होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

इमरजेंसी के दौरान मीडिया सेंसरशिप पर कमलनाथ का बड़ा बयान, बोले- हां हमने लगाई थी लेकिन...

इमरजेंसी के दौरान मीडिया सेंसरशिप पर कमलनाथ का बड़ा बयान, बोले- हां हमने लगाई थी लेकिन...

BHOPAL NEWS. भोपाल में एक कार्यक्रम में कमलनाथ ने कहा लोकतंत्र में मीडिया को निष्पक्ष रहना जरूरी है. मीडिया को जो मदद हो वो खुली होनी चाहिए.

BHOPAL NEWS. भोपाल में एक कार्यक्रम में कमलनाथ ने कहा लोकतंत्र में मीडिया को निष्पक्ष रहना जरूरी है. मीडिया को जो मदद हो वो खुली होनी चाहिए.

Bhopal news. भोपाल में पुस्तक विमोचन के एक समारोह में कमलनाथ ने इमरजेंसी का जिक्र कर दिया. उन्होंने कहा हमने तो घोषित सेंसरशिप लगाई थी. हम अघोषित सेंसरशिप नहीं लाये थे. लेकिन आज के दौर में क्या स्थिति है सब समझ रहे हैं ? लोकतंत्र को मजबूत रखने के लिए इससे हमें सावधान रहने की जरूरत है.

अधिक पढ़ें ...

भोपाल. इमरजेंसी के दौरान मीडिया पर सेंसरशिप (media censorship) पर मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष कमलनाथ ने सेंसरशिप के जिन्न को बाहर निकालते हुए बड़ा बयान दिया है. विधानसभा में एक किताब के विमोचन के दौरान मीडिया की निष्पक्षता पर बोलते हुए कमलनाथ ने इमरजेंसी का जिक्र कर दिया. उन्होंने कहा हमने तो घोषित सेंसरशिप लगाई थी. हम अघोषित सेंसरशिप नहीं लाये थे. लेकिन आज के दौर में क्या स्थिति है सब समझ रहे हैं ? लोकतंत्र को मजबूत रखने के लिए इससे हमें सावधान रहने की जरूरत है.

कमल नाथ ने सरकारों की ओर से मीडिया को होने वाली फंडिंग पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा मीडिया को 70% रेवेन्यू सरकार से आता है. ऐसा भारत के अलावा किसी देश में नहीं होता. लोकतंत्र में मीडिया को निष्पक्ष रहना जरूरी है. मीडिया को जो मदद हो वो खुली होनी चाहिए.

शिवराज ने दिया जवाब
पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के संबोधन के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के संबोधन की बारी आई. शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना काल मे पत्रकारों के योगदान का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बयान पर भी निशाना साधा. उन्होंने कहा मेरा मानना है सेंसरशिप घोषित या अघोषित दोनों ही नहीं होनी चाहिए. इसके बाद उन्होंने बात को ज्यादा तूल न देते हुए कहा मैं आज इस विषय में ज्यादा नहीं जाना चाहता.

क्या था मौका ?
मध्यप्रदेश विधानसभा के मानसरोवर सभागार में वरिष्ठ पत्रकार देव श्रीमाली की किताब ‘बिछड़े कई बारी-बारी’ का विमोचन कार्यक्रम रखा गया था. यह किताब कोरोना काल में रिपोर्टिंग के दौरान संक्रमित होकर दिवंगत हुए पत्रकारों की याद में लिखी गई है. किताब के विमोचन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान , पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ, विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के अलावा मीडिया जगत से जुड़ी हुई तमाम बड़ी हस्तियां मौजूद थीं.

Tags: Emergency 1975, Indira Gandhi, Kamal nath

अगली ख़बर