MP में डॉक्टरों ने नहीं मानीं सरकार की बात, कहीं भी 9 बजे शुरू नहीं हुई OPD

सिर्फ इंदौर का एमवाय अस्पताल छोड़कर प्रदेश के किसी भी सरकारी अस्पताल में डॉक्टर सुबह 9 बजे ड्यूटी पर नहीं पहुंचे.

News18 Madhya Pradesh
Updated: June 3, 2019, 3:47 PM IST
MP में डॉक्टरों ने नहीं मानीं सरकार की बात, कहीं भी 9 बजे शुरू नहीं हुई OPD
खाली रही OPD
News18 Madhya Pradesh
Updated: June 3, 2019, 3:47 PM IST
मध्य प्रदेश के लगभग किसी भी सरकारी अस्पताल में सुबह 9 बजे डॉक्टर नहीं पहुंचे. सरकार के आदेश का कहीं पालन नहीं हुआ. हर जगह मरीज़ आ गए थे लेकिन वो डॉक्टर का इंतज़ार ही करते रह गए.
कमलनाथ सरकार ने सरकारी अस्पतालों में मरीज़ों को देखने का समय बढ़ा दिया था. OPD का समय सुबह 9 से शाम 4 बजे तक कर दिया है. आदेश आते ही डॉक्टरों ने इसका विरोध शुरू कर दिया था. सरकार के उस आदेश पर आज से अमल होना था.
ग्वालियर के मुरार स्थित जिला अस्पताल की ओपीडी में डॉक्टरों के कई चैंबर खाली पड़े थे.जबकि डॉक्टरों के इंतजार में मरीजों की कतारें लगी थीं. मरीज़ों ने बताया कि सुबह 11 बजे तक कई डॉक्टर अस्पताल ही नहीं पहुंचते हैं.
इंदौर में प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल एमवाय में न्यूज 18 की टीम डॉक्टरों का रियलिटी चेक करने पहुंची. यहां सुबह 9 बजे सभी डॉक्टर अस्पताल में मौजूद थे हालांकि मरीजों को लाइन में लगने से कुछ समस्याएं जरूर हुईं लेकिन डॉक्टरों से समय से पहुंचने से मरीजों ने सुकून की सांस ली.

जबलपुर में भी आदेश की पहले दिन जमकर धज्जियां उड़ीं.यहां जिला अस्पताल विक्टोरिया में ओपीडी काउंटर तो खोले गए, मरीजों की लंबी कतारें भी लगीं. लेकिन डॉक्टर नदारद रहे. किसी भी ओपीडी काउंटर में निर्धारित समय पर कोई भी डॉक्टर नहीं पहुंचा था. आलम ये रहा कि दूरदराज क्षेत्रों से आए मरीज लंबी कतारों में या फिर ज़मीन पर बैठे रहे.
मंदसौर में सरकारी अस्पतालों की ओपीडी के हाल बेहाल हैं. मरीज सुबह से इंतजार करते रहे लेकिन डॉक्टरों का अता-पता नहीं था. मंदसौर जिला अस्पताल में सुबह 9:00 बजे एक भी डॉक्टर ओपीडी में उपलब्ध नहीं था. मरीज परेशान होते रहे. जिला चिकित्सालय के सिविल सर्जन ए के मिश्रा की कुर्सी भी खाली थी.
मुरैना में सरकारी डॉक्टर आज भी जिला अस्पताल की ओपीडी में समय से नहीं पहुंचे. पूरी ओपीडी खाली पड़ी थी. मरीज आ चुके थे डॉक्टर के आने का इंतजार कर रहे थे. नई सरकार का नया आदेश तो था लेकिन डॉक्टर वही पुराने थे. वही पुराना अंदाज था उनके काम करने का.
Loading...

कमलनाथ सरकार द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने के लिए भले ही OPD के समय में बदलाव किया गया हो ,लेकिन जमीनी स्तर पर कमलनाथ सरकार के फरमान का कितना असर देखने को मिल रहा है इस बात का जायज़ा न्यूज़ 18 की टीम ने लिया।
गुना जिला अस्पताल में ज्यादातर डॉक्टर्स अपनी ड्यूटी से नदारद थे. ड्यूटी डॉक्टर्स के इंतज़ार में मरीज लम्बी कतारों में खड़े नज़र आए. पता चला कि जिस OPD में 12-13 डॉक्टर मौजूद होने थे वहां केवल 1 डॉक्टर मौजूद था. जो डॉक्टर्स अस्पताल कैंपस में तफरी कर रहे थे वो न्यूज18 की टीम को देखते ही OPD रूम में आ पहुंचे.
बैतूल ज़िला अस्पताल में सरकारी आदेश की नाफरमानी जारी है. यहां भी 9 बजे जिला अस्पताल की ओपीडी में एक भी डॉक्टर नजर नहीं आए.

ये भी पढ़ें-कमलनाथ के आदेश को छिंदवाड़ा में ही डॉक्टरों ने दिखाया ठेंगा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


First published: June 3, 2019, 3:26 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...