लाइव टीवी

ई-टेंडर घोटाला : 2014 से लेकर अब तक के साढ़े तीन लाख टेंडर्स की होगी जांच
Bhopal News in Hindi

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: April 11, 2019, 8:52 PM IST
ई-टेंडर घोटाला : 2014 से लेकर अब तक के साढ़े तीन लाख टेंडर्स की होगी जांच
फाइल फोटो

कंपनी जब से ई टेंडरिंग व्यवस्था से जुड़ी है, उसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है.आशंका है कि साढ़े तीन लाख टेंडरों में हजारों ऐसे टेंडर हैं, जिसमें इसी कंपनी के जरिए फर्जीवाड़ा किया गया है

  • Share this:
मध्य प्रदेश में हुए ई-टेंडर घोटाले की जांच का दायरा बढ़ गया है. अब इसके दायरे में साढ़े तीन लाख टेंडर आ गए हैं. ये वो टेंडर हैं, जो 2014 से शुरू हुई ई-टेंडरिंग की व्यवस्था में प्रोसेस किए गए थे. EOW 2015 से लेकर 2018 तक के टैंडर्स की जांच करेगी. उसे आशंका है कि ये घोटाला अरसे से चल रहा था. EOW ने मैप आईटी से सभी टेंडरों का ब्यौरा मांगा है.

ई-टेंडरिंग व्यवस्था में टेंपरिंग के खुलासे के बाद अब साढ़े तीन लाख टेंडर जांच के दायरे में आ गए हैं. शिवराज सरकार के दौरान 2014 में ई-टेंडरिंग व्यवस्था की शुरूआत हुई.इस व्यवस्था के तहत अभी तक साढ़े तीन लाख से ज्यादा टेंडर हो चुके हैं. अभी EOW ने सिर्फ 2018 जनवरी से मार्च के बीच प्रोसेस हुए नौ टेंडरों में हुए घोटाले में एफआईआर दर्ज की है.लेकिन अब ईओडब्ल्यू उन साढ़े तीन लाख टेंडरों की जांच भी करेगा, जो 2015 से 2017 के बीच ई-टेंडर हुए.

ये भी पढ़ें -MP में ताबड़तोड़ छापे :ई-टेंडर घोटाले में आईटी कंपनी पर EOW का छापा

ई-टेंडरिंग घोटाला: शिवराज सरकार में मंत्री रहे ये तीन नेता जांच के घेरे में!



गुरुवार को भोपाल की साफ्टवेयर कंपनी ऑस्मो आईटी सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड पर EOW ने छापा मारा और उसके तीन डायरेक्टरों को गिरफ्तार किया. ये कंपनी सरकार के ई-टेंडरिंग पोर्टल में ऑनलाइन टेंडरिंग प्रोसेस में तकनीकी और साफ्टवेयर के लिए मदद करती थी. अब EOW को शक है कि कंपनी ने पहले भी इसी तरीके से दूसरे टेंडरों में भी घोटाला किया होगा.

ये भी पढ़ें -जानिए क्या है शिवराज सिंह चौहान सरकार के दौरान हुआ था ई-टेंडरिंग घोटाला

ई-टेंडरिंग घोटाले में FIR: बीजेपी नेता बोले- कोर्ट में ले जाएंगे मामला!

EOW एसपी अरुण मिश्रा ने न्यूज 18 को बताया कि एक-दो दिन में संबंधित विभाग से पुराने टेंडरों की जानकारी मिल जाएगी. कंपनी जब से ई टेंडरिंग व्यवस्था से जुड़ी है, उसकी भी जानकारी जुटाई जा रही है.आशंका है कि साढ़े तीन लाख टेंडरों में हजारों ऐसे टेंडर हैं, जिसमें इसी कंपनी के जरिए फर्जीवाड़ा किया गया है. जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ेगी और कई बड़े खुलासे होने के आसार हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 11, 2019, 8:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर