नेहरू के पैरों की धूल भी नहीं हैं शिवराज, उन्हें शर्म आनी चाहिए: दिग्विजय सिंह

कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने रविवार को कहा कि, शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) जवाहरलाल नेहरू के पैर की धूल भी नहीं हैं. ऐसे बयान देते समय चौहान को शर्म आनी चाहिए.

News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2019, 7:18 AM IST
नेहरू के पैरों की धूल भी नहीं हैं शिवराज, उन्हें शर्म आनी चाहिए: दिग्विजय सिंह
नेहरू के पैरों की धूल भी नहीं हैं शिवराज, उन्हें शर्म आनी चाहिए: दिग्विजय सिंह. (फाइल फोटो)
News18 Madhya Pradesh
Updated: August 12, 2019, 7:18 AM IST
भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) द्वारा देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को कथित तौर पर ‘अपराधी’ कहने पर पलटवार करते हुए कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने रविवार को कहा कि, “शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) जवाहरलाल नेहरू के पैर की धूल भी नहीं हैं. ऐसे बयान देते समय चौहान को शर्म आनी चाहिए.”

चौहान द्वारा नेहरू को ‘अपराधी’ कहे जाने को लेकर पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए दिग्विजय ने सीहोर में संवाददाताओं को बताया, “नेहरू के पैरों की धूल भी नहीं हैं शिवराज सिंह चौहान. शर्म आनी चाहिए उनको.’’ वहीं, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू, जिन्हें आधुनिक भारत का निर्माता, कहा जाता है... जिन्होंने आज़ादी के लिए संघर्ष किया, जिनके किए गए कार्य और देशहित में उनका योगदान अविस्मरणीय है. उनको मृत्यु के 55 वर्ष पश्चात आज अपराधी कह कर संबोधित करना बेहद आपत्तिजनक और निंदनीय है.’’

शिवराज सिंह चौहान ने नेहरू को बताया था ‘अपराधी’
अनुच्छेद 370 को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू 'क्रिमिनल' थे.

भुवनेश्वर में शिवराज सिंह ने कहा कि जब भारतीय फौज कश्मीर से पाकिस्तानी कबाइलियों को खदेड़ते हुए आगे बढ़ रही थी, ठीक उसी वक्त नेहरू ने संघर्ष विराम की घोषणा कर दी. इस कारण से जम्मू-कश्मीर का एक-तिहाई हिस्सा पाकिस्तान के कब्जे में रह गया. यदि कुछ दिन और सीजफायर की घोषणा नहीं होती, तो पूरा कश्मीर भारत का होता.'

नेहरू को 'क्रिमिनल' कहने की दूसरी वजह बताते हुए शिवराज ने कहा, 'नेहरू ने जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 लागू किया. भला किसी एक देश में दो निशान, दो विधान (संविधान) और दो प्रधान कैसे अस्तित्व में रह सकते हैं? यह केवल देश के साथ नाइंसाफी नहीं है, बल्कि अपराध भी है.'

ये भी पढ़ें - 
Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 11, 2019, 11:14 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...