शराब पीकर गाड़ी चलायी तो 2 महीने में 1800 लोगों के लाइसेंस रद्द, अगला नंबर आपका तो नहीं!

प्रदेश में 2017 में 53,399 सड़क दुर्घटनाएं हुईं. उनमें 57,532 व्यक्ति घायल और 10,177 लोग मारे गए.

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 2, 2019, 7:11 PM IST
शराब पीकर गाड़ी चलायी तो 2 महीने में 1800 लोगों के लाइसेंस रद्द, अगला नंबर आपका तो नहीं!
DRUNK N DRIVE
Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 2, 2019, 7:11 PM IST
मध्यप्रदेश में शराब पीकर वाहन चलाने वालों पर ट्रैफिक पुलिस की कार्रवाई जारी है. दो महीने में 18 सौ वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त किए जा चुके हैं. ये सारी कवायद सड़क हादसों पर रोक लगाने के लिए है.
मध्यप्रदेश में बढ़ रहे सड़क हादसों को रोकने के लिए सरकार गंभीर है. सीएम कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद पुलिस मुख्यालय में हुई पहली बैठक में इस संबंध में हिदायत दे दी थी. उसके बाद गृह विभाग के निर्देश पर प्रदेश भर में अभियान चलाकर वाहन चैकिंग शुरू की गयी. जो भी शख़्स शराब पीकर गाड़ी चलाता मिला, उसका ड्राइविंग लाइसेंस रद्द कर दिया गया. जुर्माना वसूला जा रहा है वो अलग.
सड़क हादसों में हर दिन जाती हैं जान
मध्यप्रदेश में औसतन रोज 146 सड़क हादसे होते हैं जिनमें रोज औसतन 28 लोग मारे जाते हैं और 158 घायल हो जाते हैं. भोपाल में ही पिछले दो महीने में 18 वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त हो चुके हैं.

RTO का एक्शन
राजधानी भोपाल में जून और जुलाई के महीनों में 18 वाहन चालकों के ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त किए गए. चैकिंग के दौरान जो वाहन चालक शराब पीकर गाड़ी चलाते मिलते हैं ट्रैफिक पुलिस उनका मेडिकल परीक्षण कराती है. उसके बाद केस आरटीओ को भेज देती है.आरटीओ ड्राइविंग लाइसेंस निरस्त कर देता है.
2017 में 10 हजार लोगों की मौत
Loading...

राज्य सड़क सुरक्षा सेल की ताजा रिपोर्ट बताती है कि 2016 की तुलना में 2017 में सड़क दुर्घटनाओं में 5.50 प्रतिशत ज़्यादा लोग मरे. प्रदेश में 2017 में 53,399 सड़क दुर्घटनाएं हुईं. उनमें 57,532 व्यक्ति घायल और 10,177 लोग मारे गए.

ये भी पढ़ें-उन्नाव का पीड़ित परिवार MP में बसे,हम देंगे सुरक्षा : कमलनाथ

फैक्ट्री में पिस रही थी फफूंद लगी मिर्च,सल्फर से रंगी धनिया

ये भी पढ़ें-LIVE कवरेज देखने के लिए क्लिक करें न्यूज18 मध्य प्रदेशछत्तीसगढ़ लाइव टीवी


First published: August 2, 2019, 7:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...