Home /News /madhya-pradesh /

'सत्ता के संरक्षण में फल-फूल रहे ड्रग माफिया' कांग्रेस ने लगाए आरोप

'सत्ता के संरक्षण में फल-फूल रहे ड्रग माफिया' कांग्रेस ने लगाए आरोप

कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि असल ‘ड्रग माफिया’ कौन है, उसका चेहरा बेनकाब ही नहीं हुआ

कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि असल ‘ड्रग माफिया’ कौन है, उसका चेहरा बेनकाब ही नहीं हुआ

कांग्रेस प्रवक्ता गोहिल ने आरोप लगाते हुए कहा कि देश में दुनिया की सबसे अधिक हेरोइन ड्रग्स माफिया मंगवा रहे हैं. इतने बड़े ड्रग्स रैकेट का खुलासा होने के बावजूद केंद्र सरकार पूरी तरह से चुप है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    भोपाल. सत्ता के संरक्षण में देश में ड्रग माफिया फल-फूल रहे हैं. देश के युवाओं को नशे में धकेल उनके भविष्य से केंद्र सरकार खिलवाड़ कर रही है. कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने संयुक्त पत्रकार वार्ता करके ये आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि हाल ही में एक पोर्ट पर 3,000 किलो हेरोइन ड्रग्स पकड़ी गई है जिसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमत 21,000 करोड़ रुपये है. यह हेरोईन ड्रग्स अफगानिस्तान द्वारा ईरान के माध्यम से भारत भेजे गए. असल ‘ड्रग माफिया’ कौन है, उसका चेहरा बेनकाब ही नहीं हुआ है.

    कांग्रेस प्रवक्ता गोहिल ने आरोप लगाते हुए कहा, “यह हेरोईन ड्रग्स के तस्कर पकड़े ही नहीं गए और अब देश के बाजार में हैं. हिंदुस्तान के नौजवानों को नशे की आग में झोंक रहे हैं. यह अपने आप में राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा भी है. सवाल ये है कि देश में दुनिया की सबसे अधिक हेरोइन ड्रग्स मंगवा रहा है.
    देश और दुनिया के इतने बड़े ड्रग्स रैकेट का खुलासा होने के बावजूद केंद्र सरकार पूरी तरह से चुप है.”

    कांग्रेस ने इस मसले पर केंद्र सरकार को घेरते हुए कुछ सवाल भी पूछ डाले.
    1. 1,75,000 करोड़ के 25,000 किलो हेरोइन ड्रग्स कहां गए?

    2. नार्कोटिक्स, कंट्रोल ब्यूरो, डीआरआई, ईडी, सीबीआई, आईबी ने कार्रवाई क्यों नहीं की.

    3. क्या यह सीधे-सीधे देश के युवाओं को नशे में धकेलने का षड़यंत्र नहीं?

    4. क्या यह राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं, क्योंकि यह सारे ड्रग्स के तार तालिबान और अफगानिस्तान से जुड़े हैं?

    5. क्या ड्रग माफिया को सरकार में बैठे किसी सफेदपोश का और सरकारी एजेंसियों का संरक्षण प्राप्त है?

    6. क्या ऐसे में पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट के सिटिंग जज का कमीशन बना जांच नहीं होनी चाहिए?

    Tags: Mp news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर