लाइव टीवी

भोपाल: इन मैदानों में दशहरा होगा खास, यहां बारिश भी रावण को जलने से नहीं रोक पाएगी

Ranjana Dubey | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 7, 2019, 3:47 PM IST
भोपाल: इन मैदानों में दशहरा होगा खास, यहां बारिश भी रावण को जलने से नहीं रोक पाएगी
भोपाल के मैदानों में इस बार जलेंगे वाटरप्रूफ रावण

भोपाल (Bhopal) में बारिश (Rain) के चलते रावण दहन को लेकर संशय की स्थिति बन रही है लेकिन घबराएं नहीं, क्योंकि इस साल भोपाल के बीएचईएल, टीटी नगर, छोला दशहरा मैदानों में ऐसे रावण (Ravan) बनाए गए हैं जिन्हें जलने से बारिश भी नहीं रोक सकती. इस बार यहां वॉटरप्रूफ रावण (waterproof ravan), मेघनाथ (Meghnath) एवं कुंभकर्ण (Kumbhkarn) बनाए गए हैं.

  • Share this:
भोपाल. इस बार मध्यप्रदेश में रावण दहन पर बारिश का साया मंडरा रहा है. मप्र में लगातार हो रही बारिश से रावण बनाने में भी खासा नुकसान हुआ है. इस बार रावण दहन पर कारीगरों ने एक तरकीब निकाल ली है. इस बार बारिश के बीच में रावण दहन के लिए कारीगरों ने वॉटरप्रूफ रावण को तैयार किया है, ताकि बारिश के बीच में भी रावण के पुतलों का दहन हो सके. इस साल बीएचईएल दशहरा मैदान, छोला दशहरा मैदान, टीटी नगर, कोलार आदि इलाकों में ऐसे ही रावण बनाए गए हैं. उन्हें वाटरप्रूफ बनाने के लिए उनपर पॉलीथीन लपेटी जाएगी, जिससे पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी जाएगा.

रावण के वॉटरफ्रूफ पुतले तैयार
दशहरे पर हर बार रावण की खासी डिमांड होती है. ना सिर्फ रावण बल्कि कुंभकर्ण और मेघनाथ के पुतलों की भी मांग बढ़ जाती है. ऐसे में बारिश के बीच पुतलों के खराब होने का संकट मंडरा रहा है. यही वजह है कि इस बार बीएचईएल समेत कई दशहरा मैदानों में रावण के पुतले तैयार करने वाले कारीगरों ने वॉटरफ्रूफ बड़े पुतले तैयार किए हैं, जिससे अगर दशहरे पर बारिश हो तो भी दिक्कत ना हो. बीएचईएल दशहरा मैदान पर चलने वाले रावण, कुंभकर्ण और मेघनाथ के वॉटरफ्रूफ पुतले लगाए गए हैं. रावण का 55 फीट का पुतला, कुंभकर्ण का 45 और मेघनाद का 40 फीट का वॉटरप्रूफ पुतला तैयार किया गया है.

News - इस बार रावण दहन के साथ पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया जा रहा है
इस बार रावण दहन के साथ पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया जा रहा है


पुतला दहन से पर्यावरण सरंक्षण का संदेश
दशहरे पर जहां बुराई पर अच्छाई की जीत का संदेश दिया जाता है, वहीं इस बार पर्यावरण सरंक्षण का संदेश भी दिया जा रहा है. रावण दहन के साथ ही पर्यावरण को बचाने की पहल में कारीगर भी लोगों को जागरूक करने के लिए आगे आ रहे हैं. इस बार बीएचईएल दशहरा मैदान में रावण, कुंभकर्ण और मेघनाद के पुतलों को जहां वॉटरप्रूफ तैयार किया गया है तो वहीं पर्यावरण सरंक्षण का संदेश भी दिया जा रहा है. बीएचईएल दशहरा मैदान में 55 फीट के रावण से पर्यावरण को बचाने की अपील की जा रही है. तभी रावण के साथ ही पॉलीथिन को भी जलाया जाएगा, ताकि पर्यावरण को नष्ट होने से बचाया जा सके. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल में लोगों को साथ देने की अपील भी की गई है.

कोलार में जलेगा सबसे बड़ा 71 फीट का पुतला
Loading...

राजधानी में करीब 24 से ज्यादा छोटे-बड़े मैदानों पर रावण दहन का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें सबसे बड़ा कोलार में किया जाएगा. कोलार में करीब 71 फीट के रावण का दहन किया जा रहा है तो वहीं छोला दशहरा मैदान में 65 फीट और बीएचईएल दशहरा मैदान में 55 फीट के रावण का दहन किया जा रहा है. रावण दहन के साथ ही रामलीला का भी आयोजन किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें -
पटवारी संघ से बनी बात, क्या ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन मानेगा ? सरकार ने बातचीत के लिए बुलाया
डीन को हटाने की मांग को लेकर जूडा ने किया काम बंद, प्रदेश भर में हड़ताल की चेतावनी दी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 3:47 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...