्तविक वैक्सीन. ऐसे में उनका पॉजिटिव होना लाजमी है.



दूसरी वजह ये हो सकती है कि अनिल विज को वास्तविक दवा की ही डोज दी गई हो, लेकिन कोई भी वैक्सीन कारगर होने के लिए 28 दिन का समय लेती है. 28 दिन के दौरान शरीर में एंटीबॉडीज बनती हैं. ऐसे में अनिल विज को वैक्सीन लिए हुए अभी 15 दिन ही हुए हैं. इस दौरान उनके शरीर में अभी एंटीबॉडीज नहीं बनी हैं और वे संक्रमण की चपेट में आ गए हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज