होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Dussehra 2022 : बारिश ने दशहरे पर फेर दिया पानी, भीग गए रावण, मेघनाथ, कुंभकरण के पुतले

Dussehra 2022 : बारिश ने दशहरे पर फेर दिया पानी, भीग गए रावण, मेघनाथ, कुंभकरण के पुतले

Ravan Dahan : एमपी के कई जिलों में दशहरे पर मूसलाधार बारिश के कारण रावण के पुतले पानी में भीग गए.

Ravan Dahan : एमपी के कई जिलों में दशहरे पर मूसलाधार बारिश के कारण रावण के पुतले पानी में भीग गए.

Dussehra 2022 : दशहरे के मौके पर मध्य प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में हुई झमाझम बारिश में रावण, कुंभकरण, मेघनाथ के पुतले ...अधिक पढ़ें

भोपाल. बेमौसम हुई बारिश ने दशहरे का मजा किरकिरा कर दिया. दुर्गा पंडाल और रावण के पुतले सब पानी में भीग गए. आतिशबाजी गीली हो गयी. दशहरा मैदान में दलदल बन गया. आयोजक सिर पकड़ कर बैठ गए और लोग परेशान कि अब दशहरा कैसे होगा. कारीगर खाली हाथ रह गए और पुतले खड़े के खड़े रह गए. खरीददार गायब थे

दशहरे के मौके पर मध्य प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में हुई झमाझम बारिश में रावण, कुंभकरण, मेघनाथ के पुतले भी भीग गए. बारिश ने पुतले बनाने वाले कारीगरों की मेहनत पर पानी फेर दिया. कुछ घंटों की झमाझम बारिश के कारण कई महीनों की मेहनत से तैयार किए गए  पुतले बर्बाद हो गए. भोपाल में सुबह हुई मूसलाधार बारिश के कारण तैयार 2 फुट से लेकर 15 फीट तक के रावण मेघनाथ के पुतले भीग गए.

दो महीने की मेहनत पर पानी फिर गया
कारीगरों के मुताबिक बीते 2 महीनों से पुतले तैयार किए जा रहे थे ताकि ज्यादा से ज्यादा पुतले तैयार कर दशहरे पर लोगों की मांग को पूरा किया जा सके. लेकिन सुबह हुई बारिश के कारण उनकी मेहनत बेकार हो गई. पूरा परिवार मेहनत के साथ पुतले तैयार करने में जुटा था उस मेहनत पर बारिश ने पानी फेर दिया. जो पुतले तैयार होते हैं उनकी कीमत ₹500 से लेकर ₹5000 तक की होती है. कागज और प्यूटटों के जरिए तैयार होने वाले पुतले बारिश की वजह से बेकार हो गए. जो घास लगाई गई थी वह भी अब जलने लायक नहीं बची. पुतले धरे के धरे रह गए. खरीददार गायब थे.

ये भी पढ़ें-  PHOTOS : राजसी वेशभूषा और हाथ में तलवार लेकर निकले केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया

खड़े रह गए पुतले
प्रदेश में मौसम प्रणालियों के असर से ज्यादातर हिस्सों में बारिश दर्ज की गई. दोपहर करीब 12:00 बजे भोपाल के ज्यादातर हिस्सों में बारिश हुई. आधा घंटा तक तेज बौछारें पड़ीं. इस का असर रावण दहन के कार्यक्रमों पर भी दिखाई दिया. प्रदेश में एक दर्जन से ज्यादा स्थानों पर रावण दहन के कार्यक्रम हैं. लेकिन इसके अलावा छोटे-छोटे कार्यक्रम में भी रावण दहन किया जाता है. बीते 24 घंटों के दौरान प्रदेश में खजुराहो, उमरिया, जबलपुर, ग्वालियर, सतना, नौगांव, नरसिंहपुर, पचमढ़ी, भोपाल में बारिश दर्ज की गई. भोपाल, रीवा, सागर ग्वालियर संभाग के जिलों में अगले 24 घंटों में बारिश होने की संभावना जताई गई है. लेकिन बारिश के कारण दशहरे के उत्साह में फीकापन दिखाई दिया. यही वजह रही कि बड़े पैमाने पर तैयार होने वाले रावण मेघनाथ कुंभकरण के खरीदारों के इंतजार में खड़े रह गए.

Tags: Bhopal news, Dussehra Festival

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें