लाइव टीवी
Elec-widget

अपनों को आगे बढ़ाने की खातिर किया ई-टेंडर घोटाला! 2 सीनियर IAS अफसरों के खिलाफ चल रही है जांच

Manoj Rathore | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 22, 2019, 9:32 PM IST
अपनों को आगे बढ़ाने की खातिर किया ई-टेंडर घोटाला! 2 सीनियर IAS अफसरों के खिलाफ चल रही है जांच
जिन कंपनियों को टेंडर मिले, उनमें नौकरी कर रहे थे अधिकारियों के बच्चे.

ई-टेंडर घोटाले (E-tender Scam) के जरिए अपने बच्चों को आगे बढ़ाने का आरोप दो सीनियर आईएएस अफसरों पर लगा है. दोनों अफसरों के खिलाफ हुई शिकायत की जांच ईओडब्ल्यू (EOW) कर रहा है. आरोप है कि जिन कंपनियों में बच्चे नौकरी कर रहे थे, उन्हीं कंपनियों को गड़बड़ी कर टेंडर दिए गए.

  • Share this:
भोपाल. मध्य प्रदेश का बहुचर्चित ई-टेंडर घोटाला (E-tender Scam) उस समय चर्चा में आया, जब ईओडब्ल्यू (EOW) ने अप्रैल में पहली एफआईआर दर्ज की थी. जांच के दौरान कई अफसरों और राजनेताओं के नाम भी सामने आए. ई-टेंडर से जुड़ी कई ऐसी शिकायत हैं, जिसकी जांच आज भी चल रही है. इनमें दो ऐसी शिकायतें भी हैं जो सीनियर आईएएस अफसर विवेक अग्रवाल (IAS officer Vivek Agarwal) और राधेश्याम जुलानिया (Radheshyam Julania) से जुड़ी हैं. आरोप है कि इन अफसरों ने अपने बच्चों को आगे बढ़ाने के लिए उन कंपनियों को टेंडर देकर फायदा पहुंचाया, जहां इनके बच्चे उच्च पद पर नौकरी कर रहे हैं.

विवेक अग्रवाल पर हैं ये आरोप
नगरीय प्रशासन के प्रमुख सचिव रहे विवेक अग्रवाल के कार्यकाल में HPE कंपनी को 300 करोड़ का टेंडर मिला था. एचपीई कंपनी के अलावा बीएसएनएल ने 250 करोड़ का टेंडर डाला था, लेकिन एचपीई कंपनी के पास स्मार्ट सिटी बनाने का अनुभव नहीं होने के बावजूद उसे टेंडर मिल गया. इस टैंडर के मिलने से छह दिन पहले ही कोलकाता में एचपीई कंपनी और पीडब्ल्यूसी कंसलटेंट कंपनी के बीच एक साथ काम करने का करार हुआ था. पीडब्ल्यूसी कंसलटेंट कंपनी के सीनियर अधिकारी विवेक अग्रवाल के बेटे वैभव हैं.

बहरहाल, विवेक अग्रवाल की शिकायत को लेकर ईओडब्ल्यू के प्रभारी डीजी सुशोभन बनर्जी ने न्यूज़ 18 से चर्चा की थी. हालांकि विवेक अग्रवाल के समर्थन में आईएएस एसोसिएशन खुलकर सामने आया और उन्होंने सरकार को चिट्ठी लिखी. इस शिकायत की जांच चल रही है, लेकिन सरकार के दखल के बाद ईओडब्ल्यू कुछ भी कहने से बच रहा है.

जुलानिया ने अपनी बेटी को पहुंचाया फायदा!
आईएएस अधिकारी राधेश्याम जुलानिया पर जल संसाधन विभाग के अपर मुख्य सचिव रहते हुए अपनी बेटी लावन्या जुलानिया से जुड़ी कंपनी मैक्स मेंटाना को ठेका देने का आरोप है. पिछले 7 साल में जुलानिया का अधिकांश समय जल संसाधन विभाग में बीता है. आरोप है कि जिस समय जुलानिया का विभाग हैदराबाद की कंपनी मैक्स मेंटाना को करोड़ों के ठेके दे रहा था, उसी दौरान जुलानिया की बेटी लावन्या जुलानिया ने हैदराबाद में इस कंपनी में महत्वपूर्ण पद पर नौकरी ज्वाइन की थी. फिलहाल ईओडब्ल्यू मैक्स मेंटाना कंपनी पर एफआईआर दर्ज कर चुकी है. कंपनी की भूमिका और विभाग से सांठगांठ को लेकर जांच भी चल रही है.

कांग्रेस बनाम भाजपा
Loading...

इस मामले पर मध्‍य प्रदेश के विधि मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि कोई भी अफसर या राजनेता हो, किसी को छोड़ा नहीं जाएगा. जबकि बीजेपी प्रदेश प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल का कहना है कि सरकार बदनाम और मानहानि का काम कर रही है. यदि जांच में सबूत है, तो कार्रवाई की जाए. बीजेपी पहले भी ई-टेंडर को लेकर अपना पक्ष रख चुकी है. इन दो अफसरों के अलावा भी ई-टेंडर में दर्ज एफआईआर के आधार पर पांच विभाग घोटाले के लिए जिम्मेदार हैं. ऐसे में उन विभागों के जिम्मेदारों की भूमिका की भी जांच ईओडब्ल्यू कर रही है.

ये भी पढ़ें-
पति की हत्या कर घर में दफन किया शव, कब्र के ऊपर चूल्‍हा बना कर पकाती रही खाना

CEO प्रेरणा सिंह ने पेश की मिसाल, ढाई साल की बेटी का आंगनवाड़ी में कराया दाखिला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 22, 2019, 9:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...