MP By-election : सीएम के ग्वालियर चंबल दौरे से कांग्रेस को सताने लगा डर कि टल न जाएं उपचुनाव
Bhopal News in Hindi

MP By-election : सीएम के ग्वालियर चंबल दौरे से कांग्रेस को सताने लगा डर कि टल न जाएं उपचुनाव
सीएम शिवराज सिंह चौहान के मुरैना और ग्वालियर चंबल के दौरे को कांग्रेस पॉलिटिकली मोटिवेटेड बता रही.

पूर्व कानून मंत्री पीसी शर्मा ने उपचुनाव टाले जाने की आशंका जाहिर करते हुए कहा कि सीएम का ग्वालियर चंबल दौरा पॉलिटिकली मोटिवेटेड है. उन्होंने कहा कि जब इंदौर में कोरोना सबसे ज्यादा था तब भी सीएम वहां नहीं गए, अचानक से ग्वालियर-मुरैना जाना प्रश्न चिह्न लगाता है.

  • Share this:
भोपाल. क्या मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में 24 सीटों के लिए होने वाले विधानसभा के उपचुनाव (By-election) टल सकते है? मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) के ग्वालियर चंबल (Gwalior Chambal) दौरे के साथ ही कांग्रेस (Congress) ने इस बात की आशंका जाहिर की है. शनिवार को ग्वालियर और मुरैना में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना (Corona) की बिगड़ती स्थिति का जायजा ले रहे थे. इधर राजधानी में कांग्रेस को एक डर सता रहा था. पूर्व कानून मंत्री पीसी शर्मा ने उपचुनाव टाले जाने की आशंका जाहिर करते हुए कहा कि सीएम का ग्वालियर चंबल दौरा पॉलिटिकली मोटिवेटेड है. उन्होंने कहा कि जब इंदौर में कोरोना सबसे ज्यादा था तब भी सीएम वहां नहीं गए, अचानक से ग्वालियर-मुरैना जाना प्रश्न चिह्न लगाता है. इसके साथ ही उन्होंने मांग कर दी कि एमपी में उपचुनाव 20 सितंबर से पहले ही कराए जाने चाहिए. चुनाव टालने की पॉलिटक्स नहीं होनी चाहिए.

क्यों है कांग्रेस को डर

दरअसल मध्य प्रदेश में 24 सीटों के लिए विधानसभा उपचुनाव होना है. इनमें से दो सीटें जौरा और आगर मालवा की ऐसी हैं, जो कांग्रेस और बीजेपी के विधायकों के निधन की वजह से खाली हुई हैं. इन सीटों पर 6 महीने में चुनाव की मियाद निकल चुकी है, जबकि बाकी 22 सीटें सिंधिया समर्थक विधायकों के कांग्रेस पार्टी छोड़ने की वजह से खाली हुई हैं. कांग्रेस विधायकों ने मार्च में विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दिया था और उन्होंने बीजेपी जॉइन कर ली थी. इस लिहाज से 20 सितंबर से पहले तक चुनाव हो जाना जरूरी है. लेकिन मंत्रिमंडल बनने में देरी और विभागों के बंटवारे में होने वाली देरी के बाद अब पूर्व विधायकों को प्रचार के लिए केवल डेढ़ महीने का ही वक्त बचा है, उस पर भी कोरोना के हालात मुसीबत बने हुए हैं. ऐसे में कांग्रेस को लगता है कि ग्वालियर चंबल संभाग में कोरोना का डर दिखाकर उपचुनाव टाले जा सकते हैं, क्योंकि उपचुनाव की सबसे ज्यादा 16 सीटें उसी संभाग में हैं.



बीजेपी का पलटवार
कांग्रेस के इन आरोपों पर बीजेपी ने पलटवार किया है. शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाए गए विश्वास सारंग ने पीसी शर्मा पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस कोरोना में भी राजनीति देख रही है. अगर ग्वालियर और मुरैना में कोरोना के हालात बिगड़े हैं तो क्या मुख्यमंत्री को वहां दौरे पर नहीं जाना चाहिए? इतना ही नहीं विश्वास सारंग ने यह भी कहा है कि चुनाव तारीखें तय करने का काम चुनाव आयोग का होता है न कि बीजेपी या सरकार का.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading