लाइव टीवी

वल्लभ भवन में ढोल मंजीरे बजाकर सुंदरकांड का पाठ कर रहे कर्मचारी, ये है कारण

Sharad Shrivastava | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 22, 2019, 3:41 PM IST
वल्लभ भवन में ढोल मंजीरे बजाकर सुंदरकांड का पाठ कर रहे कर्मचारी, ये है कारण
अपनी 32 सूत्रीय मांगों को लेकर सुंदरकांड कर रहे मंत्रालय के कर्मचारी

पूरे प्रदेश की सत्ता का केंद्र है वल्लभ भवन (Vallabh Bhawan) और यहां के कर्मचारी (Employee) अपनी मांगों को लेकर हनुमानजी (Lord Hanuman) की शरण में हैं. ये सुंदरकांड (Sunderkand) दरअसल कर्मचारियों के विरोध प्रदर्शन का तरीका है. कर्मचारियों का कहना है कि वो थक हारकर हनुमानजी की शरण में आए हैं.

  • Share this:
भोपाल. मंत्रालय सचिवालय कर्मचारी संघ ने अपनी मांगों को लेकर मंगलवार को मंत्रालय (Mantralay) के बाहर अनोखा विरोध प्रदर्शन किया. कर्मचारी संघ के सदस्य मंत्रालय परिसर में इकट्ठा हुए और ढोल मजीरों के साथ सुंदरकांड (Sunderkand) का पाठ किया. उनका कहना था है कि वो सरकार के सामने अपनी मांग रखकर थक चुके हैं, लिहाजा अब हनुमानजी (Lord Hanuman) की शरण में जाने का फैसला किया है. दरअसल मंत्रालय सचिवालय कर्मचारी संघ पिछले काफी वक्त से अपनी 32 सूत्रीय मांगों को लेकर सरकार के सामने अपना पक्ष रख रहा है लेकिन अब तक उनका कोई समाधान नहीं किया गया है, लिहाजा मंगलवार को सभी कर्मचारी इकट्ठा होकर सुंदरकांड का पाठ करने बैठ गए.

कर्मचारी संघ की प्रमुख मांगें 
>> कांग्रेस के वचनपत्र के मुताबिक मंत्रालयीन सहायक ग्रेड 3 और 2 को शिक्षकों के समान वेतनमान मिले
>> साढ़े 3 साल से बंद पदोन्नतियां तत्काल शुरु की जाएं

>> केंद्र की तरह महंगाई भत्ते में 5 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी की जाए
>> अवर सचिव संवर्ग में मंत्रालय सेवा हेतु आरक्षित पदों पर सीधी भर्ती का प्रस्ताव निरस्त किया जाए

News - कर्मचारियों का कहना है कि वो थक हारकर हनुमानजी की शरण में आए हैं.
कर्मचारियों का कहना है कि वो थक हारकर हनुमानजी की शरण में आए हैं.

Loading...

>> मंत्रालयीन हाउसिंग प्रोजेक्ट के लिए कानासैया में आवंटित भूमि के प्रीमियम में सीएम की ओर से दी गई 20 फीसदी छूट का लाभ दिया जाए
>> सचिवालय भत्ते का वर्तमान मूल्य सूचकांक के मुताबिक परीक्षण
>> भृत्य का पदनाम बदलकर कार्यालय सहायक और जमादार का निज सहयोगी किया जाए
>> चतुर्थ श्रेणी को प्रोफेशनल टैक्स से छूट और सेवानिवृत्ति आयु 64 साल की जाए
>> 2005 के बाद नियुक्त कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाए

ये भी पढ़ें -
दिग्विजय सिंह के बंगले के बाहर धरने पर बैठे विधायक भाई ​लक्ष्मण सिंह
नहीं होगा भोपाल का बंटवारा! दो नगर निगम ना बनाने का प्रस्ताव पास

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 22, 2019, 3:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...