अपना शहर चुनें

States

भोपाल में भी खुला DNA लैब, इसमें गाय-भैंस के मांस की भी होगी जांच

भोपाल में खुला डीएनए लैब, छह महीने में होगी जांच
भोपाल में खुला डीएनए लैब, छह महीने में होगी जांच

मध्‍यप्रदेश डीएनए जांच में देश भर में सबसे आगे है. डीएनए जांच रिपोर्ट के आधार पर पिछले लगभग तीन साल में मध्‍यप्रदेश में अदालत ने 34 दोषियों को मौत की सज़ा सुनाई है, जो देश भर में सर्वाधिक है.

  • Share this:
भोपाल.सागर (sagar) के बाद अब भोपाल (bhopal) में भी डीएनए जांच (DNA TEST) के लिए लैब खुल गया है. ये हाईटेक लैब है. इसमें एनजीएस (NGS) उपकरण भी लगाया गया है, जो भारत की किसी लैब में पहली बार लगा है. भोपाल में आधुनिकतम उपकरणों के साथ शुरू हुई इस प्रयोगशाला में डीएनए जांच (DNA) के साथ-साथ Cow Buffalo meat testing ( गाय एवं भैंस के मांस का परीक्षण) भी होगा.

दृढ़ इच्‍छा शक्ति एवं संकल्‍पबद्ध होकर डीएनए के सभी लंबित सैम्‍पल की जांच का काम अगले छ: माह के भीतर पूरा करें. इसके लिए तकनीकी स्‍टाफ और बाकी सुविधाएं मुहैया कराने में पुलिस मुख्‍यालय का पूरा सहयोग मिलेगा. यह बात पु‍लिस महानिदेशक राजेन्‍द्र कुमार ने एफएसएल वैज्ञानिकों एवं तकनीकी स्‍टाफ से कही.

भोपाल में भदभदा रोड स्थित क्षेत्रीय न्‍याया‍लयिक विज्ञान प्रयोगशाला परिसर में हाईटेक लेबोरेटरी कॉम्‍प्‍लेक्‍स (उच्‍च तकनीक प्रयोगशाला) बनाया गया है. इसमें बनाए गए डीएनए लैब का राजेन्द्र कुमार ने उद्घाटन किया था. इससे पहले लगभग छ: करोड़ रुपए की लागत से निर्मित हाईटेक लेबोरेटरी कॉम्‍प्‍लेक्‍स भवन का लोकार्पण गत 26 फरवरी को मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने किया था.



भोपाल में पहली बार जांच
मध्यप्रदेश में सिर्फ सागर में ही डीएनए लैब है. यही कारण है कि पूरे प्रदेश के केस की जांच होने में वक्त लगता था और सारे सैंपल की जांच नहीं हो पाती थी.इसलिए दूसरे राज्यों में जांच के लिए सैंपल भेजना पड़ते थे. लेकिन अब भोपाल में डीएनए लैब खुलने से पेंडिंग पड़ी जांच 6 महीने में पूरी हो जाएंगी.नया लैब खुलने से डीएनए जांच के क्षेत्र में मध्‍यप्रदेश में नया अध्‍याय जुड़ा है. अब प्रदेश में डीएनए जांच के लिए अत्‍याधुनिक तकनीक से सुसज्जित दो प्रयोगशालाएं हो गई हैं. अभी तक केवल सागर की एफएसएल में ही ये सुविधा उपलब्‍ध थी. लैब शुरू होने से पॉक्‍सो एक्‍ट एवं यौन अपराधों के निराकरण में तेजी आएगी.इस हाईटेक लैब में एनजीएस उपकरण भी लगाया गया है, जो भारत की किसी लैब में पहली बार लगा है. भोपाल में आधुनिकतम उपकरणों के साथ शुरू हुई इस प्रयोगशाला में डीएनए जांच के साथ-साथ Cow Buffalo meat testing ( गाय एवं भैंस के मांस का परीक्षण) भी होगा.

24 घंटे लैब खोलने के निर्देश

पुलिस महानिदेशक राजेन्‍द्र कुमार ने मध्‍यप्रदेश एफएसएल के निदेशक से कहा कि प्रदेश में जब तक नये लैब शुरू नहीं होते तब तक सागर और भोपाल के लैब 24 घंटे चालू रखें, ताकि केस पेंडिग ना रहें. तकनीकी स्‍टाफ की कमी दूर की जाएगी. राजेन्द्र कुमार ने हिदायत दी कि डीएनए जांच करने में सक्षम स्‍टाफ को मैदानी स्‍तर से इन प्रयोगशाला में पदस्‍थ करें.

तीन साल में 34 आरोपियों को मौत की सज़ा 
डीएनए लैब के प्रभारी डॉ अनिल कुमार सिंह ने बताया कि मध्‍यप्रदेश डीएनए जांच में देश भर में सबसे आगे है. डीएनए जांच रिपोर्ट के आधार पर पिछले लगभग तीन साल में मध्‍यप्रदेश में अदालत ने 34 दोषियों को मौत की सज़ा सुनाई है, जो देश भर में सर्वाधिक है.

ये भी पढ़ें-

निर्दलीय MLA शेरा ने कहा-मुझे गृहमंत्री बनाओ,पुलिस को पब्लिक फ्रैंडली बनाऊंगा

मध्य प्रदेश: BJP MLA ने जान का खतरा बताया, गृहमंत्री अमित शाह से मांगी सुरक्षा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज